कैसे रखें बरसात के मौसम में अपनी देखभाल


बरसात का मौसम आ गया है और आ गई हैं दिक्कते पैदा करने वाली कई किस्म की परेशानियां। इस मौसम में सबसे ज्यादा परेशानी ऑयली त्वचा वाले लोगों को होती है, क्योंकि चेहरे पर मुहांसे ज्यादा निकलते हैं। फोड़े-फुंसियां भी इस मौसम में त्वचा पर कई तरह के इंफेक्शन होने के कारण निकलती हैं। बालों में भी ऑयल ज्यादा निकलने के कारण बरसात के मौसम में कुछ लोगों को बाल गिरने की ज्यादा समस्या होती है, इसलिए इस मौसम में कैसे खुद को स्वस्थ रखें यह जानना जरूरी हो जाता है।

भोजन पर दें पूरा ध्यान

                                                                                                                             source

इन दिनों खानपान पर खास ध्यान देना चाहिए और ऐसी चीजें खानी चाहिए जो शरीर को ठंडक देने के साथ-साथ गर्म तासीर की हों और जिनमें नमक की पर्याप्त मात्रा हो। इस सीजन में आप कई तरह की सब्जियों का सूप ले सकते हैं। ओट्स से बनी रोटियां, जौ और दूसरे मोटे अनाज का आटा भी खाने में इस्तेमाल कर सकते हैं।

                      

                                                                                                            source

यह शरीर में पानी के स्तर को नियंत्रित रखता है। बारिश के मौसम में  जौ स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। इसके अलावा घर में बने भाप में पके मोमोज, रोस्ट , रोस्टेट दालें, पॉपकोर्न या घर में बनी भेलपुरी खायी जा सकती है। परवल, बींस, टिंडा, अरबी, लौकी जैसी सब्जियां खायी जानी चाहिए तथा ज्यादा कॉफी या चाय का सेवन नहीं करना चाहिए। इसकी जगह हर्बल टी, अदरक पाउडर या पोदीने, लौंग युक्त चाय पीना चाहिए।

बाहर का खाना

                                                                                                                               source

मानसून के दिनों में हवा में नमी की मात्रा बढ़ जाती है, जिसके कारण बैक्टीरिया पैदा होने के खतरे कई गुना बढ़ जाते हैं। इन दिनों बाहर के खाने के विषय में तो खासतौर पर सतर्क रहना चाहिए। रेस्टोरेंट के मेन्यू में केवल गर्म चीजों का ही चयन करें तथा बाहर की खुली चीजों को खाने से बचना चाहिए। अचार, चटनी और सॉसेज उनमें बैक्टीरिया पनपने की आशंकाएं रहती हैं, इसलिए उन्हें न खाएं। दूध और दूध से बने खाद्य पदार्थों को स्वच्छ व सुरक्षित रखें । पानी से पैदा होने वाली बीमारियां जैसे डायरिया और पेट का इंफेक्शन आम होता है, इसलिए भी पानी को उबालकर पीएं।

                   

                                                                         source

यदि पेट खराब हो जाए तो लगातार पानी पीते रहें ,नींबू पानी और नारियल पानी पीएं, क्योंकि इससे शरीर में नमक की मात्रा संतुलित रहती है। दस्त लगने पर नमक और चीनी को मिलाकर घोल तैयार करके इसे पीएं। मानसून में वायु में नमी की मात्रा बढऩे से शरीर में कफ बनने लगता है और इससे बचने के लिए एक कप दूध में आधा चम्मच हल्दी पाउडर डालकर दिन में तीन बार लेना चाहिए।  गला खराब हो जाए तो दिन में तीन बार नमक के पानी से गरारे करें।

त्वचा की देखभाल

                                                                                                             source

अपनी त्वचा की साफ-सफाई के लिए मूंग की दाल का पेस्ट तैयार करके उसे सप्ताह में दो बार लगाएं और अपनी त्वचा को प्राकृतिक रूप से साफ रखें। इन दिनों ज्यादा हैवी मॉइस्चराइजर युक्त क्रीम ,ऑयली फाउंडेशन ,क्रीम बेस्ड कलर मेकअप का इस्तेमाल न करें। गंदे पानी में न चलें, क्योंकि इससे पैरों में कई किस्म के फंगल इंफेक्शन हो सकते हैं। अपने पैरों को सूखा और साफ रखें। ध्यान रखें कुछ भी खाने से पहले अपने हाथों को अच्छी तरह से धोएं और बच्चों को खासतौर पर हाथ धोकर ही कुछ खाने के लिए समझाएं। सब्जियों और फलों को अच्छी तरह धोएं, क्योंकि उनमें मौजूद मिट्टी और बैक्टीरिया से किसी तरह इंफेक्शन हो सकता है। हरी पत्तेदार सब्जियों को जहां तक हो सके इस मौसम में खाने से बचें।

log in

reset password

Back to
log in
Choose A Format
Poll
Voting to make decisions or determine opinions
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals
List
The Classic Internet Listicles
Video
Youtube, Vimeo or Vine Embeds
Thanks for loving our story. Like our Facebook page to get more stories.

Send this to a friend