विरोध के लिए केजरी ने लिया कार्टून का सहारा


बात-बात में केंद्र सरकार और उपराज्यपाल से उलझने वाले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लगता है कि अपने विरोध का रास्ता बदल लिया है और अब इसके लिए वह कार्टून का सहारा लेते दिख रहे हैं। जी हां, केजरीवाल ने आज अपने ट्विटर अकाउंट पर एक कार्टून पोस्ट किया है। कार्टूनिस्ट यूसुफ के बनाए इस कार्टून में एक हाथ में मुख्यमंत्री ने तख्ती पकड़ रखी है जिस पर लिखा है ‘पार्टी घोषणा पत्र’ दूसरे हाथ में एक फाइल पकड़ी हुई है जिस पर ‘दिल्ली’ लिखा हुआ है। कार्टून में केजरीवाल के दोनों पैर बेड़ियों से जकड़े हुए हैं। बेड़ियों को घुमाकर एक गुच्छे के रूप में दिखाया गया है, उस पर लिखा है,’काम में बाधा, दुष्प्रचार, फर्जी आरोप, जांच, धमकी’।

ऐसा लगता है कि कार्टून के जरिए केजरीवाल यह बताने का प्रयास कर रहे है कि मुख्यमंत्री दिल्ली में काम करने को लेकर गंभीर और चिंतित हैं किन्तु उनके काम करने में रोड़े अटकाए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री के इस ट्वीट पर लोगों ने खूब चुटकी भी ली है। एक ने लिखा है कि ‘यह चित्र अधूरा है, सर इस चित्र में कपिल मिश्रा को भी होना चाहिये था, आपका इंटरनल लोकपाल सुझाते हुए। इसी शख्स ने आगे लिखा है, ‘पैरों में इतनी जंजीरें बंधी हुई हैं, फिर भी फिल्म देखने पहुंच जाता है नटवर लाल’। अमित मेहता नाम के व्यक्ति ने लिखा है,’व्हाट इज केजरीवाल बायोडाटा, बायोडाटा इज टू ब्लेम एवरीवन अदरदैन हिमसेल्फ’। नीरज ने लिखा है, ‘असफल व्यक्ति अपने नकारेपन के लिए दूसरों को दोषी ठहराता है’। विवेक गुप्ता ने संभवत: केजरीवाल के दर्द को समझते हुए लिखा है,’मोदी और भाजपा का असली चेहरा यही है’। इसके अलावा और भी बहुत से लोगों ने अरविंद केजरीवाल के कार्टून को लेकर तंग कसे हैं।