डीसी ने किया रेलवे स्टेशन का निरीक्षण


गुरुग्राम: गुरुग्राम रेलवे स्टेशन का आधुनिकीकरण करने और मौजूदा सुविधाओं को बेहत्तर बनाते हुए इसको अपग्रेड करने के उद्देश्य को लेकर आज उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने रेलवे तथा जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ संयुक्त रूप से रेलवे स्टेशन का निरीक्षण किया। दिल्ली-जयपुर-अहमदाबाद रेलवे लाईन पर स्थित होने के कारण गुरुग्राम की रेलवे कनैक्टिविटी अच्छी है, जिसका प्रतिदिन हजारों यात्री लाभ उठाते हैं और प्रात:काल व सांयकाल के दौरान गुरुग्राम का रेलवे स्टेशन यात्रियों की भीड़ से खचाखच भरा रहता है। हजारों यात्री प्रतिदिन रेलवे के माध्यम से गुरुग्राम से दिल्ली तथा अन्य स्थानों पर आवाजाही करते हैं।

प्रतिदिन यात्रियों की संख्या काफी ज्यादा है। उपायुक्त को रेलवे के मण्डल अभियंता एम के कामरा ने बताया कि पैसेंजर तथा एक्सपै्रस ट्रेनों को मिलाकर गुरुग्राम रेलवे स्टेशन पर प्रतिदिन लगभग 50 ट्रेनों का हाल्ट होता है। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार और रेल मंत्रालय ने गुरुग्राम रेलवे स्टेशन के मौजूदा इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार करने का निर्णय लिया है। इस रेलवे स्टेशन को पब्लिक प्राईवेट पार्टनरशिप आधार पर अपग्रेड करने ख्का प्रस्ताव है ताकि इसका विकास विश्व में गुरुग्राम की याति के अनुरूप किया जा सके। उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने रेलवे के अधिकारियों के साथ स्टेशन का मौका मुआयना किया और जिला प्रशासन के संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने रेलवे स्टेशन से दौलताबाद फलाईओवर तक स्टेशन पर उपलब्ध सुविधाओं का आंकलन किया और उन सुविधाओं को बेहत्तर बनाने के बारे में रेलवे अधिकारियों के साथ चर्चा की।

इस दौरान रेलवे स्टेशन का विस्तार करने, पीपीपी मॉडल पर कॉमर्शियल हब बनाने, लोगों के आवागमन के लिए रेलवे ओवर ब्रिज का निर्माण करने, स्टेशन की वर्तमान एंट्री को भव्य बनाने तथा चौमा रोड़ की तरफ दूसरी एंट्री बनाने आदि विषयों पर विचार विमर्श किया गया। इस निरीक्षण में उपायुक्त के साथ नगराधीश रोहित यादव, नगर निगम के तहसीलदार धर्मपाल, रेलवे के मण्डल अभियंता एन के कामरा, सीनियर सैक्शन इंजीनियर विमल वधवा, स्टेशन सुपरिटेंडेंट एसएल मीणा, लोक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता राजीव अग्रवाल, कार्यकारी अभियंता आर के मित्तल सहित जिला प्रशासन व रेलवे के अधिकारीगण उपस्थित थे।

– अरोड़ा,आर्य