कश्मीर में विरोध-प्रदर्शनों से जनजीवन प्रभावित


jammu kashmir curfew

जम्मू & कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच कल मुठभेड़ में आतंकवादी संगठन अल-कायदा के’जाकिर मूसा ‘ नामक गुट के 3 आतंकवादियों के मारे जाने के बाद विरोध-प्रदर्शनों के कारण सामान्य जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया।

पुलवामा जिले के त्राल में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच कल हुई एक मुठभेड़ में 3 आतंकवादियों के मारे जाने के बाद कई लोग सड़कों पर उतर आये और प्रदर्शन करने लगे। सुरक्षाबलों ने घटनास्थल की ओर बढ़ रहे प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए लाठीचार्ज किया जिसका उन पर कोई असर नहीं हुआ।

अधिकारियों ने बताया कि प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित करने के लिए सुरक्षाबलों को आंसू गैस के गोले दागने पड़े और पैलेट गन का इस्तेमाल करना पड़ा जिससे एक किशोर मोहम्मद युनूस की मौत हो गयी।

सोशल मीडिया पर अफवाहों को फैलने से रोकने के लिए जिले में मोबाइल एवं इंटरनेट सेवाओं को निलंबित कर दिया गया है। इसी बीच, पुलवामा के जिला अधिकारी ने एहतियात के तौर पर सभी शिक्षण संस्थानों को बंद करने के निर्देश दिए हैं।

मुठभेड़ के बाद क्षेत्र में हुए विरोध प्रदर्शन के कारण व्यापारिक एवं अन्य गतिविधियां भी प्रभावित हुई हैं। सड़कों से यातायात भी नदारद रहा हालांकि, किसी भी संगठन ने हड़ताल की घोषणा नहीं की है।