उत्पादन लागत मूल्य कम करने का फार्मूला, सरकार को नहीं बताऊंगा


सतना: पूर्व केंद्रीय मंत्री और लोकसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिधिया ने कहा कि उनके पास कृषि उत्पादन लागत मूल्य कम करने का फार्मूला है, लेकिन वह उसे सरकार को नहीं बताएंगे। मध्यप्रदेश के सीधी जिले के चुरहट में आज होने वाली किसान महापंचायत में शामिल होने के लिए यहां पहुंचे श्री ङ्क्षसधिया ने संवाददाताओं से चर्चा के दौरान ये बात कही। इसके पहले उन्होंने केन्द्र और प्रदेश सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि दोनों सरकारें मिलकर किसानों का गला घोंट रही है।

किसानों की आत्महत्या के लिए सीधे तौर पर केंद्र व राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए उन्होंने कहा कि देश व प्रदेश के खजाने पर पहला हक अन्नदाता का है लेकिन ना तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी किसानों की सुध ले रहे हैं और ना ही शिवराज ङ्क्षसह चौहान सरकार किसानों की चिन्ता कर रही है।

श्री ङ्क्षसधिया ने कहा कि मौजूदा सरकार ‘सूट-बूटÓ वालों की सरकार है इसीलिये किसानों को उत्पादन लागत मूल्य के आधार पर फसल की उचित कीमत नहीं मिल रही हैं। उन्होंने मनमोहन ङ्क्षसह सरकार को किसान हितैषी बताते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री श्री ङ्क्षसह ने किसानों के 72 हजार करोड़ रुपए के कर्ज माफ कर दिए थे, लेकिन वर्तमान प्रधानमंत्री और प्रदेश के मुख्यमंत्री खजाना बचाने में लगे  हुए हैं।