BREAKING NEWS

उपचुनाव LIVE : 18 राज्यों की 51 विधानसभा और 2 लोकसभा सीटों पर मतदान जारी◾LIVE : महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए मतदान जारी, गडकरी समेत कई दिग्गजों ने डाला वोट◾LIVE : हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए 90 सीटों पर वोटिंग शुरू ◾केजरीवाल ने BJP पर साधा निशाना - बिजली सब्सिडी खत्म कर देगी भाजपा◾पोस्ट पेमेंट बैंक ने चुनौतियों को अवसर में बदला : PM मोदी ◾प्याज के मुद्दे पर भाजपा का केजरीवाल पर हमला, मुख्यमंत्री आवास का होगा घेराव◾सीमा पार तीन आतंकी शिविर ध्वस्त किये गए, 6-10 पाक सैनिक ढेर : सेना प्रमुख ◾PoK में भारतीय सेना की बड़ी कार्रवाई : सेना ने LoC पार जैश, हिजबुल के 35 आतंकी मार गिराए◾30 अक्टूबर को जामिया के दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति कोविंद होंगे मुख्य अतिथि◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए कल होगा मतदान, BJP लगातार दूसरे कार्यकाल की कोशिश में ◾वैश्विक आर्थिक जोखिमों के कारण बहुपक्षीय सहयोग को मजबूत करने की जरूरत : सीतारमण ◾मनमोहन सिंह करतारपुर गलियारे के औपचारिक उद्घाटन में नहीं होंगे शामिल : सूत्र◾TOP 20 NEWS 20 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भारत की तरफ से गोलीबारी में हमारे 4 जवान शहीद, हमने भारतीय सेना के 9 सैनिकों को मार गिराया : PAK◾कमलेश तिवारी हत्याकांड: योगी से मिले परिजन, पत्नी बोली- CM ने हर संभव कार्रवाई का दिया आश्‍वासन◾भारतीय सेना ने PoK में तबाह किए आतंकी कैंप, 5 पाकिस्तानी सैनिक ढेर◾अभिजीत बनर्जी को लेकर BJP पर राहुल ने साधा निशाना, कहा- ये बड़े लोग नफरत से अंधे हो गए है◾अभिजीत बनर्जी के नोबेल पुरस्कार को राजनीतिक चश्मे से न देखा जाए : मायावती◾क्रिप्टोकरेंसी को लेकर सतर्कता बरत रहे हैं देश : निर्मला सीतारमण◾पाकिस्तान ने किया संषर्ष विराम का उल्लंघन, 2 सैनिक शहीद, 1 नागरिक की मौत◾

बिहार

बिहार : महागठबंधन में मुख्यमंत्री पद पर अभी से घमासान

बिहार विधानसभा चुनाव में अभी भले ही एक साल का समय शेष है, परंतु महागठबंधन में मुख्यमंत्री पद को लेकर अभी से घमासान की स्थिति है। मुख्यमंत्री पद के दावेदारों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। महागठबंधन में शामिल सभी प्रमुख दल अपने-अपने नेता के मुख्यमंत्री पद के लिए योग्य उम्मीदवार होने का दावा ठोंक रहे हैं। 

स्थिति यह है कि हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के मुख्यमंत्री बनने की महत्वकांक्षा फिर से जाग उठी है। पूर्व मुख्यमंत्री मांझी ने कहा है कि विधानसभा चुनाव के बाद यदि महाठबंधन को बहुमत मिलता है और अगर उन्हें नेता चुना जाता है तो वह मुख्यमंत्री बनने को तैयार हैं। 

उन्होंने हालांकि इस मामले में आगे कहा कि महागठबंधन में शामिल सभी दलों की बैठक में यह तय होगा कि अगला मुख्यमंत्री कौन होगा। उन्होंने कहा कि वह नौ महीने तक मुख्यमंत्री रह चुके हैं। वह एक बेहतर मुख्यमंत्री साबित हुए हैं। उनके कार्यकाल को और उनके द्वारा लिए गए फैसलों को जनता याद करती है। 

उन्होंने कहा है यदि दोबारा मौका मिलता है तो वह योग्य मुख्यमंत्री साबित होंगे। उन्होंने कहा कि जब तक दलित मुख्यमंत्री नहीं होगा, तब तक दलितों का विकास नहीं होगा। हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा में बात यहीं नहीं रुकती है। मांझी के पुत्र संतोष मांझी ने भी शुक्रवार को मुख्यमंत्री पद पर अपनी दावेदारी ठोंक दी। 

उन्होंने अपनी तुलना तेजस्वी और चिराग पासवान से करते हुए कहा कि उन दोनों को राजनीति विरासत में मिली है। मगर मैं आज जहां पहुंचा हूं, गरीबों की लड़ाई लड़कर पहुंचा हूं। उन्होंने कहा, "हमलोग गरीब, दुखियों के हक की लड़ाई लड़ते हैं। मैं भी पढ़ा-लिखा हूं। मैं क्यों नहीं मुख्यमंत्री बन सकता।" 

इधर, महागठबंधन में प्रमुख घटक दल राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को अगले चुनाव में बतौर मुख्यमंत्री उम्मीदवार पहले ही घोषित कर दिया है। राजद प्रवक्ता और विधायक शक्ति यादव ने कहा, "राजद मांझी का पूरा सम्मान करता है, लेकिन वह किन परिस्थितियों में मुख्यमंत्री बने, यह सबको पता है। महागठबंधन की हाल के दिनों में हुई बैठक में उन्होंने ऐसी कोई चर्चा नहीं की है।" 

उल्लेखनीय है कि इस बीच, जन अधिकार पार्टी के प्रमुख और पूर्व सांसद पप्पू यादव पिछले एक महीने के अंदर मांझी से दो बार मिल चुके हैं। यही नहीं पप्पू यादव ने तो अति पिछड़ा और दलित को मुख्यमंत्री बनाने में समर्थन देने तक की घोषणा कर दी है। दूसरी ओर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सदानंद सिंह कहते हैं कि आगामी विधानसभा का चुनाव हम किसी के नेतृत्व में नहीं लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के पास नेतृत्व करने वाले कई नेता हैं। 

कांग्रेस के एक अन्य नेता और विधान पार्षद प्रेमचंद्र मिश्रा ने मुख्यमंत्री के लिए जाति की बात करने वाले पर कटाक्ष करते हुए कहा कि ब्राह्मण जाति का नेता मुख्यमंत्री क्यों नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने तो कई बार ब्राह्मण जाति को मुख्यमंत्री बनाया है। बहरहाल, महगठबंधन में शामिल सभी दल भले ही खुद को एकजुट होने का दावा करते हों, परंतु मुख्यमंत्री उम्मीदवार को लेकर महागठबंधन के दल एक बार फिर आमने-सामने नजर आ रहे हैं।