‘चुनावी मिशन नहीं देश के लिए मिशन बनेंगे’


नई दिल्ली: दो दिन के दिल्ली प्रवास पर आए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के दिल्ली प्रवास का समापन हो गया है। दूसरे दिन प्रदेश कार्यालय में अमित शाह ने दिल्ली में प्रकल्पों और विभागों के प्रमुखों से चर्चा की। इसके आलावा कोर ग्रुप से भी बातचीत की। प्रवास समापन पर कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि हमारे कार्यकर्ता देश के लिए चुनावी मशीन नहीं बल्कि देश में सांस्कृतिक राष्ट्रवाद एवं अन्त्योदय मिशन के लिए काम करें। इसके मद्दे नजर संगठन की कार्यपद्धति को बदला गया है और इसके तहत 19 विभाग एवं 10 प्रकल्प बनाए गए हैं, जिसके तहत अब संगठन चलाया जाएगा। अमित शाह ने नवगठित विभागों एवं प्रकल्पों के पदाधिकारियों उनको दिए गए दायित्वों के महत्व को बताया। उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओं को दिया गया दायित्व स्वप्रचार का अवसर नहीं जनसेवा करने की चुनौती है। उन्होंने कहा कि ये विभाग एवं प्रकल्प जहां संगठन को सुचारू रूप से चलाने का माध्यम बनेंगे वहीं ये सरकार की नीतियों के लाभ जनता तक पहुंचाने में भी काम आएंगे।

शाह ने कहा कि पार्टी को सांस्कृति राष्ट्रवाद एवं अन्त्योदय जैसे सिद्धांतों को सर्वोपरि मानते हुए संगठन की कार्यपद्धति में किए गए इस बदलाव को पार्टी का संकल्प बताया है। उन्होंने कहा कि इस बदलाव के माध्यम से पार्टी 11 करोड़ कार्यकर्ताओं का एक ऐसा संगठन बने जिसका लक्ष्य सामाजिक, सांस्कृतिक एवं भारतीयता से ओतप्रोत हो तभी यह एक मिशन बन पाएगा। इसको लेकर पार्टी संगठन महामंत्री रामलाल, विभाग प्रमुखों को प्रखर योजनाओं के साथ विभाग चलाने पर जोर दिया। प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने इसे पार्टी में स्वर्णिम सूत्रपात करार देते हुए कहा कि देश के लिए भाजपा का हर एक कार्यकर्ता काम आ जाए और इस काम की शुरुआत सक्षम रूप से हो चुकी है, जो किसी भी पार्टी के लिए ऐतिहासिक कदम है।