जालंधर की पनबस के साथ टक्कर में स्कूल बस चालक की मौत , कई यात्री हुए जख्मी


लुधियाना-जालंधर : आदमपुर के नजदीक कस्बा जंड सिंह स्कूल बस और पंजाब रोडवेज की बस के मध्य एक जोरदार टक्कर होने से स्कूल बस ड्राइवर की मोके पर ही मौत हो गई जबकि पनबस में सवार एक दर्जन के करीब यात्री भी जख्मी हुए है। इस हादसे में तीन जख्मियों की हालत गंभीर बताई जा रही है।

प्राप्त जानकारी अनुसार यह हादसा उस वक्त हुआ जब स्कूल बस चालक आज सुबह बच्चों को ले जाने के लिए जा रहा था तो होशियारपुर रोड़ पर सामने से तेजी से आ रही पनबस के साथ सीधी भिडंत हो गई। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक बस चालक मौके से फरार हो गया। गनीमत यह रहा हादसे के दौरान डीएवी पब्लिक स्कूल बस में कोई भी बच्चा उपस्थित नहीं था। फिलहाल पुलिस ने कारवाई करते हुए मामला दर्ज कर लिया है और मृतक स्कूल ड्राइवर जिसकी पहचान नकोदर वासी परमजीत सिंह के रूप में हुई है, की लाश को कब्जे में लेकर पंचनामा करते हुए सिविल अस्पताल भेज दिया है।

जबकि दूसरी तरफ आज नाभा से मालेरकोटला जा रही सरकारी बस गांव कुलारा नजदीक एक तेज रफ्तार कार को बचाते हादसे का शिकार हो गयी जो बेकाबू होकर पेड़ से जा टकराई जिसमे बैठे 12 यात्री गंभीर घायल जिन्हे इलाज के लिए सिविल अस्पताल दाखिल करवाया गया। जहां से तीन यात्रियों की हालत बिगडऩे पर पटियाला अस्पताल रेफर कर दिया गया।

नाभा के गांव क्लारा के नजदीक उस समय एक बड़ा हादसा घटा जब नाभा से मलेरकोटला की तरफ जा रही तेज रफ्तार बस आगे से आ रही एक कार को बचाते हुए संतुलन खो बैठे और सड़क किनारे कई पेड़ों से जा टकराई। हादसे के दौरान बस चालक की टांगों पर गहरी चोट आई और उसके इलावा 12 के करीब यात्री गंभीर रूप से घायल हो गए जिन्हें इलाज के लिए सिविल हॉस्पिटल नाभा लाया गया. हादसे के दौरान एक साइकिल चालक भी इस घटना की चपेट में आ गया. हादसे में घायल हुई महिला जसवीर कौर ने बताया कि की बस की रफ्तार बहुत तेज थी एकदम से कुछ भी पता नहीं चला पर बस पेड़ों से जा टकराई घायल यात्रियों को सिविल अस्पताल पहुंचाने वाले फार्मासिस्ट मुकेश वर्मा ने बताया की सड़क दुर्घटना में कई यात्री जख्मी हो गए थे ।

इसके अलावा बस ड्राइवर की टांग में काफी छोटे नहीं हैं जिनको सिविल अस्पताल पहुंचाया गया है हादसा काफी भयानक लग रहा था यहां देखने वाली खास बात यह भी है बस ड्राइवरों के ऊपर समय को लेकर काफी प्रेशर बना रहता है जिसके लिए उनका समय निर्धारित किया जाता है और उसी समय पर उनको अपने निर्धारित स्थान पर पहुंचना होता है जिसको लेकर ड्राइवर थोड़ी जल्दबाजी करते हैं और रफ्तार बढ़ा देते हैं।

– सुनीलराय कामरेड