गोरक्षा मुद्दे पर जेटली ने कहा किसी को भी कानून हाथ में लेने का हक नहीं


jaitley

गोरक्षा के नाम पर देश में लोगों की जाने ली जा रही है, इसी मुद्दे पर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि किसी को भी कानून हाथ में लेने का हक नहीं है। अगर ऐसा कोई करता है तो उसकी निंदा के साथ गिरफ्तारी भी होनी चाहिए। सदन में वित्त मंत्री ने बताया कि गोरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी करने वालों के खिलाफ खुद प्रधानमंत्री और गृहमंत्री सख्त लहजे में चेतावनी दे चुके हैं। उन्होंने कहा कि गोरक्षा के नाम पर किसी को कानून के साथ खिलवाड़ नहीं करने दिया जाएगा। दलित पर जो अत्याचार हो रहे हैं, ऐसे मामलों में कार्रवाई के लिए पर्याप्त कानून हैं। उन्होंने कहा कि दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। सरकार इसके लिए पूरे तरीके से प्रतिबद्ध है।

अरुण जेटली ने आरोप लगाया कि कांग्रेस ‘बीफ पॉलिटिक्स’ खेल रही है। उन्होंने कहा कि लिंचिंग की घटनाओं का राजनीतिकरण बंद होना चाहिए। अरुण जेटली ने कहा कि अगर किसी राज्य में गोहत्या पर प्रतिबंध है और वहां ऐसी गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाता है, तो वो गलत है। इस दौरान अरुण जेटली ने कुछ घटनाओं से पूरी दुनिया में भारत की छवि बिगड़ने का भी जिक्र किया। जेटली ने बताया कि दिल्ली विधानसभा चुनाव से कुछ दिन पहले जुलूस निकाले गए कि चर्च पर अटैक हो रहे हैं। जिसका दुनिया के अंदर प्रचार हो गया कि भारत में चर्च पर अटैक किए जा रहे हैं। अरुण जेटली ने कहा कि कुछ घटनाओं पर ऐसा रिएक्ट नहीं करना चाहिए।