आतंकी साजिश, एनआईए से हो जांच : योगी


लखनऊ : उत्तर प्रदेश विधानसभा में सदन के भीतर मिले शक्तिशाली विस्फोटक को खतरनाक आतंकवादी साजिश का हिस्सा करार देते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसकी जांच नेशनल इन्वेस्टीगेशन एजेंसी (एनआईए) से कराने की आज मांग की। सदन की कार्यवाही शुरू होते ही मुख्यमंत्री और नेता सदन ने कहा कि खतरनाक विस्फोटक मिलना बड़ी आतंकवादी साजिश का हिस्सा है। इसका हर हाल में खुलासा होना ही चाहिए।

इसलिये इसकी जांच एनआईए से होनी चाहिए। विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित से उन्होंने आग्रह किया कि इस मामले की जांच एनआईए से करायी जाये। श्री योगी ने कहा कि यह मामला 22 करोड़ लोगों की सुरक्षा से जुड़ा है। इसका खुलासा होना ही चाहिये। इसमें सभी सदस्य सहयोग करेंगे। श्री योगी ने कहा कि सुरक्षा सभी की सामूहिक जिम्मेदारी है। इसमें सबका सहयोग जरूरी है। सफाईकर्मियों को मिला पाउडर पहले सामान्य लगा। लगा कि कोई सामान्य रसायन है, लेकिन जांच के बाद मिले लैब की रिपोर्ट से पता चला कि यह शक्तिशाली विस्फोटक पीईटीएन है।

 

मात्रा तो केवल 150 ग्राम थी लेकिन इसके विस्फोट से बड़ा नुकसान हो सकता था। पूरे विधानभवन को उड़ाने के लिये 500 ग्राम यह विस्फोटक पर्याप्त है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सवाल यह उठता है कि आखिर वे कौन लोग हैं जिन्होंने इसे यहां तक पहुंचाया। जनप्रतिनिधियों के विशेषाधिकार हैं तो क्या उन्हें सुरक्षा में छूट दे देंगे। यह खतरनाक प्रवृत्ति है। खतरनाक स्थिति पैदा हो गयी है। विधानभवन के कर्मियों का पुलिस वैरीफिकेशन होना चाहिये। उन्होंने कहा कि जो भी विधानभवन के अन्दर आये उसकी गहन तलाशी होनी चाहिये। वह जब पहली बार विधान भवन आये तो उन्हें अचरज लगा क्योंकि विधानसभा के सदस्यों से ज्यादा अन्य लोग इधर -उधर घूम रहे थे। किसी को सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करने की छूट नहीं दी जा सकती।

 

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि अजीब बात है कि आतंकी हमले होने की स्थिति में ‘क्वीक रिस्पांस टीम’ नहीं है। हम अपनी सुरक्षा को लेकर ही लापरवाह थे। बिना पास के प्रवेश हर हाल में बंद होना चाहिये। शरारती तत्व इस स्तर पर उतर आये हैं जिसे कभी सोचा नहीं जा सकता। सुरक्षा के सख्त निर्देश होने चाहिये। उन्होंने कहा कि पांच सौ जनप्रतिनिधियों और वर्षों से काम कर रहे विधान भवन के कर्मियों की सुरक्षा में सेंध लगाने की छूट नहीं दी जा सकती। विस्फोटक सामान्य नहीं था क्योंकि बम निरोधक दस्ते के साथ चलने वाला कुत्ता भी इसे सूंघकर पता नहीं लगा पाया था। श्री योगी ने कहा कि सुरक्षा में सेंध लगाने की कोशिश करने वालों को ‘एक्सपोज’ किया ही जाना चाहिये।

 

 

सुरक्षा की गाइड लाइन तय होनी चाहिये। उन्होंने विधायकों से सदन के अन्दर मोबाइल फोन नहीं लाने का आग्रह किया। विधानसभा अध्यक्ष से उन्होंने सदस्यों के लिये भी सदन के बाहर बैग रखने का स्थान सुनिश्चित करने का आग्रह किया। उनका कहना था कि सदस्यों को केवल नोटबुक लेकर सदन में आना चाहिये। उन्होंने कहा कि सुरक्षा व्यवस्था को गंभीर चुनौती दी गयी है इसलिये सभी को इसके खिलाफ मिलकर खडा होना होगा। साजिश करने वाले के खिलाफ ङ्क्षनदा प्रस्ताव पारित करने का भी उन्होंने सुझाव दिया और कहा कि साजिश करने वाले शरारती तत्वों को बेनकाब कर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिये।

(असलम)

Choose A Format
Poll
Voting to make decisions or determine opinions
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals
List
The Classic Internet Listicles
Video
Youtube, Vimeo or Vine Embeds
Thanks for loving our story. Like our Facebook page to get more stories.

Send this to a friend