मंदसौर में पीड़ित किसान परिवारों से मिलने रवाना हुए राहुल


मंदसौर : मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले पांच किसानों की मौत के बाद से ही हिंसा और तनाव की चपेट में है। राज्य में गुस्साएं प्रदर्शनकारियों ने मंदसौर, देवास, नीमच, धार और इंदौर सहित कई हिस्सों में लूटपाट, आगजनी, तोड़फोड़ और पथराव किया।

जिसके बाद मध्य प्रदेश के मंदसौर के लोगों का गुस्सा उबाल पर है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के आज को मंदसौर जाने की खबरें आ रही हैं हालांकि भारतीय जनता पार्टी ने  राहुल को वहां न जाने की सलाह दी है। हालांकि पूरे इलाके में सुरक्षाबलों की भारी तैनाती की गई है।

मध्य प्रदेश सरकार ने उपद्रवियों से निपटने के लिए केंद्रीय सुरक्षा बलों की 5 और कंपनियों की मांग की, जिसके बाद केंद्र ने 1100 दंगा विरोधी पुलिस बल मंदसौर भेजे हैं। सूत्रों के अनुसार राहुल गांधी आज फायरिंग में मारे गए किसानों के घरवालों से मिलेंगे। इस दौरान उनके साथ कांग्रेस सांसद कमलनाथ और मोहन प्रकाश के अलावा जेडीयू अध्यक्ष शरद यादव भी होंगे।

ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहना है कि मध्य प्रदेश के किसान शांतिप्रिय हैं वे किसी तरह की हिंसक गतिविधि में शामिल नहीं होते है। मंदसौर घटना के पीछे साजिश है।  तोमर का यह ये भी कहना है कि इस घटना के पीछे वे लोग हैं, जो राज्य में शांति और समृद्धि नहीं चाहते हैं और यह नहीं देख सकते कि राज्य की  भारतीय जनता पार्टी सरकार सुचार रूप से काम कर रही है।