दीघा में उठायें गोवा का आनंद, लीजिए लजीज समुद्री डिश का स्वाद


दीघा : यदि आपका शानदार और लजीज समुद्री डिश का स्वाद लेने का मन करे और अथाह सागर के किनारे बलखाती लहरों की प्रतिध्वनि एवं संगीत की धुन पर थिरकना चाहें तो अगली बार गोवा की बजाय जाकर दीघा का रूख करें। दीघा पश्चिम बंगाल ही नहीं, बल्कि अन्य राज्यों के लोगों के लिए भी एक लोकप्रिय वीकेंड टूरिस्ट डेस्टिनेशन है। कोलकाता से 187 मिलोमीटर पूर्वी मिदनापुर जिले में स्थित प्रसिद्ध सी बीच दीघा का टूर किसी शुक्रवार को शुरु कर रविवार अथवा सोमवार सुबह तक लौटा जा सकता है।

Source

दीघा को गोवा में बदलने और पर्यटकों को और अधिक आकर्षित करने के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की महत्वाकांक्षा को मूर्त रूप देने के उद्देश्य से दीघा विकास प्राधिकरण ने इस लोकप्रिय सी रिसोर्ट की खूबसूरती को नया आयाम देने के लिए श्रृंखलाबद्ध योजनाएं शुरु की है।

दीघा से उदयपुर तक केबल कार और टॉय ट्रेन शुरु करने की योजना
मुख्यमंत्री ने राज्य के पर्यटन विभाग, पर्यटन विकास निगम और दीघा शंकरपुर विकास प्राधिकरण(डीएसडीए) को इलाके के विकास के लिये आवश्यक कदम उठाए जाने के निर्देश दिए हैं। राज्य सरकार ने पश्चिम बंगाल-ओडिशा सीमा पर दीघा से उदयपुर तक केबल कार और टॉय ट्रेन लाइन शुरु करने की योजना बनाई है। इसके अलावा दीघा और मांडरमानी के बीच 20 किलोमीटर लंबी समुद्रतटीय मार्ग का निर्माण भी प्रस्तावित है।

Source

दीघा सी बीच पर सूर्योदय और सूर्यास्त दोनों का ही नजारों ले मजा
दीघा सी बीच पर सूर्योदय और सूर्यास्त दोनों का ही नजारा देखा जा सकता है। बंगाल की खाड़ी के खारे पानी में प्रतिबिम्बित सूर्योदय और सूर्यास्त का नजारा एक कलाकार की परिकल्पना में सीधे तादात्मय स्थापित करता महसूस होता है। दीघा बीच की एक अलग खासियत यह है कि यहां पानी की लहरें शांत है और तट से करीब एक किलोमीटर की दूरी तक समुद्र में तैराकी के लिए सुरक्षित है।

Source

इतिहास के पन्नों में भी दीघा का उल्लेख है। इसका मूल नाम वीरकुल है जिसकी खोज 18वीं शताब्दी में अंग्रेजो ने की थी। 1923 में एक अंग्रेज पर्यटक जॉन स्मिथ ने दीघा की खूबसूरती से आकर्षित होकर यहां रहना शुरू किया था। भारत की आजादी के बाद श्री स्मिथ ने दीघा को एक बीच रिसोर्ट के रूप में विकसित करने के लिए पश्चिम बंगाल के पहले मुख्यमंत्री विधान चंद, राय को राजी किया था।

Source

दीघा में हिल्स और सी बीच दोनों ही
दीघा में विकास के नये आयाम को हासिल करने के साथ ही पश्चिम बंगाल देश के उन कुछ राज्यों में शुमार हो जायेगा जहां हिल्स और सी बीच दोनों ही है। हिल्स के रूप में दार्जिङ्क्षलग पश्चिम बंगाल का ताज है तो सी बीच की विशेषता लिए दीघा ‘ब्यूटी ऑफ बंगालÓ है। सी बीच पर वाटर एटीएम, सीसीटीवी एवं वाईफाई के संस्थापन और प्लास्टिक मुक्त जोन बनाए जाने संबंधी कई योजनाएं भी चल रही है। हाल के वर्षों में पर्यटकों के बीच दीघा की लोकप्रियता में बढ़ोतरी हुई है और यहां आने वालों को उम्मीद है कि शीघ्र ही उन्हें ट्राय ट्रेन की सेवा भी मिलेगी। वर्तमान में पर्यटकों के लिए पुरानी दीघा से उदयपुर तक की यात्रा के लिये टैक्सी की सुविधा उपलब्ध है।

Source

डीएसडीए अध्यक्ष एवं तृणमूल कांग्रेस सांसद शिशिर अधिकारी का कहना है कि दीघा के विकास से संबंधित प्रस्ताव राज्य के वित्त विभाग को भेजे गए हैं। पहले इन योजनाओं को निजी सरकारी भागीदारी के जरिए पूरा किए जाने का विचार था, लेकिन अब डीएसडीए स्वयं इन योजनाओं को हाथ में लेगा।

दूसरी तरफ दक्षिण पूर्व रेलवे (एसईआर) ने दीघा स्टेशन पर एक वातानुकूलित प्रतीक्षालय स्थापित किया है और रेल मंत्री सुरेश प्रभु शीघ, ही इसका उदघाटन करेंगे। एक समय में करीब 40-45 लोगों के बैठने की क्षमता वाले इस प्रतीक्षालय में टेलीविजन सेट भी लगाया गया है।

Source

एसईआर के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी संजय घोष ने बताया कि हावड़ा और दीघा के बीच प्रतिदिन तीन ट्रेनें ताम्रलिप्ता एक्सप्रेस, दीघा सुपरफास्ट एसी एक्सप्रेस और कंडारी एक्सप्रेस चलती है । सप्ताहंत और अवकाश के मौकों पर इन ट्रेनों के फेरे भी बढ़ाये जाते हैं। उन्होंने कहा, “हम शीघ्र ही दीघा में वातानुकूलित प्रतीक्षालय का आनंद उठायेंगे। पर्यटक अपना होटल छोडऩे के बाद यहां कुछ घंटे ठहरने का लाभ उठा सकेंगे।” दीघा में शापिंग भी पर्यटकों का एक मनोरंजन से परिपूर्ण उपक्रम है। पर्यटक यहां सुंदर हैन्डीक्राफ्ट और सीपियों से बनी आकर्षक सामग्रियां खरीदते नजर आते हैं।

Choose A Format
Poll
Voting to make decisions or determine opinions
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals
List
The Classic Internet Listicles
Video
Youtube, Vimeo or Vine Embeds
Thanks for loving our story. Like our Facebook page to get more stories.

Send this to a friend