दलाई लामा ने खींची स्वामी रामदेव की दाढ़ी


देश और दुनिया की दिग्गज हस्तियों ने मुंबई में आयोजित वर्ल्ड पीस एंड हारमनी कॉन्क्लेव में जुटकर शांति का संदेश दिया। कॉन्क्लेव में धर्म गुरु दलाई लामा और बाबा रामदेव की बीच खूब हंसी-मजाक भी हुआ। दलाई लामा ने अपने संबोधन के दौरान बाबा रामदेव को अपने पास बुलाकर उनकी दाढ़ी पकड़ ली। साथ ही बाबा रामदेव ने मंच पर अपनी योग कला का प्रदर्शन भी किया।

मुस्लिम धर्म गुरु कल्बे सादिक ने कार्यक्रम में कहा कि बाबरी केस का फैसला अगर हिन्दुओं के पक्ष में आता है तो मुस्लिम समुदाय इसे खुशी से स्वीकार करेगा। साथ ही फैसला अगर मुसलमानों के पक्ष में आता है तो उन्हें विवादित जमीन हिन्दुओं को दे देनी चाहिए।

कल्बे सादिक के इस बयान पर कॉन्क्लेव में मौजूद केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि मौलाना ने यह बयान देकर हमारा दिल जीत लिया। हर्षवर्धन ने कहा कि भगवान राम ना हिन्दू थे ना मुस्लिम, वह तो भारत की आत्मा हैं।

वही, बाबा रामदेव ने संबोधन के दौरान भारत-चीन सीमा विवाद का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि चीन शांति में विश्वास नहीं रखता अगर ऐसा होता तो दलाई लामा भारत में नहीं होते।

रामदेव ने कहा कि हम योग की भाषा में बात करते हैं लेकिन अगर किसी को यह भाषा नहीं समझ आती तो उसे युद्ध की भाषा में जवाब देना भी हमें आता है।