शिक्षामित्रों का भाजपा सांसद के आवास पर प्रदर्शन


बुलन्दशहर: शिक्षामित्रों का समायोजन रद्द किऐ जाने के फैसले को लेकर नाराज रविवार को जनपद के सैकडों की संख्या में शिक्षामित्रों ने भाजपा सांसद भोला सिंह के आवास पर जोरदार धरना प्रदर्शन कर अपना विरोध प्रकट किया। अपनी माॅंगों को एक ज्ञापन प्रधानमंत्री के नाम सासंद को दिया। छः दिन पूर्व सर्वोच्च न्यायालय ने शिक्षामित्र का समायोजन रद्द करने का फैसला सुनाया था। उसके बाद प्रदेश भर में शिक्षामित्रों में सर्वोच्च न्यायालय के इस फैसले के खिलाफ आक्रोश फैल गया है। तय कार्यक्रम के अनुसार शिक्षामित्र राजेबाबू पार्क काला आम पर एकत्र हुए और जूलूस की शक्ल में पैदल मार्च कर भाजपा के सासंद भोला सिंह के आवास की ओर को कूच कर गये। सासंद के आवास के सामने शिक्षामित्रों ने उमस भरी चिलचिलाती धूप में जोरदार धरना प्रदर्शन किया।

इससें पूर्व चिलचिलाती धूप में काला आम से यमुनापुरम तक पैदल मार्च करतें समय कई शिक्षामित्रों को चक्कर आ गया और कई की हालत खराब हो गयी। शिक्षामित्रों में सरकार के प्रति आक्रोष देखने को मिला उन्होने सूवे के मुख्यमन्त्री के खिलाफ नारे लगाये। शिक्षामित्रों के भाजपा सासंद भोला सिंह के आवास पर धरना प्रदर्शन करने की सूचना कों देखतें हुए सासंद के आवास को सुबह से ही छावनी में बदल दिया गया था। शिक्षामित्रों संघ के जिलाध्यक्ष संजय चैधरी ने कहा कि पिछलें कई सालों से शिक्षामित्रों ने स्कूलों में अपनी सेवाऐ देतें हुए अपने जीवन के अमूल्य वर्षो का छात्रों को पढा लिखाकर होनहार बनाकर राष्ट्र निर्माण में अपना योगदान दिया है तथा बाईस सौ रूपयें में शिक्षण कार्य करता था। जिससे की आने वाले समय में एक अच्छे राष्ट्र का निर्माण हो सके।

लेकिन अब सर्वोच्च न्यायालय के एक निर्णय ने पूरे प्रदेश के शिक्षामित्रों के सामने अर्थिक संकट गहरा गया है जिसके चलतें आज वह भूखों मरने के कगार पर है। उन्होने कहा कि अगर समायोजन वहाल नही होता है तो आने वाले समय में शिक्षामित्र उग्र आन्दोलन करने को वाधित होगे। उन्होने अनिश्चिितकाल के लिए आंदोलन छेडने की भी चेतावनी दी है। सर्वोच्च न्यायालय के फैसले से सरकार की उदासीनता के प्रति शिक्षामित्रों में काफी रोष व्याप्त है।

– त्रिलोक चन्द