डिग्री छीन खोला अस्पताल


हरिद्वार: पिरान कलियर में धोखाधड़ी का एक बड़ा मामला प्रकाश में आया है। यहां बिहार के एक डॉक्टर की डिग्री का इस्तेमाल कर दो लोगों ने फर्जी ढंग से एक अस्पताल खोल डाला। जब डॉक्टर अपनी डिग्री लेने के लिए अस्पाल पहुंचा तो संचालकों ने उसे बंधक बना लिया और डिग्री देने से इंकार कर दिया। फिलहाल पुलिस ने छापा मारकर डॉक्टर को बंधनमुक्त कराया, साथ ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। उक्त मामला भगवानपुर-इमलीखेड़ा रोड का है। जहां गोल्ड लाइफ के नाम से एक अस्पताल है। अस्पताल पर डॉ. ओपी शर्मा एमबीबीएस, एमडी का नाम लिखा हुआ है। लेकिन यह अस्पताल दूसरे डॉक्टर की डिग्री का फर्जी तरीके से इस्तेमाल करके खोला गया। इस बात का खुलासा तब हुआ जब बिहार के वैशाली जिले के पीरापुर जंदहा निवासी गौतम ने कलियर थाने पहुंचकर पुलिस को बताया कि चार दिन पहले उनका डॉक्टर दोस्त ओपी शर्मा गोल्ड लाइफ अस्पताल से अपनी डिग्री लेने के लिए आया था, लेकिन अस्पताल संचालकों ने उसकी डिग्री लौटाने के बजाय उसे ही बंधक बना लिया।

इस पर पुलिस क्षेत्राधिकारी स्वप्न किशोर ने कलियर एसओ देवराज शर्मा के साथ मिलकर अस्पताल में छापा मारा और डॉक्टर को बंधन मुक्त कराया। पुलिस ने अस्पताल संचालक दिलशाद निवासी दादूबांस थाना कलियर और फिरोज निवासी तेजलहेड़ा थाना छपार मुजफ्फरनगर को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं डॉक्टर ओपी शर्मा ने मामले की विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि एक साल पहले फिरोज और दिलशाद ने अस्पताल के लिए डॉक्टर की आवश्यकता का विज्ञापन निकाला था। इस पर वह नौकरी करने के लिए यहां पहुंचे। उन्होंने बताया कि दो महीने तक आरोपियों ने तय वेतन नहीं दिया, जिस पर डॉक्टर घर लौट गया। उसने कई बार अस्पताल संचालकों से अपनी डिग्री मांगी, लेकिन लेकिन वह आनाकानी करते रहे। इसके बाद उसके नाम से गोल्ड लाइफ अस्पताल ही खोल दिया। गत 14 जुलाई को वह अपने दोस्त के साथ आया था।

– संजय चौहान