WWE रिंग में ये इकलौती भारतीय महिला रैसलर दिखा रही है दम


WWE की फाइट्स के दुनियाभर में करोड़ों फैंस है और इसी तरह भारत में भी वर्ल्ड रेसलिंग एंटरटेनमेंट की ये फाइट्स खूब पसंद की जाती है। खली अब तक एक मात्र रेसलर थे जिन्होंने WWE में जाकर भारत का परचम फहराया था पर क्या आप जानते है अब भारत की एकमात्र महिला रेसलर भी इन फाइट्स में दुनिया को अपना दम दिखा रही है। इनका नाम है कविता देवी।

कविता को पूर्व डब्ल्यूडब्ल्यूई चैंपियन द ग्रेट खली ने ट्रेन किया है। कविता काफी समय से खली की रेसलिंग अकादमी का हिस्सा रही है जो की जालंधर में है, इस ट्रेनिंग अकादमी का नाम है ‘कॉन्टिनेंटल रैसलिंग एंटरटेनमेंट।’ कविता देवी WWE रिंग में आने वाली इकलौती भारतीय महिला रैसलर हैं।

उनका बैक ग्राउंड वेट लिफ्टिंग है पर उन्होंने दुनिया में अपना नाम चमकाने के लिए रेसलिंग को चुना। और जब डब्ल्यूडब्ल्यूई जैसा मंच मिले तो शोहरत अपने आप मिलने लगती है। आपको बता दें खली की अकादमी में करीब 200-250 रैसलर्स ट्रेनिंग करते हैं और खली उन्हें वर्ल्ड रेसलिंग के लिए तैयार करते हैं।

हाल ही में खली के दो स्टूडेंट्स – सतेंदर डागर और लवप्रीत संघा ने WWE के साथ डील भी साइन की है। जल्द ही ये दोनों भी आपको विश्व स्तर पर जलवा बिखेरते नज़र आ जाएंगे। हालांकि कविता की शुरुआत कुछ ज्यादा बेहतर नहीं रही, हरियाणा की रहने वाली कविता देवी पहली बार डब्ल्यूडब्ल्यूई रिंग में फाइट करने के लिए उतरीं।

सभी भारतीयों को उम्मीदें थी कि वह जीत हासिल कर अपना आगे का रास्ता आसान करेंगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पर उन्हें अभी आगे लम्बा सफर तय करना है तो ये हार उनके लिए बेहतर सबक बन सकती है।

डब्ल्यूडब्ल्यूई भारत समेत मध्य एशिया में अपने पांव पसार रहा है. इसलिए यहां ट्रायल किए जा रहे हैं. इन ट्रायलों में उभरते हुए नए पहलवानों का दमखम देखा जा रहा है. अब देखना होगा की कविता इस सफर को कितना चमकदार बना पाती है पर देशवासियों की शुभकामनाएं उनके साथ है।