गोलगप्पों का ऐसा सच जिसे जानकर आप भी खाना छोड़ देंगे गोलगप्पे


वैसे तो गोलगप्‍पे का नाम सुनते ही सबके मुंह में पानी आने लगता है। चटाखेदार मसाला पानी, उबले आलू मटर से भरे गोल-गोल गोलगप्पों खाना सभी को पसंद है चाहे वो छोटे बच्चे हो या बड़े दोनों को गोलगप्पे खाना पसंद है ये आटे से भी भी बनाये जाते है। और सूजी के भी ।

इन्हें अलग-अलग राज्य के लोग अलग-अलग नामों से जानते है। इन्हें कुछ लोग पानी पुरी, गुपचुप, फुचका और फुचकी भी कहा जाता है लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं, जिसे सुनकर शायद आप गोलगप्पे खाना छोड़ देंगे।

जैसा की आप जानते है कि हर गली मोहल्ले में बिकने वाले इस स्‍वादिष्‍ट गोलगप्पे को जिस आटे से तैयार किया जाता है उसे गूंथने के लिये काफी समय और मेहनत लगती है। इसे हाथों से गूंथना थोड़ा मुश्किल होता है इसलिए इसे बनाने वाले कुछ कारीगर इसे जमीन पर रखकर पैरों से गूंथते हैं।
साथ ही गोलगप्पों का लजीज स्‍वाद आपकी सेहत के लिए काफी हानिकारक भी हो सकता है। डीप फ्राई की हुई ये पूरियां आपके लिए पूरी तरह से नुकसानदायक हैं। क्‍योंकि इन्हें तलने के लिए बार-बार एक ही तेल का इस्‍तेमाल किया जाता है। इसके अलावा इसकी चटनी और पानी आपको पेट के लिये नुकसानदायक होते हैं। क्या अब भी आप गोलगप्पे खाना पसंद करेंगे।