अयोध्या को विश्व स्तर के पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जायेगा


अयोध्या : उत्तर प्रदेश सरकार अयोध्या को धार्मिक नगरी के साथ-साथ विश्वस्तरीय पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिये 130 करोड़ रुपये खर्च करेगी। प्रदेश के प्रमुख सचिव पर्यटन अवनीश अवस्थी ने आज मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की नगरी अयोध्या के विभिन्न स्थानों का निरीक्षण करने के बाद अधिकारियों के साथ बैठक कर कहा कि धार्मिक नगरी को मूलभूत सुविधाओं से लैस कर अब विश्वस्तरीय पर्यटन नगरी के रूप में शीघ्र ही विकसित किया जायेगा।

श्री अवस्थी ने कहा कि गुप्तार घाट का 850 मीटर विकास करते हुए उद्यान विभाग के गेस्ट हाउस तक घाट बनाने के लिए करीब 36 करोड़ रूपये का खर्च आयेगा। उन्होंने बताया कि करीब 52 करोड़ रुपये की लागत से अयोध्या के 32 सड़कों का सुदृढ़ीकरण किया जायेगा। इसके अलावा विद्युत तारों को अण्डर ग्राउण्ड करने के लिये 42 करोड़ रुपये खर्च किये जायेंगे। प्रमुख सचिव पर्यटन ने बताया कि धार्मिक नगरी को विश्वस्तरीय पर्यटन के रूप में विकसित करने के लिये यह धनराशि प्राप्त हो चुकी है।

उन्होंने बताया कि पूरे अयोध्या में अण्डरग्राउण्ड तारों को डालने के साथ ही साथ दर्शननगर और भरतकुण्ड के लिए भी विकास कार्य होगा। उन्होंने बताया कि अयोध्या के विकास के साथ-साथ आने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षाएवं कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए दोनों थानों के अलग-अलग दो कंट्रोल रूम की  स्थापना, 48 स्थानों पर सीसीटीवी कैमरा लगाने एवं क्लोज सर्किट टीवी लगाने, वाच टॉवर की स्थापना और गुप्तार घाट तथा अयोध्या में स्थायी रूप से जल पुलिस, गोताखोर की व्यवस्था का प्रस्ताव तैयार कराकर जिलाधिकारी भेजेंगे।

प्रमुख सचिव ने बताया कि अयोध्या की गलियों, सड़कों और पार्कों को अमृतसर की तरह सुसज्जित करने की योजना है। उन्होंने बताया कि राम की पौड़ी पर स्थित मंदिरों का सौंदर्यीकरण भी कराया जायेगा। इस बैठक में फैजाबाद के सांसद लल्लू सिंह, अयोध्या विधानसभा के विधायक वेदप्रकाश गुप्ता, जिलाधिकारी फैजाबाद विवेक, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनन्त देव, अपर जिलाधिकारी नगर विंध्यवासिनी राय, एसडीएम सदर पंकज सिंह, क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी बृजपाल सिंह सहित विभिन्न अधिकारी मौजूद थे ।

– (वार्ता)