त्रिपुरा के राज्यपाल के रोहिंग्या मुसलमानों पर ट्वीट से विवाद


त्रिपुरा के राज्यपाल तथागत राय ने ट्वीट कर रोहिंग्या मुसलमानों के भारत में पुनर्वास का विरोध किया है जिससे एक नया विवाद खड़ा हो गया है।श्री राय के ट्वीट से विवाद काफी बढ़ गया है। उनके ट्वीट को लेकर विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े लोगों ने उनकी आलोचना की है। तमाम आलोचनाओं के बावजूद श्री राय अपने रुख पर कायम हैं। वह रोहिंग्या मुसलमानों के मामले में पिछले कुछ दिनों से लगातार ट्वीट कर रहे हैं।

इस मामले पर श्री राय ने ट्वीट कर कहा, ”बंगलादेश अथवा कोई भी मुस्लिम देश रोहिंग्या मुसलमानों को शरणार्थी के रूप में स्वीकार नहीं कर रहा है। लेकिन भारत तो एक महान धर्मशाला है और उसे रोहिंग्या मुसलमानों को स्वीकार कर लेना चाहिए। और यदि आप न कहते हैं तो आप अमानवीय हैं।”

श्री राय ने तत्कालीन पूर्वी पाकिस्तान में हिन्दुओं पर हुए अत्याचारों एवं नरसंहार का जिक्र करते हुए इस मसले पर एक के बाद एक ट्वीट करना जारी रखा।भारतीय जनता पार्टी ने राज्यपाल के बयान पर कोई टिप्पणी करने से इंकार कर दिया है जबकि कांग्रेस और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने श्री राय के ट्वीट की आलोचना करते हुए उन पर अपने पद का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया है।वामपंथी राजनेताओं और बुद्धिजीवियों ने रोहिंज्ञा मुसलमानों के भारत में पुनर्वास का खुलकर समर्थन किया है।