क्षीर स्कैनर खोलेगा मिलावटी दूध का राज


नई दिल्ली : देश में हो रहे मिलावटी दूध से अब आपको डरने जरुरत नहीं क्योंकि अब मिलावटी दूध और इनसे बने उत्पादों की बड़े पैमाने पर बिक्री की समस्या से निजात दिलाने के लिए वैज्ञानिकों ने एक ऐसा उपकरण तैयार किया है जो मिलावटी दूध को कुछ ही मिनटों में स्कैन कर उसमें मौजूद जहरीले तत्वों की पहचान कर पता लगा लेगा कि ये मिलावटी है या नहीं । वैज्ञानिकों ने उपकरण को ‘क्षीर स्कैनर’ का नाम दिया गया है।

वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद ( CSIR ) और केन्द्रीय इलेक्ट्रानिक इंजीनियरिंग अनुसंधान संस्थान की पिलानी स्थित इकाई ने विकसित किया है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने आज यहां एक संवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी दी है।

इलेक्ट्रोकेमिकल पद्धति पर आधारित यह मशीन महज एक मिनट में मिलावटी दूध में यूरिया, नमक, डिटर्जेंट, तरल साबुन, बोरिक एसिड, कास्टिक सोडा और हाइड्रोजन पैरोक्साइड की पहचान कर सकता है। इस मशीन के एक सिरे में स्कैनर लगा है जिसे मिलावटी दूध के नमूने में डालते ही वह उसमें मौजूद जहरीले तत्वों की पहचान बता देता है। ये मिलावटी है या नहीं ।

इसे गावों और कस्बों मे दुग्ध सहकारी संस्थाओं कहीं भी आसानी से लगाया जा सकता है और दूध में हो रही मिलावट को रोका जा सकता है। क्षीर स्कैनर प्रौद्योगिकी को व्यावसायिक इस्तेमाल के लिए राजस्थान इलेक्ट्रानिक एंड इंस्ट्रूमेंट लिमिटेड और सूरत स्थित अल्पाइन टेक्नोलॉजी (REIL) को हस्तांतरित किया गया था। REIL की ओर से बनाई गई ऐसी करीब 200 मशीनें पंजाब, गुजरात, गोवा, राजस्थान, केरल और पश्चिम बंगाल की डेयरियों में लगाई गई है।

CSIR ने हाल ही में क्षीर स्कैनकर का एक छोटा संस्करण घरेलू इस्तेमाल के लिए भी बाजार में उतारा है। इसे क्षीर टेस्टर का नाम दिया गया है। इसमें एक ऐसा साफ्टवेयर है जो कहीं और जांच किए गए दूध के नमूने की जांच रिपोर्ट SMS के जरिए हासिल कर सकता है। CSIR क्षीर एनालाइजर के नाम से एक अल्ट्रासोनिक उपकरण भी विकसित कर रहा है। जो दूध में पानी, वसा, प्रोटीन और लैक्ट्रोज की मात्रा की जानकारी देगा।