बरसात से मौसम सुहाना लेकिन बाढ का खतरा बढा


लखनऊ: दक्षिण पश्चिम मानसून के सक्रिय होने से लगभग समूचे उत्तर प्रदेश में हो रही बरसात से मौसम सुहाना बना हुआ है हालांकि गंगा, शारदा और घाघरा नदियों के उफनाने से तटवर्ती इलाकों में बाढ का खतरा गहराने लगा है। मौसम विभाग के अगले 24 घंटे में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में भारी वर्षा के आसार व्यक्त किये है हालांकि गुरूवार को बारिश के मौजूदा दौर के थमने और अधिसंख्य क्षेत्रों में धूप खिलने का अनुमान है।

source

पिछले 24 घंटे में इलाहाबाद और गोंडा में मूसलाधार वर्षा हुयी जबकि वाराणसी, गाजीपुर,बरेली,बलिया, शारदा नगर, मुरादाबाद और कानपुर समेत कई हिस्सों में जोरदार बारिश से तापमान में चार डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट दर्ज की गयी। इस दौरान शहरी इलाकों में जलभराव के कारण जनजीवन प्रभावित हुआ। लगातार बरसात के चलते निचले इलाकों में बसी आवासीय बस्तियों में पानी घर के भीतर प्रवेश कर गया जिससे लोगों को छतों शरण लेनी पडी। इस अवधि में हुये वर्षा जनित हादसों में कम से कम चार लोगों की मृत्यु हो गयी और छह अन्य गंभीर रूप से घायल हो गये।

source

मौसम विभाग के मुताबिक इलाहाबाद में 13़ 9 सेमी वर्षा रिकार्ड की गयी जबकि गोंडा में 16़ 3 सेमी,गोरखपुर और सिद्धार्थनगर में सात सेमी, बलरामपुर में 6़ 8 सेमी,बरेली में 5़ 8 सेमी, मुरादाबाद में नौ सेमी, गाजीपुर में 3़ 5 सेमी, बाराबंकी में 6़ 1 सेमी, अयोध्या में 4़ 8 सेमी, वाराणसी में 3़ 2 सेमी, बलिया में 3़ 1 सेमी, रायबरेली में तीन सेमी, बिजनौर में 2़ 5 सेमी, पलियाकला मे 7़ 5 सेमी और शारदानगर में 10 सेमी बारिश हुयी। केन्द्रीय जल आयोग के सूत्रों ने बताया कि और बलिया में गंगा नदी के जलस्तर में बढोत्तरी हो रही है।

source

बिजनौर,मुरादाबाद और बरेली में रामगंगा बढाव पर है। सुल्तानपुर और जौनपुर में गोमती का पानी लगातार बढ रहा है जबकि पलियाकला और शारदानगर में शारदा नदी उफान पर है। बाराबंकी के एल्गिनब्रिज पर घाघरा चेतावनी बिंदु के करीब बह रही है। अयोध्या और बलिया के तुर्तीपार में भी घाघरा का जलस्तर पीले निशान को छू गया है।