अधिवक्ता की गिरफ्तारी पर हंगामा, लगाया जाम


एटा: पुत्र की शादी के मामले को लेकर लड़की पक्ष की शिकायत पर कोतवाली नगर पुलिस ने मंगलवार की रात एक अधिवक्ता को गिरफ्तार कर लिया। सूचना मिलने पर साथी अधिवक्ताओं ने कोतवाली का घेराव करते हुये हंगामा किया तथा जाम लगा दिया। जिलाधिकारी और एसएसपी तथा क्षेत्राधिकारी से शिकायत की, अधिकारियों के समझाने के बाद मामला शांत हुआ। हालांकि बाद में गिरफ्तार अधिवक्ता को पुलिस द्वारा छोड़ दिया गया। जानकारी के मुताबिक कोतवाली नगर के मोहल्ला कटरा निवासी भुवनेश्वर सिंह एडवोकेट का पुत्र सौरव बरेली जेल में बंदी रक्षक के पद पर तैनात है। उक्त जेल में तैनात बंदी रक्षक कुसुमलता की बेटी से सौरव की शादी तय हो गई थी। पुलिस के अनुसार शादी तय करने के समय वकील ने कुछ रुपये भी ले लिये थे।

लेकिन अब शादी करने से अधिवक्ता ने मना कर दिया। यह जानकारी लड़की पक्ष को हुई तो वे लोग 27 जून की रात एटा पहंुचे और कोतवाली पुलिस को अवगत करा दिया, चूंकि 28 जून को सौरव की दूसरी शादी सकीट क्षेत्र के किसी गांव से होनी है। पुलिस ने 27 जून की रात ही अधिवक्ता भुवनेश्वर को गिरफ्तार कर लिया। बुधवार को सुबह भुवनेश्वर की गिरफ्तारी की पता चलते ही अधिवक्ताओं में आक्रोश फूट पड़ा कचहरी के अधिवक्ता इकट्ठे हो गये और कोतवाली नगर पहंुचे, वहां पर कोतवाली का घेराव किया, जमकर हंगामा हुआ, जाम लगा दिया गया।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, क्षेत्राधिकारी से शिकायत की, जिलाधिकारी से शिकायत की गई, तब कहीं जाकर पुलिस ने भुवनेश्वर को छोड़ा। अधिवक्ता भुवनेश्वर का साथ देने वालों वकीलों में राकेश कुमार एडवोकेट, सुनील कुमार एडवोकेट, सतेन्द्र सिंह एडवोकेट, दिनेश सिंह, एडवोकेट, संदीप कुमार एडवोकेट, महेश चन्द्र एडवोकेट, प्रशांत कुमार पुंढीर एडवोकेट, मु. नईम अहमद एडवोकेट, महेश चन्द्र यादव एडवोकेट, नीरज यादव एडवोकेट, सोनवीर सिंह एडवोकेट, अनिल कुुमार एडवोकेट, रामखिलाडी सिंह एडवोकेट, उमेश चन्द्र यादव एडवोकेट, अरविन्द कुमार एडवोकेट, हरिओम शर्मा एडवोकेट, विमल प्रकाश एडवोकेट सहित सैकड़ों शामिल थे।