क्या है इस ‘लकी रेस्टोरेंट’ की खासियत


ऐसा कहा जाता है की मौत के बाद इंसान को जन्नत नसीब होती है। पर उस जन्नत में चाय-कॉफी की चुस्की भी मिलती है, ऐसा तो न आपने कभी कहते सुना होगा और न ही देखते। लेकिन ऐसा हकीकत में होता है। जी हां, दुनिया में ऐसी भी जन्नत है जहां कब्रिस्‍तान में चाय से लेकर नाश्ता तक मिलता है। इस जन्नत को ‘न्यू लकी रेस्टोरेंट’ का जाता है।

कहा है जन्नत?

ये जन्नत गुजरात के अहमदाबाद में स्थित है। यह एक जैसी जन्नत है जिसके अंदर घुसते ही आपको हैरानी भी होगी और परेशानी भी। बता दे कि ये जन्नत (न्यू लकी रेस्टोरेंट) कब्रिस्‍तान के बीच में बना हुआ है। इस रेस्‍टोरेंट में कुल 26 कब्रें है। इन्‍हीं कब्रो के बीच में बैठ कर लोग चाय-नाश्ते का मजा लेते हैं।

Source

दरअसल, इस चाय की दुकान को एक टपरी से शुरु किया गया था। यहां लोग सुबह से शाम तक कब्र के पास बैठ की चाय की चुस्कियां लिया करते थे। धीरे-धीरे ये जगह मशहूर होने लगी। चाय के लिए यहां लोगों की भीड़ लगने लगी। बढ़ती भीड़ को देखते हुए चाय की दुकान को भी बढ़ाने का समय आया और ये दुकान फैलते-फैलते कब्रो के आसपास फैल गई। अब लोग यहां कब्रों के बीच में बैठ कर चाय का मजा लेते हैं।

source

पर्यटकों के लिए भी लोकप्रिय है ये लकी रेस्टोरेंट.. 

वैसे अब ये सिर्फ चाय की दुकान नहीं रह गई है। यहां आपको खाने के लिए हर लजीज व्‍यंजन मिलेगा। खास बात तो ये है कि बच्चे बूड़े़ या फिर नौजवान कोई भी हो यहां आने से कतराता नहीं है। कब्रों को यहां स्‍ट्रील की जाली से ढका गया है। यहां हर रोज सफाई की जाती है। कब्रों को पाक चादर से ढकने के बाद उनपर गुलाब के फूल चढ़ाए जाते हैं।

सिर्फ इतना ही नहीं, लोगों का कहना हैं कि अगर कोई अच्‍छे काम के लिए जा रहा हो और यहां से होकर जाए तो उसका काम हो जाता है। पर्यटकों के लिए ये जगह बहुत मशहूर है। पर्यटक यहां सिर्फ घूमने ही नहीं बल्कि यहां आकर खाने का भरपूर मजा लेते हैं।

source

एमएफ हुसैन द्वारा बनाई गई कई पेंटिंग भी यहां लगी है। जिसे हुसैन ने इसी रेस्‍टोरेंट में चाय की चुस्कि‍यां लेते हुए बनाया था। बताते चले कि ये लकी रेस्‍टोरेंट 45 साल पुराना है।