तंबाकू का सेवन हो सकता है जान लेेवा जनिए कैसे


तंबाकू सेहत के लिए बेहद हाानिकारक है दुनिया में तंबाकू की खपत दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है। तंबाकू की लत से लोग खुद को दूर नहीं कर पातें है। जबकि यह स्वास्थ्य के लिए नुकसान दायक होता है। तंबाकू के कारण कई लोगों की मौत हो जाती है। तथा वैश्विक स्तर पर यह देखा जाएं तो यह हर साल 70 लोगों की मौत तंबाकू के उपयोग की वजह से होती है जबकि इसमें कुछ लोग ऐसे है जो तंबाकू का इस्तेमाल नहीं करते लेकिन वह स्मोकिंग के शिकार बन जाते हैं। डब्ल्यूएचओ के रिपोर्ट की मानें तो दुनिया में 100 करोड़ लोग धूम्रपान करते हैं। जिसमें सिगरेट की खपत ज्यादा है। चिंता का विषय यह बन चुका है कि तंबाकू के सेवन से उम्र में लगातार कमी आती है ।

तंबाकू सेवन में लड़कियां अव्वल:-

वैश्विक वयस्क तंबाकू सर्वेक्षण गेट्स के इन आंकड़ों की मानें तो दिल्ली की करीब एक चौथाई आबादी किसी न किसी रूप में तम्बाकू का सेवन करती हैं। अंकों में यह संख्या करीब 30 लाख 73 हजार 632 लोगों का होता है। इसमें पुरुषों का प्रतिशत 48 और महिलाओं का प्रतिशत 20 है। वहीं 20 प्रतिशत अन्य महिलाएं सिगरेट या अन्य धुम्रपान उत्पादों का इस्तेमाल का शौख रखती हैं। सर्वे में जो चिंताजनक बात सामने आई वह ये कि पुरुषों की अपेक्षा महिलाएं कम उम्र में ही इसका सेवन शुरू कर देती हैं। यहां लड़कों में तम्बाकू प्रयोग की औसत आयु 17 साल है तो लड़कियों में 14 साल।

तंबाकू से होने वाले रोग:-

कैंसर, हार्ट अटैक, हाई ब्लड प्रेशर, मस्तिष्क आघात, हिमरेज, खून में थक्का जमना, टीबी, प्रजनन प्रणाली में अवरोध, बांझपन, नपुंसकता

तम्बाकू छोडऩे के टिप्स:-
-कुछ देर असर करने वाली निकोटिन थेरेपी जैसे निकोटिन गम, लोंजेजिज, नेजल स्प्रे या इन्हेलर

-शुगर लेस गम या कठोर कैंडी, गाजर, सूखे मेवे या सूरजमुखी के बीज चबाइए

-शारीरिक रूप स सक्रिय रहिए, सक्रियता से तम्बाकू की लत कम होती है

-उन परिस्थितियों में जब धुम्रपान की इच्छा अधिक करती है उनमे खुद को नियंत्रित करने की कोशिश करें।

तंबाकू के बुरे परिणाम

-8-9 लाख लोग हर वर्ष तंबाकू के सेवन से अपनी जान गवा देते हैं।

-इसके कारण रोजाना 2500 लोगों की मौत हो रही है।

-इनमें 50 प्रतिशत पुरुषों तो 25 प्रतिशत महिलाओं में कैंसर की शिकायत सामने आ रही है।

-धूम्रपान के चलते 85 प्रतिशत तक नपुंसकता हो रही है।

-प्रति दिन 2500 युवा इसकी ओर आकर्षित हो रहे हैं।

-300 सिगरेट पीना एक पेड़ कटने जितना बराबर होता है।
बातें गौर करने वाली

-सात लाख मौत हर वर्ष कैंसर से होती हैं।

-कैंसर के हर मरीज पर सरकार तीन लाख रुपए का खर्च करती है।

-भारत में कुल 350 रेडिएशन मशीन हैं मौजूद।

-एक हजार कैंसर के डॉक्टर भारत में है उपलब्ध।