भाकपा ने उमा भारती के इस्तीफे की मांग की


लखनऊ : भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) की उथर प्रदेश इकाई ने बाबरी मामले में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती सहित 12 के खिलाफ सीबीआई अदालत के निर्णय का स्वागत करते हुए केंद्रीय मंत्री उमा भारती के इस्तीफे की मांग की है। भाकपा द्वारा यहां जारी बयान में पार्टी ने केंद्रीय मंत्री उमा भारती को मंत्रिमंडल से तत्काल हठाये जाने की मांग की है।

भाकपा के राज्य सचिव डा. गिरीश ने आज कहा कि संरक्षित ढांचे को ध्वस्त करने, राष्ट्रीय एकता को क्षति पहुंचाने और सांप्रदायिक दंगे भड़काने आदि आरोपों को अदालत द्वारा स्वीकार करने के बाद कई सवाल खड़े हो गये हैं। पहला क्या दिन रात कथित रुप से रामकाज में जुटी होने का दावा करने वाली उमा भारती नैतिकता का परिचय देते हुये केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा देंगी।

दूसरा, यदि नहीं तो शुचिता, नैतिकता और औरों से अलग पार्टी होने का प्रपोगंडा करने वाली भाजपा और उसके प्रधानमंत्री उनसे इस्तीफा लेंगे और तीसरा अपने प्रभाव और षडयंत्रों के बल पर संविधान के साथ धोखाधड़ी कर मंत्रिमंडलों में शामिल रहने वाले आडवाणी, जोशी, उमा भारती आदि के बारे में उचचतम न्यायालय स्वत: संज्ञान लेते हुये एक और अदालती कार्यवाही का निर्देश देगा।

भाकपा राज्य सचिव ने कहा कि आज भी भाजपा के नेता और प्रवक्ता बयान दे रहे हैं कि उन्होंने सीबीआई को औरों की तरह बंधक नहीं बनाया है। मगर सच तो यह है कि यह कार्यवाही उच्चतम न्यायालय के निर्देश के बाद हो रही है।

– (भाषा)