क्या आप कभी मंदिर गए हैं? नहीं गए, तो जाएं और देखें इसके फायदे


आप आस्तिक हों या नास्तिक लेकिन मंदिर में घुसने के साथ ही आपको जो शांति मिलती है उसे आप शब्दों में बयान नहीं कर सकते। मंदिर का पवित्र माहौल आपके अंदर सकारात्मकता का संचार करता है और आपको एक नई उर्जा प्रदान करता है। मंदिर में जाते हैं तो आपकी आत्मा और इंद्रियों को बहुत अधिक ऊर्जा प्राप्त होती है। अगरबत्ती-धूप की सुगंध, घंटियों की आवाज़ और मंत्रोच्चार का स्वर आपके शरीर को शांति प्रदान करता है।

Source

प्रार्थना के लिए जुड़े हुए हाथ और ईश्वर की स्मरण में बंद हमारी आंखें, हम हमारी सबसे बड़ी चिंताएं, डर और उम्मीदें उस सर्वशक्तिमान के हाथों में रख देते हैं, जिनपर हम भरोसा करते हैं। जिन समस्याओं के साथ हम आए थे, हम उन्हें भुलाकर फिर से निश्चिंत, खुश और संतुष्ट होकर मंदिर से निकलते हैं। कभी-कभी हमें आश्चर्य होता है कि मंदिर की यात्रा के बाद हम ऐसा क्यों महसूस करते हैं?

Source

हम मनुष्यों को 5 इंद्रियां मिली हैं और मंदिर में किए जानेवाले प्रत्येक अनुष्ठान जैसे- घंटी बजाने, कपूर जलाने, फूल चढ़ाने, तिलक लगाने और मंदिर की प्रदक्षिणा करने का मतलब है, हमारी इन सभी इंद्रियों को सक्रिय करना। एक बार इन सभी इंद्रियों के सक्रिय हो जाने के बाद, मानव शरीर मंदिर में मौजूद सकारात्मक ऊर्जा को ज़्यादा से ज़्यादा ग्रहण कर सकता है। ये प्रथाएं वास्तव में, हमारे शरीर में सभी 7 चिकित्सा केंद्रों को सक्रिय करती हैं।” इसमें कोई हैरानगी की बात नहीं है कि कई लोगों ने धार्मिक महत्व के स्थानों जैसे मंदिर, मस्जिद या चर्च में जाने के बाद पहले से बेहतर और ठीक होने की बात कही है।

हम मंदिर में नंगे पैर क्यों जाते हैं?

Source

आप चाहे उत्तर भारत से हों या दक्षिण भारत से, हमारे देश में किसी भी मंदिर के पवित्र क्षेत्र में जूते पहनकर जाने की मनाही है। दरअसल मंदिर के अंदर के क्षेत्र में चुंबकीय और विद्युत कंपन बहुत अधिक होता है। यहां तक कि मंदिर की फर्श भी इस तरह की होती है कि वह सकारात्मक ऊर्जा को अवशोषित कर पाती हैं। इसीलिए फर्श पर नंगे पांव चलने से आपके शरीर के माध्यम से आप सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त कर पाने में मदद होगी। यह कहना है विशेषज्ञों का जिनके अनुसार मंदिर में नंगे पैर चलना अपना अहंकार त्यागने का भी प्रतीक है।

मंदिर में घंटी बजाने के पीछे का सत्य

Source

मंदिर की घंटी सीसा, तांबे, कैडमियम, जस्ता और निकल जैसी धातुओं के संयोजन से बनती हैं। घंटी बजाने पर एक सुखद नाद उत्पन्न होता है जो आपको शांत करने में मदद करती है “जब आप मंदिर की घंटी बजाते हैं तो सुनने की शक्ति सक्रिय होती है।

मंदिर में कपूर क्यों जलाने का महत्व

Source

अक्सर आरती के दौरान आरती की थाली में कपूर या कैम्फर जलाया जाता है, क्योंकि यह आपकी दृष्टि को सक्रिय करती है। जब आरती की थाली हमारे सामने लाई जाती है, तो हम अपने हथेलियों को जलती हुई लौ पर रखते हैं। आरती लेने के बाद अपने हाथों से हमारे सिर या आंखों को छूते हैं, और हम उसकी ऊष्मा को अपने शरीर तक पहुंचाते हैं। ऐसा करने से, स्पर्श की हमारी भावना सक्रिय हो जाती है।

मंदिर में फूल इसलिए चढ़ाए जाते हैं

Source

हम लक्ष्मी को कमल चढ़ाते हैं तो गणेश जी को हिबिस्कुस का फूल चढ़ाते हैं। हमारे मंदिरों में यह आमतौर पर होता है। सुंदर रंगों और मीठी-सी खूशबू के साथ मिलकर हम अपने खराब मूड को ठीक कर सकते हैं।

तीर्थप्राशन का महत्व

Source

‘तीर्थम्’ या पवित्र जल, मंदिर में मूर्ति के सामने एक तांबे या चांदी के लोटे में रखा गया जड़ी-बूटियों, फूलों और शुद्ध पानी का मिश्रण है। इससे हमारी स्वाद की भावना सक्रिय होती है। तांबे जैसी धातुओं के बर्तन में पानी पीना सेहत के लिहाज से बहुत फायदेमंद होता है। पानी को 8 घंटे से अधिक समय या रातभर के लिए तांबे के बर्तनों में रखने और बाद में पीने से त्रिदोष (पित्त, वात और कफ) संतुलित करने में मदद हो सकती है। जब आप तीर्थम पीते हैं, तो जुकाम, खांसी और गले में खिचखिच जैसी समस्याएं कम हो जाती हैं।

प्रदक्षिणा क्यों की जाती है?

प्रार्थना पूरी हो जाने के बाद, मूर्ति या मंदिर के चारों तरफ घड़ी की दिशा में घूमना पड़ता है। इसे परिक्रमा या प्रदक्षिणा कहा जाता है। प्रदक्षिणा का शाब्दिक अर्थ है ‘दाहिनी ओर’। जब तक प्रदक्षिणा की जाती है, शरीर मूर्ति और मंदिर परिसर से अच्छी कंपन को अवशोषित करता है, और इस तरह अपने अच्छे स्वास्थ्य और मन की शांति प्राप्त करने का एक कार्य होता है।

Choose A Format
Poll
Voting to make decisions or determine opinions
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals
List
The Classic Internet Listicles
Video
Youtube, Vimeo or Vine Embeds
Thanks for loving our story. Like our Facebook page to get more stories.