BREAKING NEWS

लोकसभा चुनाव में भाजपा की जीत पर मोदी के Tweet को इस साल मिले सबसे अधिक LIKE◾नागरिकता संशोधन विधेयक देश के मुसलमानों के खिलाफ नहीं : BJP◾कांग्रेस ने एक व्यक्ति के निजी हित के लिए द्विराष्ट्र के सिद्धान्त को किया स्वीकार : गोयल◾शिवसेना सरकार ने पहले से चल रही परियोजनाओं को रोकने के अलावा कुछ नहीं किया : फडणवीस◾एकनाथ खडसे ने CM उद्धव ठाकरे से की मुलाकात, कहा- भाजपा से कोई दिक्कत नहीं ◾19 साल में मारे गए 22 हजार आतंकी, 370 हटने के बाद भी जारी है घुसपैठ◾शाह की हरी झंडी के बाद होगा कर्नाटक कैबिनेट का विस्तार : मुख्यमंत्री ◾हैदराबाद एनकाउंटर : पुलिस ने दुष्कर्म आरोपियों के एनकाउंटर की रिपोर्ट एनएचआरसी को सौंपी◾TOP 20 NEWS 10 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾उन्नाव रेप मामला : पूर्व बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर पर 16 दिसंबर को कोर्ट सुनाएगा फैसला◾सीएबी बिल पर उद्धव ठाकरे बोले- जब तक कुछ बातें स्पष्ट नहीं होतीं, हम नहीं करेंगे समर्थन◾दिल्ली से लेकर असम तक CAB के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन, मालीगांव में सुरक्षाबलों से भिड़े लोग◾नागरिकता विधेयक का समर्थन करना भारत की बुनियाद को नष्ट करने का प्रयास होगा : राहुल गांधी◾दिल्ली हाई कोर्ट ने अरविंद केजरीवाल के खिलाफ आपराधिक मानहानि मामले की सुनवाई पर लगाई रोक◾लोकसभा में बोले शाह- J&K में हिरासत में लिए गए नेताओं को छोड़ने का निर्णय स्थानीय प्रशासन लेगा◾पीएमओ में सत्ता का केंद्रीकरण अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा नहीं : शिवसेना◾दिल्ली : किराड़ी इलाके के गोदाम में लगी आग, मौके पर पहुंची 8 दमकल की गाड़ियां◾'असंवैधानिक' नागरिकता विधेयक पर लड़ाई सुप्रीम कोर्ट में होगी : चिदंबरम◾हरियाणा : होमवर्क पूरा न करने पर दलित लड़की का मुंह काला कर स्कूल में घुमाया गया ◾नागरिकता संशोधन विधेयक को JDU के समर्थन से प्रशांत किशोर निराश◾

बिहार

JNU में फीस बढ़ोतरी से गरीब प्रभावित नहीं होने चाहिए : आनंद कुमार

 anand

बिहार की सुपर 30’ सुविधा के संस्थापक आनंद कुमार ने मंगलवार को कहा कि जेएनयू में फीस वृद्धि पर जारी विरोध प्रदर्शन का हल सौहार्दपूर्ण तरीके से करना चाहिए। गौरतलब है कि करीब तीन सप्ताह से जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की छात्रावास नियमावली के मसौदे के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, जिसमें छात्रावास की फीस बढ़ाए जाने, ड्रेस कोड और आवाजाही के समय पर प्रतिबंध का जिक्र है। 

केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय ने भी परिसर में सामान्य कामकाज बहाल करने के तरीके सुझाने के लिए सोमवार को तीन सदस्यीय एक समिति का गठन भी किया। जेएनयू की मौजूदा स्थिति पर सवाल किए जाने पर आनंद कुमार ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि फीस में इजाफा केवल उनपर लागू होने चाहिए जो इसका भुगतान करने में सक्षम हैं। 

अमीर और जिनके पास पैसे की कमी नहीं है उन्हें बढ़ी हुई फीस का भुगतान करना चाहिए। उन लोगों पर ध्यान देना चाहिए जो प्रतिभाशाली लेकिन जरूरतमंद हैं।’’ उन्होंने कहा कि गरीब मेधावी छात्रों को छात्रवृत्ति और अन्य तरीके से मदद मुहैया करानी चाहिए। 

उन्होंने कहा, ‘‘अधिकारियों, छात्रों को एक साथ बैठ एक समाधान निकालना चाहिए। सरकार को फीस बढ़ाने के निर्णय पर एक बार फिर विचार करना चाहिए ताकि जरूरतमंद वंचित ना रह जाएं।’’