मसूरी में लगे जाम से पर्यटक हलकान


मसूरी: पर्यटन सीजन के चलते वीक एंड पर पहाड़ों की रानी मसूरी पैक हो गई। एक ओर जहां पर्यटकों को कमरे नहीं मिले वहीं पूरे दिन व रात तक जाम से पर्यटकों व स्थानीय नागरिकों को जूझना पड़ा। जिसके कारण पर्यटक खासे परेशान रहे। मैदानी क्षेत्रों में बदन झुलसाती गर्मी से कुछ दिनों निजात पाने के लिए बड़ी संख्या में पर्यटकों का रूख मसूरी की ओर है, लेकिन मसूरी पैक होने व जाम लगने के कारण पर्यटकों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। शनिवार को तो जाम से बुरा हाल था पर्यटकों को पांच से छह घंटे तक जाम में फंसा रहना पड़ा। क्योंकि वीक एंड की भीड़ के साथ ही पर्यटकों की बड़ी संख्या में आमद हो जाने के कारण वाहनों के बड़ी संख्या में आ जाने के कारण जाम लग गया। और हालात बिगड़ते चले गये।

क्योंकि विधानसभा सत्र चलने के कारण अधिक पुलिस देहरादून तैनात की गई और यहां पर नये चेहरे रख दिए गये जिन्हें यहां की जानकारी ही नहीं थी। यह तो अच्छा है कि संत निरंकारी मंडल के स्वयंसेवक दिन रात चौराहों पर यातायात नियंत्रित करने लगे हैं। वरना पुलिस के भरोसे तो रहना बेकार है। क्योंकि पुलिस कर्मी निरंकारी स्वयंसेवकों के चलते अधिकतर समय आराम फरमाते नजर आते हैं और या तो मोबाइल पर पिक्चर देखने, गेम्स खेलने, व्हाइटस एप करने या फेस बुक करने में लगे रहते हैं। कई कई किमी लंबा जाम लग जाने के कारण पुलिस ने वाहनों को कार्ट मेंकंजी रोड़ की ओर डायर्बट कर दिया।

जिसके कारण पर्यटक हाथी पावं के इलाकों में जंगलों में भटकता रहा। वहीं इस मार्ग पर भी जाम लग गया क्यों कि मोती लाल नेहरू मार्ग से हाथी पांव की ओर जाने वाले मार्ग तथा कार्ट मेंकंजी रोड से हाथी पांव की ओर आने वाले वाहन आमने सामने आ जाने से जाम में फंस गये। पूरे शहर की बात करें तो जीरो प्वांइट से लेकर लाइब्रेरी, किंक्रेग, पिक्चर पैलेस, लंढौर, घंटाघर व आईटीएम चार दुकान तक कई किलोमीटर लंबा जाम लगा रहा। यही हाल मालरोड़ का भी रहा। जहां वाहन रेंगते हुए चलते रहे।

इससे पर्यटकों के भारी निराशा रही। वहीं दूसरी ओर कार्ट मेंकंजी रोड़ से यातायात डायबर्ट करने पर होटल एसोसिएशन ने ऐतराज जताया। होटल वालों का कहना था कि देहदादून की ओर से आने वाले पर्यटकों को कार्ट मेकंजी रोड की ओर डायबर्ट करना गलत है इससे पर्यटक भटक रहा है। अगर करना ही है तो वापस जाने वाले वाहनों को जीरो प्वाइंट से हाथी पावं होते हुए देहरादून की ओर डायबर्ट किया जाय।

– हरीश कालरा