राष्ट्रपति चुनाव की तैयारियां पूरी, ‘राम’-‘मीरा’ आमने-सामने


नयी दिल्ली : देश के सर्वोच्च संवैधानिक पद के लिये सोमवार को होने वाले चुनाव की सभी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं जिसमें राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद और विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार के बीच सीधा मुकाबला है। राष्ट्रपति चुनाव के निर्वाचक मंडल में विभिन्न दलों की स्थिति देखी जाये तो विपक्ष की ‘मीरा’ पर राजग प्रत्याशी ‘राम’ (नाथ) का पलड़ा भारी नजर आ रहा है। श्री कोविंद को सत्तारूढ़ राजग के साथ-साथ जनता दल यू, बीजू जनता दल (बीजद), अन्नाद्रमुक, तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) सहित कई छोटे दलों का भी समर्थन मिलता दिख रहा है, जबकि श्रीमती कुमार के पक्ष में कांग्रेस के अलावा 16 अन्य दलों का समर्थन मिला है।

दोनों उम्मीदवार दलित समुदाय से है
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने अप्रत्याशित फैसले में दलित समुदाय के नेता और बिहार के पूर्व राज्यपाल श्री कोविंद के नाम की घोषणा की तो विपक्ष ने भी इसी समुदाय का उम्मीदवार उतारने का फैसला किया और श्रीमती कुमार के नाम पर सहमति बनी। श्री कोविंद को उम्मीदवार बनाकर श्री मोदी ने विपक्ष में भी दरार पैदा कर दी। बिहार में महागठबंधन की सरकार का नेतृत्व कर रहे जनता दल यू ने श्री कोविंद को समर्थन देने का फैसला किया।

सभी विधानमंडलों में मतदान सुबह 10 से शाम 5 बजे तक होगा
राष्ट्रपति चुनाव के लिए संसद भवन के अलावा सभी राज्यों के विधानमंडलों में मतदान सुबह 10 बजे से शाम पांच बजे तक होगा। संसद के कक्ष संख्या 62 में मतदान होगा। राज्यों में भी चुनाव की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। सांसदों के मतपत्र हरे रंग और विधायकों और विधान पार्षदों के मतपत्र गुलाबी रंग के हैं। मतों की गिनती 20 जुलाई को पूर्वाह्न 11 बजे शुरू होगी। राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा है। नवनिर्वाचित राष्ट्रपति 25 जुलाई को अपना पद भार संभालेंगे।

कोविंद के पक्ष में 62% , मीरा के पक्ष में 34% वोट हैं
राष्ट्रपति का चुनाव ‘इलेक्टोरल कॉलेज’ द्वारा किया जाता है, जिसमें देश के सांसद एवं विधायक मतदान करते हैं। राष्ट्रपति चुनाव में कुल वोट के 48 फीसदी वोट राजग के पास हैं। इनमें से 40 फीसदी वोट केवल भाजपा का है। दूसरी तरफ अन्नाद्रमुक के पांच फीसदी, बीजद के तीन प्रतिशत, टीआरएस के दो फीसदी, जद यू के दो फीसदी से कम और वाईएसआर कांग्रेस और इंडियन नेशनल लोकदल (आईएनएलडी) दोनों के मिलाकर दो फीसदी वोट हैं। इन सभी के मिलाकर 14 फीसदी वोट हैं। इन पार्टियों ने भी राजग प्रत्याशी को समर्थन देने का फ़ैसला किया है। ऐसे में श्री कोविंद के पक्ष में 62 फीसदी से अधिक वोट हैं, जबकि कांग्रेस और उसके सहयोगियों के पास महज 34 फ़ीसदी वोट हैं।

राष्ट्रपति चुनाव में हैं कुल 10,98,903 वोट
राष्ट्रपति चुनाव में कुल वोट 10,98,903 हैं। इन वोटों में 5,49,408 सांसदों के और 5,49,495 विधायकों के वोट हैं। राष्ट्रपति चुने जाने के लिए किसी भी उम्मीदवार को आधे से एक वोट अधिक होना चाहिए। आंकड़े बताते हैं कि भाजपा के पास 4,42,117, कांग्रेस के पास 1,61,478, तृणमूल कांग्रेस 63,847, तेलुगुदेशम पार्टी के 31,116, शिवसेना के 25, 893, समाजवादी पार्टी के 26,060, माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के 27,069 मत, बहुजन समाज पार्टी के 8,200, जद यू के 20,935 और राष्ट्रीय जनता दल के 18,796 मत हैं। द्रविड़ मुनेत्र कषगम के पास 18 हजार 352 मत, जबकि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के पास 15 हजार 857 मत हैं।

Choose A Format
Poll
Voting to make decisions or determine opinions
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals
List
The Classic Internet Listicles
Video
Youtube, Vimeo or Vine Embeds
Thanks for loving our story. Like our Facebook page to get more stories.