BREAKING NEWS

TET परीक्षा : सरकार अभ्यर्थियों के साथ-योगी, विपक्ष ने लगाया युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ का आरोप◾संसद में स्वस्थ चर्चा चाहती है सरकार, बैठक में महत्वपूर्ण मुद्दों को हरी झंडी दिखाई गई: राजनाथ सिंह ◾त्रिपुरा के लोगों ने स्पष्ट संदेश दिया है कि वे सुशासन की राजनीति को तरजीह देते हैं : PM मोदी◾कांग्रेस ने हमेशा लोगों के मुद्दों की लड़ाई लड़ी, BJP ब्रिटिश शासकों की तरह जनता को बांट रही है: भूपेश बघेल ◾आजादी के 75 वर्ष बाद भी खत्म नहीं हुआ जातिवाद, ऑनर किलिंग पर बोला SC- यह सही समय है ◾त्रिपुरा नगर निकाय चुनाव में BJP का दमदार प्रदर्शन, TMC और CPI का नहीं खुला खाता ◾केन्द्र सरकार की नीतियों से राज्यों का वित्तीय प्रबंधन गड़बढ़ा रहा है, महंगाई बढ़ी है : अशोक गहलोत◾NFHS के सर्वे से खुलासा, 30 फीसदी से अधिक महिलाओं ने पति के हाथों पत्नी की पिटाई को उचित ठहराया◾कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन को लेकर सरकार सख्त, केंद्र ने लिखा राज्यों को पत्र, जानें क्या है नई सावधानियां ◾AIIMS चीफ गुलेरिया बोले- 'ओमिक्रोन' के स्पाइक प्रोटीन में अधिक परिवर्तन, वैक्सीन की प्रभावशीलता हो सकती है कम◾मन की बात में बोले मोदी -मेरे लिए प्रधानमंत्री पद सत्ता के लिए नहीं, सेवा के लिए है ◾केजरीवाल ने PM मोदी को लिखा पत्र, कोरोना के नए स्वरूप से प्रभावित देशों से उड़ानों पर रोक लगाने का किया आग्रह◾शीतकालीन सत्र को लेकर मायावती की केंद्र को नसीहत- सदन को विश्वास में लेकर काम करे सरकार तो बेहतर होगा ◾संजय सिंह ने सरकार पर लगाया बोलने नहीं देने का आरोप, सर्वदलीय बैठक से किया वॉकआउट◾TMC के दावे खोखले, चुनाव परिणामों ने बता दिया कि त्रिपुरा के लोगों को BJP पर भरोसा है: दिलीप घोष◾'मन की बात' में प्रधानमंत्री ने स्टार्टअप्स के महत्व पर दिया जोर, कहा- भारत की विकास गाथा के लिए है 'टर्निग पॉइंट' ◾शीतकालीन सत्र से पूर्व विपक्ष में आई दरार, कल होने वाली कांग्रेस नेता खड़गे की बैठक से TMC ने बनाई दूरियां ◾उद्धव ठाकरे की सरकार के दो साल के कार्यकाल में विपक्ष पूरी तरह से दिशाहीन रहा : संजय राउत◾कांग्रेस Vs कांग्रेस : अधीर रंजन चौधरी के वार पर मनीष तिवारी का पलटवार◾कल से शुरू हो रहा है संसद का शीतकालीन सत्र, पेश होंगे ये 30 विधेयक◾

बिहार में उपचुनाव को लेकर जबरदस्त चर्चा जारी, क्या चुनाव के लिए पप्पू यादव पर है कांग्रेस की नजर

बिहार की राजनीति में अभी होने वाले उपचुनाव को लेकर जबरदस्त चर्चा है। बिहार में 2 विधानसभा सीटों पर 30 अक्टूबर को उपचुनाव होने हैं। उपचुनाव को लेकर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के साथ अपने गतिरोध के बीच, कांग्रेस राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव को अपने चुनाव चिह्न् पर चुनाव लड़वा सकती है।

 कांग्रेस और पप्पू यादव की विचारधारा समान है

पप्पू यादव कोविड महामारी और तालाबंदी के दौरान आम लोगों की मदद करने के अपने प्रयासों के लिए सुर्खियों में रहे है।कांग्रेस विधायक प्रेमचंद्र मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस और पप्पू यादव की विचारधारा समान है और पार्टी के साथ उनके संबंध भी मधुर हैं।कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा ने कहा कि पप्पू यादव को लालू प्रसाद के बाद बिहार का दूसरा सबसे बड़ा नेता माना जाता है। कांग्रेस उनके संपर्क में है। अगर पप्पू यादव चुनाव लड़ने का विचार व्यक्त करते हैं, तो हम उनहें तारापुर निर्वाचन क्षेत्र मुंगेर से टिकट देंगे।

कांग्रेस तारापुर और कुशेश्वर अस्थान दोनों विधानसभा सीटों पर उपचुनाव लड़ने के लिए प्रतिबद्ध 

हालांकि, राज्य कांग्रेस प्रमुख मदन मोहन झा ने कहा कि इस दिशा में अभी तक कोई कदम नहीं उठाया गया है।उन्होंने कहा कि ये पार्टी के अलग-अलग नेताओं के विचार हो सकते हैं, लेकिन यह न तो मेरा विचार है और न ही हमारे शीर्ष नेतृत्व का विचार है। पार्टी तारापुर और कुशेश्वर अस्थान दोनों विधानसभा सीटों पर उपचुनाव लड़ने के लिए प्रतिबद्ध है।

मदन मोहन झा ने बताया कि हमने इन दो निर्वाचन क्षेत्रों में पर्यवेक्षकों को कुछ दिनों के लिए भेजा था और रिपोर्ट पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को सौंपी है। अब तक, चार से पांच उम्मीदवारों ने इन दो सीटों से उपचुनाव लड़ने के संकेत दिए हैं। हमने इनके नाम नई दिल्ली भेजे है। वे उम्मीदवारों के चयन पर निर्णय लेंगे।

कांग्रेस के रुख के बाद राजद की संभावनाओं को किया जा सकता है प्रभावित 

कांग्रेस के रुख के बाद, राजद की संभावनाओं को प्रभावित किया जा सकता है, जिसने घोषणा की है कि वह दोनों सीटों पर चुनाव लड़ेगी, क्योंकि वोटों के विभाजन की अच्छी संभावना है। इतना ही नहीं, पप्पू यादव फैक्टर भी महागठबंधन के वोटों का बंटवारा कर सकता है।एनडीए और जदयू इस बार एक है, दोनों उपचुनाव लड़ रही है और गठबंधन सहयोगी बीजेपी, एचएएम और वीआईपी इसका समर्थन कर रहे हैं।

प्रियंका ने PM मोदी पर साधा निशाना, कहा- लखीमपुर भी आइये, अन्नदाता जो देश की आत्मा हैं, उनकी पीड़ा समझिए