कश्मीर घाटी में हड़ताल से जनजीवन प्रभावित


श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर में प्राधिकारियों ने श्रीनगर के कई इलाकों में कथित तौर पर सुरक्षा बलों की गोलीबारी में 3 युवकों के मारे जाने के विरोध में अलगाववादियों द्वारा आहूत हड़ताल के मद्दनेजर विरोध-प्रदर्शनों को रोकने के लिए आज सुबह से कर्फ्यू जैसी पाबंदियां लागू कर दी गई और सुरक्षा बलों ने दक्षिणी कश्मीर में राज्य पुलिस के 6 जवानों की हत्या के लिए जिम्मेदार लश्कर ए तैयबा के आतंकवादियों की तलाश के लिए व्यापक अभियान छेड़ दिया है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि दक्षिण कश्मीर के कुलगाम, पुलवामा और पम्पोर में भी कर्फ्यू लगाया गया हैं। उन्होंने बताया कि पुलिस के विशेष अभियान दल और CRPF के जवानों ने पुलिसकर्मियों पर हमले के जिम्मेदार आतंकवादियों की तलाश के व्यापक अभियान छेड़ा है हालांकि अब तक उन्हें कोई कामयाबी नहीं मिल पाई है। सूत्रों ने बताया कि श्रीनगर के पुराने इलाके में स्थित एम आर गंज, नौहट्टा, खानयार, रैनावाड़ी और सफा कदल के पांच थाना क्षेत्रों में धारा 144 के तहत पाबंदियां लगाई गई हैं।

सुरक्षा बलों और राज्य पुलिस के जवानों ने सभी सड़कों को कंटीले तारों से बंद कर दिया है और लोगों को अपने-अपने घरों के भीतर रहने के निर्देश दिए जा रहे हैं। चट्टाबल से खानयार की ओर जाने वाले मुख्य नल्लामार मार्ग को भी बंद कर दिया गया है और किसी को भी आवागमन की अनुमति नहीं दी जा रही है। एस के इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज की ओर जाने वाली ईदगाह रोड को खुला रखा गया है लेकिन केवल मरीजों को ले जा रहे वाहनों और एंबुलेंस को पूरी जांच के बाद आगे जाने दिया जा रहा है।

                                                                                           Source

नल्लामार मार्ग के दोनों तरफ के निवासियों ने आरोप लगाया है कि इस इलाके में तैनात सुरक्षा बल उन्हें घर से बाहर निकलने की अनुमति नहीं दे रहे हैं। सुरक्षा बलों के एक जवान ने कहा, “हमें किसी को भी घर से बाहर नहीं निकलने देने और पाबंदियों का सख्ती से पालन करवाने के निर्देश मिले हैं।” अन्य इलाकों में भी इसी तरह की पाबंदियां लागू हैं। ऐतिहासिक जामिया मस्जिद को बंद कर दिया गया है। उसके मुख्य द्वार बंद कर दिए गए हैं और जामिया बाजार में सुरक्षा बलों के जवान तैनात हैं।

जामिया मस्जिद अलगाववादी संगठन हुर्रियत कांफ्रेंस के उदारवादी धड़े के अध्यक्ष मीरवाइज मौलवी उमर फारूक का गढ़ है और वह हर जुमे को नमाज के बाद लोगों को संबोधित करते हैं। सूत्रों ने बताया कि घाटी में आज सभी ट्रेनों का परिचालन रद्द कर दिया गया है। श्रीगनर-अनंतनाग, काजीगुंड से बनिहाल तक की सभी रेल सेवाएं कल से बंद हैं। घाटी में हिंसा के मद्देनजर आज श्रीनगर-बडगाम से बारामूला तक की रेल सेवाएं भी स्थगित कर दी गई है।