अल्सर रोगियों के लिए रामबाण इलाज हैं ये घरेलू नुस्खे


आज हम आपको बताने जा रहे है पेट में अल्सर ( रोग ) से छुटकारा पाने के बारे में ! जी हाँ , जैसा कि आप सभी जानते है कि आज समय की कमी की वजह से ज्यादातर लोग बाहर के खानों या फ़ास्टफ़ूड पर निर्भर रहने लगे हैं। बाहर खाने की वजह से ज्यादातर लोगों को पेट से जुड़ी समस्याएँ होने लगती हैं। ऐसे ही पेट की एक गंभीर समस्या है अल्सर। जब अल्सर होता है तो पेट में छाले पड़ जाते हैं। अगर इसका सही समय पर इलाज नहीं किया जाता है । तो ये आगे चलकर बड़ी बीमारी का रूप ले सकता है ।

Source

बता दे कि पेट में अल्सर होने के लक्षण जिनसे आप जान सकते है इस बीमारी के बारे : –  हाइपर एसिडिटी होना अल्सर का प्रथम चरण हैं, कभी भी एसिडिटी को इग्नोर ना करे। यदि आपको बार-बार या लगातार आमाशय या पेट में दर्द हो तो अपने चिकत्सक की सलाह अवश्य लें क्योंकि अक्सर यही अल्सर के लक्षण होते हैं। अन्य लक्षणों में मितली आना, उल्टी आना, गैस बनना, पेट फूलना, भूख न लगना और वजन में गिरावट शामिल हैं।

पत्ता गोभी और गाजर को बराबर मात्रा में लेकर जूस बना लीजिए, इस जूस को सुबह-शाम एक-एक कप पीने से पेप्टिक अल्सर के मरीजों को आराम मिलता है।

Source

अल्सर के मरीजों के लिए गाय के दूध से बने घी का इस्तेमाल करना फायदेमंद होता है। गाय के दूध में एक चम्मच हल्दी डाल कर नित्य पीने से 3 से 6 महीने में कैसा भी अलसर हो, सही होते देखा गया हैं।

Source

आंतों का अल्सर होने पर हींग को पानी में मिलाकर इसका एनीमा देना चाहिये, इसके साथ ही रोगी को आसानी से पचने वाला खाना चाहिए।

Source

अल्सर होने पर एक पाव ठंडे दूध में उतनी ही मात्रा में पानी मिलाकर देना चाहिए, इससे कुछ दिनों में आराम मिल जायेगा।

छाछ की पतली कढ़ी बनाकर रोगी को रोजाना देनी चाहिये, अल्सर में मक्की की रोटी और कढ़ी खानी चाहिए, यह बहुत आसानी से पच जाती है।

Source

कच्चे केले की सब्जी बनाकर उसमें एक चुटकी हींग मिलाकर खाएं| यह अल्सर में बहुत फायदा करती है|

शहद पेट के अल्सर के रोग को दूर करता है । शहद में मौजूद ग्लूकोज पैराक्साइड पेट में मौजूद बैक्टीरिया को ख़त्म कर देता है। इसका नियमित सेवन करने से पेट के अल्सर से छुटकारा पाया जा सकता है।

अगर कोई अल्सर की समस्या से परेशान हैं तो उसे बादाम पीसकर खाने के लिए दें। बादाम खाते वक़्त इस बात का ध्यान रखें कि बादाम को अच्छी तरह चबाकर खाएं ताकि वह दूध की तरह बन जाए और आसानी से आपके पेट में चला जाए।