जीएसटी पर महाराष्ट्र विधानसभा का विशेष सत्र


मुंबई: तीन दिवसीय विशेष सत्र शुरू होगा राष्ट्रीय स्तर पर जीएसटी की शुरूआत के लिये मार्ग प्रशस्त करने के इरादे से महाराष्ट्र विधानसभा में वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) 2017 पर चर्चा लिये। राज्य कैबिनेट द्वारा मंजूर ‘महाराष्ट्र जीएसटी विधेयक’ मसौदा को इसी सत्र में सदन के पटल पर रखा जायेगा। विधेयक में राज्य के स्थानीय स्व-सरकारी निकायों की आर्थिक शक्तियों एवं स्वायत्तता के संरक्षण की मांग की गयी है।

कार्यवाही पूर्वाह्न 11 बजे शुरू

-पूर्व मंत्री ए .टी पवार और पूर्व विधायक यशवंत पाटिल तथा दयाराम कपगते को श्रद्धांजलि देने के लिये विधानसभा में शोक प्रस्ताव रखा जायेगा।

– पूर्व एमएलसी गजेंद्र ऐनापुरे के निधन पर विधान परिषद में शोक प्रस्ताव रखा जायेगा।

– महाराष्ट्र ने अगस्त 2016 में जीएसटी संवैधानिक संशोधन विधेयक अनुमोदित किया था।

-छह अप्रैल को संसद ने चार जीएसटी विधेयकों को पारित किया था और एक जुलाई से जीएसटी की ओर बढऩे की दिशा में अब सभी राज्यों को इसे अनुमोदित करना होगा।

-भाजपा की असंतुष्ट सहयोगी शिवसेना ने जीएसटी पर संदेह जताते हुए दलील दी थी कि समूचे देश में एक कर प्रणाली की शुरऊआत से निकाय संस्थाओं द्वारा संग्रह किये जाने वाले चुंगी जैसे स्थानीय कर निष्प्रभावी हो जायेंगे।

– 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा में भाजपा के 122 और शिवसेना के 63 सदस्य हैं।

जीएसटी की शुरुआत से चीनी खरीद कर, केंद्रीय बिक्री करों में राज्य का हिस्सा, वाहनों के प्रवेश एवं अन्य राज्यों में वस्तु निर्माण पर शुल्क, लॉटरी कर, चुंगी तथा स्थानीय निकाय कर जैसे कई राज्य कर समाप्त हो जायेंगे।
-भाषा