रामलला की नगरी अयोध्या बनेगी विश्व धरोहर


नई दिल्ली: अयोध्या की रामलला नगरी विश्व धरोहर के तौर पर प्रतिष्ठित होगी। रामभक्तों के लिए सुखद खबर है कि विश्व धरोहर नगरी घोषित करने के लिए यूनेस्को द्वारा जो दस मानक निर्धारित है। अयोध्या उन पर लगभग खरी उतरती नजर आ रही है। बताया जाता है कि इस मुहिम के सूत्रधार अवध विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. मनोज दीक्षित, बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में भूगोल विभागध्यक्ष प्रो. राना, पीवी सिंह व यूनेस्को की इकाई इंटरनेशनल काउंसिल ऑन मान्यूमेंटेंस एंड साइड के शोध छात्र सर्वेश के प्रयास यदि सफल रहे तो अहमदाबाद के बाद वल्र्ड हेरिटेज सिटी के रूप में अयोध्या दूसरा शहर हो जाएगा। बताया जाता है कि अयोध्या में कनक भवन, हनुमानगढ़ी और वाल्मीकि रामायण भवन जैसे मंदिर यूनेस्को के मानक में फिट बैठते हैं। श्री रामलीला महासंघ के प्रधान सुखवीर शरण अग्रवाल ने उम्मीद जताई है कि रामलला की जन्मभूमि विश्व की आकर्षक नगरी के रूप में विकसित होगी।

वल्र्ड हेरिटेज सिटी के दस मानक मारे गए हैं। इसमें शामिल हैं जैव विविधता, पारिस्थितिकी, प्राकृतिक सुंदरता, जीवंत परम्परा व अमूर्त धरोहर, सांस्कृतिक उत्तर जीविता, परम्परागत निवास स्थाल, भूदृश्य एवं वास्तु की उत्कृष्टता, सांस्कृतिक परम्परा की प्राचीनता एवं निरंतरता, के अलावा मानव रचनात्मकता का उत्कृष्ट प्रतिनिधित्व व वास्तुकला एवं स्मारकों में निहित मानव मूल्य। पौराणिक परम्परा के अनुसार लाखों वर्ष पूर्व महाराज मनु के समय से ही नगरी की ऐतिहासिकता का प्रवाहमान है। यदि आधुनिक इतिहास की दृष्टि से देखें तो भी नगरी प्राचीनतम नौवीं शताब्दी ईसा पूर्व से प्रमाणित है। सर्वाधिक अहम गुप्तार घाट से बिल्व हरिघाट के बीच करीब 30 किलोमीटर की परिधि में सरयू से तीन ओर से अवेष्टित रामनगरी की अवस्थिति है।

सरयू के जमथरा तट से लेकर संत तुलसीदास घाट तक सर्वे के दौरान सेटेलाइट से अयोध्या का जो भूदृश्य प्राप्त हुआ वह नौका की शक्ल में है और यह चित्र अयोध्या के संस्थापक माने जाने वाले मनु की उस परम्परा को जीवंत करता है जिसमें पुराण बताते हैं कि जल प्रलय के दौरान मनु विशाल नौका के साथ अयोध्या के तट पर पहुंचे थे। समझा जा रहा है कि परिस्थिति तंत्र एवं जैव विविधता के फलक पर रामनगरी को अनदेखा करना कठिन है। यूनेस्को में इस मामले में मंथन चल रहा बताया जाता है। यदि पासा सही बैठा तो रामलला मंदिर निर्माण से ही पूर्व भाजपा-राजग सरकार के दौरान अयोध्या विश्व धरोहर घोषित हो जाएगी।

– दिनेश शर्मा

Choose A Format
Poll
Voting to make decisions or determine opinions
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals
List
The Classic Internet Listicles
Video
Youtube, Vimeo or Vine Embeds
Thanks for loving our story. Like our Facebook page to get more stories.