BSP सुप्रीमो मायावती ने राज्यसभा से दिया इस्तीफा , पर कर बैठी एक भूल


BSP सुप्रीमो मायावती ने पहले धमकी और अब राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया है जी हाँ , BSP सुप्रीमो मायावती ने आज को राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है ।

आपको बता दे कि इससे पहले उन्होंने राज्यसभा में अपनी बात रखने के लिए ‘पर्याप्त समय’ नहीं मिलने के विरोध में इस्तीफे की धमकी दी थी। और आज BSP सुप्रीमो राज्यसभा में सहारनपुर हिंसा पर बोल रही थीं। बस इस दौरान उपसभापति पीजे कुरियन ने BSP सुप्रीमो मायावती से अपनी बात समाप्त करने को कहा।

वही इस पर नाराज होकर BSP सुप्रीमो मायावती ने कहा कि जिस सदन में उन्हें बोलने नहीं दिया जा रहा है इसलिए उसका सदस्य रहने का उन्हें कोई हक नहीं है। BSP सुप्रीमो मायावती कहा कि अगर उन्हें सदन में बोलने की इजाजत नहीं दी गई तो वह राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे देंगी। यह कहकर मायावती सदन से वॉक आउट कर गईं।

उन्होंने राज्यसभा के बाहर निकलने पर BSP सुप्रीमो मायावती ने कहा, इस देश के करोड़ों दलितों, शोषित, पिछड़ों, मजदूरों, किसानों, मुस्लिमों के हित को देखकर और जो सहारनपुर में दलितों के साथ उत्पीड़न हुआ है। उसके चलते मैं अपने पद से इस्तीफा दे रही हूं। उन्होंने कहा कि जब मैं अपने समाज की बात सदन में नहीं रख सकती हूं तो मैं सदस्य बनकर क्या करूंगी।

वही BSP सुप्रीमो मायावती ने ये भी कहा कि मैं जैसे ही सदन में कुछ कहने के लिए खड़ी हुई तो सारे मंत्री खड़े हो गए और मुझे बोलने नहीं दिया। सत्ता पक्ष मुझे अपना पक्ष नहीं रखने नहीं दिया इसलिए मैं इस्तीफा दे रही हूं। उन्होंने कहा कि मैंने डिटेल में इस्तीफा सभापति को भेज दिया है।

आपको बता दे कि BSP सुप्रीमो मायावती का ये भी कहना है कि UPA और अन्य विपक्ष के नेताओं ने उनसे रिक्वेस्ट की थी कि वह अपने पद से इस्तीफा ना दे क्योंकि वह मजबूती से अपनी आवाज उठाती हैं। अगर वह इस्तीफा देंगी तो दलितों की आवाज कौन उठाएगा। BSP सुप्रीमो मायावती ने बताया कि विपक्ष का इस बात के लिए धन्यवाद भी कहा है ।

आज BSP सुप्रीमो मायावती ने इस्तीफे देते वक्त एक भूल कर दी । जिसमे नियम के मुताबिक इस्तीफे के साथ न ही कोई कारण बताया जाता है और न ही उस पर कोई सफाई दी जाती है. यानी कोई भी संसद सदस्य इस्तीफा देते वक्त इस्तीफा देने का कारण त्यागपत्र में नहीं लिख सकता। आपको बता दे की ये पहले बार नहीं है जब ऐसा हुआ हो । सिद्धू और अमरिंदर कर चुके ये गलती । जानिए –

सिद्धू का इस्तीफा भी हुआ था नामंजूर

रोड रेज की घटना में दोषी पाए जाने के बाद 2006 में तत्कालीन लोकसभा सांसद नवजोत सिंह सिद्धू ने अपनी सदस्यता से इस्तीफा दिया था । मगर सिद्धू का इस्तीफा तत्कालीन लोकसभा स्पीकर सोमनाथ चटर्जी ने नामंजूर कर दिया था । जिसके बाद सिद्धू ने दोबारा बिना कोई कारण बताए अपना त्यागपत्र स्पीकर को दिया जिसे मंजूर कर लिया गया ।

कैप्टन अमरिंदर का इस्तीफा भी नहीं हुआ था नामंजूर

नवंबर 2016 में सुप्रीम कोर्ट ने सतलुज यमुना लिंक (SYL) नहर पर निर्माण कार्य जारी रखने का फैसला दिया था । इस फैसले से नाराज होकर तत्कालीन कांग्रेस सांसद कैप्टन अमरिंदर सिंह लोकसभा स्पीकर को अपना इस्तीफा भेज दिया था । कैप्टन अमरिंदर ने अपने त्यागपत्र में इस्तीफा देने के कारण की व्याख्या भी की थी जिसके उपयुक्त न मानते हुए मंजूर नहीं किया गया था ।

Choose A Format
Poll
Voting to make decisions or determine opinions
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals
List
The Classic Internet Listicles
Video
Youtube, Vimeo or Vine Embeds
Thanks for loving our story. Like our Facebook page to get more stories.