BREAKING NEWS

PNB धोखाधड़ी मामला: इंटरपोल ने नीरव मोदी के भाई के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस फिर से किया सार्वजनिक ◾कोरोना संकट के बीच, देश में दो महीने बाद फिर से शुरू हुई घरेलू उड़ानें, पहले ही दिन 630 उड़ानें कैंसिल◾देशभर में लॉकडाउन के दौरान सादगी से मनाई गयी ईद, लोगों ने घरों में ही अदा की नमाज ◾उत्तर भारत के कई हिस्सों में 28 मई के बाद लू से मिल सकती है राहत, 29-30 मई को आंधी-बारिश की संभावना ◾महाराष्ट्र पुलिस पर वैश्विक महामारी का प्रकोप जारी, अब तक 18 की मौत, संक्रमितों की संख्या 1800 के पार ◾दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर किया गया सील, सिर्फ पास वालों को ही मिलेगी प्रवेश की अनुमति◾दिल्ली में कोविड-19 से अब तक 276 लोगों की मौत, संक्रमित मामले 14 हजार के पार◾3000 की बजाए 15000 एग्जाम सेंटर में एग्जाम देंगे 10वीं और 12वीं के छात्र : रमेश पोखरियाल ◾राज ठाकरे का CM योगी पर पलटवार, कहा- राज्य सरकार की अनुमति के बगैर प्रवासियों को नहीं देंगे महाराष्ट्र में प्रवेश◾राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने हॉकी लीजेंड पद्मश्री बलबीर सिंह सीनियर के निधन पर शोक व्यक्त किया ◾CM केजरीवाल बोले- दिल्ली में लॉकडाउन में ढील के बाद बढ़े कोरोना के मामले, लेकिन चिंता की बात नहीं ◾अखबार के पहले पन्ने पर छापे गए 1,000 कोरोना मृतकों के नाम, खबर वायरल होते ही मचा हड़कंप ◾महाराष्ट्र : ठाकरे सरकार के एक और वरिष्ठ मंत्री का कोविड-19 टेस्ट पॉजिटिव◾10 दिनों बाद एयर इंडिया की फ्लाइट में नहीं होगी मिडिल सीट की बुकिंग : सुप्रीम कोर्ट◾2 महीने बाद देश में दोबारा शुरू हुई घरेलू उड़ानें, कई फ्लाइट कैंसल होने से परेशान हुए यात्री◾हॉकी लीजेंड और पद्मश्री से सम्मानित बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन◾Covid-19 : दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 54 लाख के पार, अब तक 3 लाख 45 हजार लोगों ने गंवाई जान ◾देश में कोरोना से अब तक 4000 से अधिक लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 39 हजार के करीब ◾पीएम मोदी ने सभी को दी ईद उल फितर की बधाई, सभी के स्वस्थ और समृद्ध रहने की कामना की ◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- निजामुद्दीन मरकज की घटना से संक्रमण के मामलों में हुई वृद्धि, देश को लगा बड़ा झटका ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

बिहार : पटना नगर निगम क्षेत्र में नहीं चलेंगे डीजल ऑटोरिक्शा

प्रदूषण एवं पर्यावरण संकट को लेकर गंभीर बिहार सरकार ने आज बड़ा कदम उठाते हुए 31 जनवरी 2021 की मध्य रात्रि से पटना नगर निगम क्षेत्र में डीजल से चलने वाले ऑटोरिक्शा पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया है। परिवहन विभाग के सचिव संजय अग्रवाल ने आज यहां बताया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई मंत्रिपरिषद की बैठक में इस आशय के प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान की गई है। 

श्री अग्रवाल ने बताया कि शहरी क्षेत्र की परिवेशीय वायु गुणवत्ता में सुधार एवं प्रदूषण रहित परिवहन व्यवस्था के लिए चरणबद्ध तरीके से 31 जनवरी 2021 की मध्य रात्रि से पटना नगर निगम तथा 31 मार्च 2021 की मध्य रात्रि से दानापुर नगर परिषद, फुलवारीशरीफ नगर परिषद और खगौल नगर परिषद क्षेत्र में डीजल से चलने वाले ऑटोरिक्शा पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने बताया कि साथ ही इन क्षेत्रों में संपीड़ति प्राकृतिक गैस (सीएनजी) एवं बैट्री से चलने वाले वाहनों के परिचालन को प्रोत्साहित करने के लिए बिहार स्वच्छ ईंधन योजना, 2019 को मंजूरी दी गई है।

परिवहन विभाग के सचिव ने बताया कि पटना शहरी क्षेत्र में बढ़ते प्रदूषण को नियंत्रित करने एवं लोकहित को ध्यान में रखते हुए परिवेशीय वायु गुणवत्ता में सुधार के लिए पटना नगर निगम, दानापुर नगर परिषद्, फुलवारीशरीफ नगर परिषद एवं खगौल नगर परिषद क्षेत्र में 15 वर्षों से अधिक पुराने सभी प्रकार के व्यावसयिक वाहनों के परिचालन पर तत्कालीक प्रभाव से रोक लगाये जाने के प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान की गई है। 

वायु प्रदूषण के खतरों से निपटने के लिए बिहार सरकार काफी गंभीर है। अभी हाल ही में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य में पंद्रह वर्ष से अधिक पुराने व्यवसायिक एवं सरकारी वाहनों के परिचालन पर रोक लगाने का निर्देश दिया है। श्री कुमार की अध्यक्षता में सोमवार को यहां वायु प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिये हुई उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक में 15 वर्ष से ज्यादा पुराने व्यावसायिक एवं सरकारी वाहनों को वायु प्रदूषण कम करने के लिये प्रतिबंधित करने का निर्णय लिया गया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि 15 वर्ष से पुराने निजी वाहनों की फिटनेस की जांच फिर से की जाये। इस पर सख्ती से कार्रवाई की जाये। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के ईंट-भट्ठे खासकर पटना के आसपास के इलाकों के ईंट-भट्ठे की भी जांच करवा ली जाये कि वे प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिये आधुनिक तकनीक का उपयोग कर रहे हैं या नहीं। इसके लिये सख्ती बरतने की आवश्यकता है। शहर के कचरा उठाने वाली गाड़ कचरे को ढंककर ही डंपिंग प्वाईंट पर ले जायें, इसे हर हाल में सुनिश्चित किया जाये।