‘एक लाख करोड़ रुपये मासिक तक हो सकता है GST से संग्रहण’


gst

वित्त मंत्रालय के अधिकारियों का मानना है कि करापवंचन रोकने के विभिन्न उपायों के लागू होने के बाद जीएसटी से होने वाला राजस्व संग्रहण अगले वर्ष के आखिर तक एक लाख करोड़ रुपये मासिक हो सकता है। सरकार टेक्स आंकड़ों का मिलान व ई-वे बिल जैसी पहल कर रही है ताकि किसी भी तरह की कर-चोरी को रोका जा सके। अधिकारियों के अनुसार जीएसटी रिटर्न फाइलिंग प्रक्रिया पूरी तरह स्थिर होने के बाद विश्लेषण व जोखिम प्रबंधन महानिदेशालय (डीजीएआरएम) जोर शोर से काम करना शुरू कर देगा ताकि जीएसटी दाखिल करने वाले लोगों द्वारा दिए गए आंकड़ों का उनके आईटीआर से मिलान किया जा सके।

सरकार ने एक अप्रैल से शुरू हो रहे वर्ष 2018-19 में जीएसटी से 7.44 लाख करोड़ रुपये मिलने का बजटीय अनुमान लगाया है। मौजूदा  वर्ष आठ महीनों जुलाई फरवरी में अनुमानित संग्रहण 4.44 लाख करोड़ रुपये रहा। मार्च संग्रहण अप्रैल में आएगा जो कि नये वित्त वर्ष 2018-19 की शुरुआत होगी। अधिकारियों का कहना है कि अगले वर्ष के लिए राजस्व अनुमान काफी सतर्कता से लगाए गए हैं और सरकार द्वारा उठाए गए प्रवर्तन कदमों के आधार पर ये अधिक भी रह सकते हैं।

जीएसटी का कार्यान्वयन एक जुलाई 2017 से किया गया। पहले महीने में इससे 95000 करोड़ रुपये मिले जबकि अगस्त में यह राशि 91,000 करोड़ रुपये, सितंबर में 92,150 करोड़ रुपये, अक्तूबर में 83,000 करोड़ रुपये, नवंबर में 80,808 करोड़ रुपये व दिसंबर में 86,703 करोड़ रुपये रही। दिसंबर 2017 तक 98 लाख कारोबारी इकाइयों ने जीएसटी के तहत पंजीकरण करवाया। अधिकारी ने कहा, ‘हम जल्द ही जीएसटी रिटर्न में दिखाए गए कारोबार का आयकर विभाग के यहां दाखिल आयकर रिटर्न से मिलान शुरू करेंगे। यह काम अगले वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में शुरू होगा।’ उन्होंने कहा कि एक बार ये पहलें लागू होने के बाद जीएसटी राजस्व औसत एक लाख करोड़ रुपये मासिक हो ही जाएगा।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यहां क्लिक करे।

Choose A Format
Poll
Voting to make decisions or determine opinions
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals
List
The Classic Internet Listicles
Video
Youtube, Vimeo or Vine Embeds
Thanks for loving our story. Like our Facebook page to get more stories.