1250 टन कचरे को निपटान को लेकर MOU


गुरुग्राम: गुरूग्राम-फरीदाबाद एकीकृत अपशिष्ट प्रबंधन परियोजना के अंतर्गत दोनों शहरों की सफाई व्यवस्था दुरूस्त करने एवं सॉलिड वेस्ट मैनेजमैंट प्लांट के संचालन हेतु हरियाणा सरकार द्वारा इकोग्रीन एनर्जी प्राईवेट लिमिटेड को कार्य अलॉट किया गया है। इसके तहत आज हुडा जिमखाना क्लब, सैक्टर-29, गुरूग्राम में एक एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए। यह एमओयू गुरूग्राम एवं फरीदाबाद नगर निगमों के बीच हुआ। इस अवसर पर शहरी स्थानीय निकाय विभाग के प्रधान सचिव आनन्द मोहन शरण ने बताया कि एकीकृत कचरा प्रबंधन गतिविधियों के साथ देश में अपनी तरह की यह सबसे बड़ी परियोजना है, जिसमें कचरे का उठान, ट्रांसपोर्टेशन, प्रसंस्करण और कचरे के निपटान के साथ-साथ कचरे से बिजली बनाने का संयंत्र स्थापित करना भी शामिल है। इस परियोजना एवं संयंत्र को राष्ट्रीय ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) और सॉलिड वेस्ट मैनेजमैंट नियमों के अंतर्गत सभी मानदंडों, नियमों और निर्देशों के अनुसार विकसित किया जाएगा। यह परियोजना शहरी स्थानीय निकायों के लिए स्थाई शहरी बुनियादी ढ़ांचे का निर्माण करने में मदद करेगी।

उन्होंने बताया कि यह परियोजना गुरूग्राम और फरीदाबाद शहरों की नगर निगम सीमा के भीतर सभी आवासीय, वाणिज्यिक और औद्योगिक प्रतिष्ठानों, व्यक्तियों या समूहों सहित विभिन्न कचरा पैदा करने वालों से ठोस कचरा एकत्रित करके उसका परिवहन, प्रसंस्करण और निपटान करने में मदद करेगी। परियोजना के तहत कार्य करने वाली इकोग्रीन एनर्जी प्राईवेट लिमिटेड ठोस कचरे से रिफ्यूज ड्राईव्ड फ्यूल (आरडीएफ) और कंपोस्ट को अलग करेगी और आरडीएफ को बिजली उत्पादन के लिए उपयोग में लाया जाएगा। इस दैनिक कचरे के प्रसंस्करण के अलावा, बंधवाड़ी लैंडफिल साईट के मौजूदा कचरे की प्रक्रिया भी की जाएगी। श्री शरण ने बताया कि निजी-सार्वजनिक भागीदारी (पीपीपी) आधार पर तैयार होने वाली इस परियोजना की क्षमता गुरूग्राम और फरीदाबाद दोनों शहरों से रोजाना निकलने वाले 1200 टन कचरे को एकत्रित, परिवहन, प्रसंस्करण और निपटान करने की होगी।

इस पर 330 करोड़ रूपए से अधिक की राशि निवेश की जाएगी तथा यहां पर आरडीएफ से प्रतिदिन 10 मेगावाट ऊर्जा (बिजली) बनेगी। इस मौके पर गुरूग्राम के नगर निगम आयुक्त वी. उमाशंकर ने बताया कि गुरूग्राम और फरीदाबाद, दोनों नगर निगम इस परियोजना के विकास के लिए आवश्यक जमीन उपलब्ध करवाने के लिए सहमत हैं, जिसमें कचरा संग्रहण, ट्रांसफर स्टेशन, प्रोसैसिंग यूनिट और सैनिटरी लैंडफिल स्थापित करना शामिल है। एमओयू के एक हिस्से के रूप में नगर निगम फरीदाबाद ने ठोस कचरा प्रबंधन परियोजना के कार्यान्वयन से संबंधित सभी मामलों मे प्रतिनिधित्व करने के लिए उपयुक्त और कानूनी तौर पर गठित प्रतिनिधि के रूप में गुरूग्राम नगर निगम को नामित और प्राधिकृत किया है। इस अवसर शहरी स्थानीय निकाय विभाग हरियाणा के प्रधान सचिव श्री आनन्द मोहन शरण, फरीदाबाद की मेयर सुमन बाला, सीनियर डिप्टी मेयर देवेन्द्र चौधरी, डिप्टी मेयर मनमोहन गर्ग, नगर निगम गुरूग्राम के आयुक्त श्री वी. उमाशंकर एवं फरीदाबाद नगर निगम की आयुक्त श्रीमती सोनल गोयल, गुरूग्राम के अतिरिक्त निगमायुक्त वाई एस गुप्ता, संयुक्त निगमायुक्त अलका चौधरी सहित दोनों नगर निगमों के अधिकारीगण उपस्थित थे।

– सतबीर, अरोड़ा