अमरनाथ यात्रियों का पहला जत्था रवाना, आतंकी हमले की चेतावनी


जम्मू- कश्मीर में सालाना होने वाली अमरनाथ यात्रा आज से शुरू हो रही है। जैसा की हम जानते है कुछ दिन पहले आतंकियों ने यात्रा दौरान हमले की चेतावनी दी थी। इस चेतावनी को मद्देनजर रखते हुए प्रशासन ने सैटेलाइट ट्रैकिंग सिस्टम शामिल करने के साथ ही सुरक्षा पैमाने को उच्चतम स्तर पर पहुंचा दिया है। कड़े सुरक्षा प्रबंधों के बीच बाबा अमरनाथ की वार्षिक यात्रा के लिए बुधवार सुबह श्रद्धालुओं का पहला जत्था जम्मू से पहलगाम व बालटाल के लिए रवाना हो गया है।

                                                                                                   Source

इस दौरान जम्मू-कश्मीर के उपमुख्यमंत्री निर्मल सिंह ने जम्मू बेस शिविर से अमरनाथ यात्रा के पहले बैच को करीब सुबह साढ़े चार बजे झंडी दिखाई। बता दें कि अमरनाथ यात्रा 29 जून यानी गुरुवार से शुरू हो रही है। यह 40 दिन लंबी तीर्थयात्रा जम्मू से होगी शुरू होगी। जम्मू से गुफा तक का रास्ता 200 किलोमीटर की दूरी पर है। अमरनाथ की पवित्र गुफा दक्षिणी कश्मीर के पहाड़ी क्षेत्र में स्थित है।

                                                                                                Source

इस यात्रा के लिए 2.30 लाख यात्रियों ने पंजीकरण कराया है। पहले दिन राज्यपाल एनएन वोहरा, अमरनाथ श्राइन बोर्ड के सीईओ उमंग नरूला व अन्य अधिकारियों के साथ पवित्र गुफा में पूजा-अर्चना करेंगे। जम्मू में यात्रा के आधार शिविर यात्री निवास भगवती नगर में देशभर से श्रद्धालु पहुंच चुके हैं। यात्रा को लेकर श्रद्धालुओं में काफी उत्साह है।

                                                                                            

                                                                                              Source

कश्मीर में मौजूदा हालात को देखते हुए यात्रा के लिए सुरक्षा प्रबंध काफी ठोस किए गए हैं। दोपहर साढ़े तीन बजे तक यात्रियों के वाहनों को हर हाल में जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर जवाहर टनल को पार करना होगा। यात्री वाहनों के साथ सीआरपीएफ व पुलिस के दस्ते चलेंगे। हाईवे पर भी चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त रहेंगे।

                                                                                               Source

पुलिस महानिरीक्षक मुनीर खान द्वारा सेना, सीआरपीएफ और राज्य के कई डीआईजी को एक खत लिखा है, जिसमे उन्होंने कहा है कि ”एसएसपी अनंतनाग से प्राप्त किए गए खुफिया इनपुट के मुताबिक आतंकवादियों को 100 से 150 श्रद्धालुओं और करीब 100 पुलिस अधिकारियों की हत्या करने को कहा गया है।” महानिरीक्षक ने खत में कहा है, ”इनपुट को एचयूएमआईएनटी (हयूमन इंटेलिजेंस) के तौर पर देखा गया है और आगे इसकी पुष्टि की जरूरत है।”

                                                                                               Source

उन्होंने कहा कि इस स्तर पर किसी आतंकवादी संगठन द्वारा हमले की संभावना को खारिज नहीं किया जा सकता है। खत में कहा गया है, ”यात्रा दस्ते पर हमला गोलीबारी के रूप में हो सकता है, जिससे देश में सांप्रदायिक तनाव फैल सकता है।” ये खत वाट्सएप्प ग्रुप में भी शेयर हो रहे हैं। उन्होंने खत में यह भी पूछा है कि किसकी कॉपी लीक होकर सोशल मीडिया में वायरल हो रही है। जम्मू-कश्मीर के डीजीपी एसपी वैद ने कहा है कि किसी ने लोगों में घबराहट पैदा करने के लिए इसे फैलाया है।

पुलिस, सेना, बीएसएफ और सीआरपीएफ को मिलाकर यहां 35,000 से 40,000 सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। सीआरपीएफ के विशेष महानिदेशक एस एन श्रीवास्तव ने कहा कि इस यात्रा को किसी भी घटना से बचाने के लिए सबसे बड़ा सुरक्षा तंत्र स्थापित किया गया है। खुफिया चेतावनी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ”मैं सार्वजनिक रूप से इस पर बात करना नहीं चाहूंगा लेकिन आप कश्मीर की स्थिति को जानते हैं। हमने खुफिया इनपुट के आधार पर मापदंड बनाए हैं और सुरक्षा का सही इंतजाम किया है।”

Choose A Format
Poll
Voting to make decisions or determine opinions
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals
List
The Classic Internet Listicles
Video
Youtube, Vimeo or Vine Embeds
Thanks for loving our story. Like our Facebook page to get more stories.