BREAKING NEWS

तुर्किये और सीरिया में आए भीषण भूकंप में 6,200 से अधिक लोगों की मौत◾सुप्रीम कोर्ट में MCD मेयर चुनाव के लिए आप की याचिका पर बुधवार को होगी सुनवाई ◾युवा कांग्रेस ने अडाणी समूह के मामले को लेकर किया प्रदर्शन◾मनोज तिवारी : केजरीवाल मंदिर के पुजारियों के साथ अन्याय कर रहे हैं, इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा◾Bilkis Bano case: सुप्रीम कोर्ट ने दोषियों की सजा में छूट के खिलाफ याचिका पर जल्द सुनवाई का दिया आश्वासन◾अमित शाह बोले- नयी सहकारिता नीति बनने से देश में सहकारी आंदोलन मजबूत होगा◾'कांग्रेस की अडाणी से नजदीकी...', राहुल गांधी के बयानों पर भाजपा सांसद निशिकांत दुबे का पलटवार ◾ममता बनर्जी बोलीं- सिर्फ TMC ही ‘डबल इंजन’ सरकार को सत्ता से कर सकती है बाहर◾असम : बाल विवाह के खिलाफ कार्रवाई के बाद अब समय सीमा के अंदर आरोपपत्र दाखिल करने की बड़ी चुनौती ◾श्रद्धा वाकर हत्याकांड में अदालत ने चार्जशीट पर लिया संज्ञान, 21 को सुनवाई◾ UP Politics: राहुल गांधी का बड़ा आरोप, बोले- 'CM योगी धार्मिक नेता नहीं, बल्कि एक मामूली ठग, बीजेपी कर रही अधर्म'◾AgustaWestland Scam: सुप्रीम कोर्ट ने बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल को जमानत देने से इंकार किया◾CM हिमंत बोले- त्रिपुरा की क्षेत्रीय अखंडता से समझौता नहीं करेगी भाजपा◾झारखंड : मंडी शुल्क के खिलाफ अनाज व्यापारियों का आंदोलन, दुकानें और प्रतिष्ठान बंद रखने का निर्णय ◾गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान, 'देश के 31 जिलों में अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने का प्रावधान'◾पुजारियों को वेतन देने की मांग को लेकर BJP ने केजरीवाल के घर के बाहर किया प्रदर्शन◾Chinchwad bypoll: नाना काटे होंगे एमवीए के उम्मीदवार, भाजपा ने अश्विनी जगताप को दिया चांस ◾आंध्रप्रदेश : आरपीआई नेता के कार्यालय में लगाई आग, दफ्तर पूरी तरह जलकर खाक◾रोडवेज बसों का बढ़ा किराया, अखिलेश यादव बोले- यूपी सरकार ‘‘इन्वेस्टर्स समिट’’ का खर्च जनता से चाहती है वसूलना◾HAL की आलोचना पर कर्नाटक BJP ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- माफी मांगें राहुल गांधी◾

Bihar News: एक मुस्लिम और दूसरा हिन्दू बेटा, मां के अंतिम संस्कार को लेकर भाई के बीच हुआ विवाद

बिहार के लखीसराय जिले से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। जिसे सुनने के बाद आपके होश उड़ जाएंगे।एक वृद्धा की मौत के बाद अंतिम संस्कार को लेकर उनके ही दो बेटे आमने-सामने हो गए। वृद्धा के पहले पति का पुत्र मुस्लिम धर्म का है, जबकि दूसरे पति से हुआ पुत्र हिंदू  है।  

एक पुत्र दफनाने की इच्छा रखता था दूसरा दाह संस्कार करने की। दो अलग-अलग धर्मों से ताल्लुकात रखने वाली वृद्धा और उनके स्व. पति ने अपनी शादीशुदा जिंदगी बगैर किसी विद्वेष के गुजार ली। अब जब वृद्धा के जीवन का अंत हो गया तो दोनों ही बेटे अपनी-अपनी रीति के अनुसार उनका अंतिम संस्कार करने पर अड़ गए। हालांकि जांच-पड़ताल के बाद वृद्धा को पुलिस ने हिन्दू रीति से दाह संस्कार कराने का आदेश दिया और फिर सारी क्रियाएं संपन्न करायी गयीं।

क्या है पूरा मामला 

दरअसल, जानकीडीह के राजेंद्र पंडित ने करीब 40 साल पहले एक मुस्लिम महिला रेखा खातून से शादी की थी। राजेंद्र पंडित की पहली पत्नी का देहांत हो गया था और रेखा भी पूर्व से एक बच्चे की मां थी। रेखा राजेंद्र से शादी के बाद अपने इकलौते पुत्र मो. मोखिल के साथ जानकीडीह अपने पति के साथ जीवन गुजारने आयी थीं। दोनों की शादी से एक पुत्र बबलू पंडित और एक पुत्री नजमा खातून हुई। राजेंद्र पूजा-पाठ कराने का काम करते थे, वहीं नजमा जीवनयापन के लिए सब्जी बेचा करती थी। दोनों के रिश्ते में धर्मों को लेकर कभी कड़वाहट नहीं बनी और खुशी-खुशी जिंदगी गुजारते रहे।

वृद्धा का अंतिम संस्कार कराने की सलाह दी

इस बीच करीब 10 साल पहले राजेंद्र का निधन हो गया। वहीं मंगलवार की सुबह रेखा की भी वृद्धावस्था में मौत हो गई। जब बात अंतिम संस्कार पर आयी तो उनके पुत्र मो. मोखिल और बबलू पंडित आमने-सामने हो गए। मोखिल मां के शव को दफनाने पर अड़ा रहा और बबलू ने दाह संस्कार के जरिए अंतिम संस्कार करने की बात कही।मामला तूल पकड़ते देख पुलिस भी गांव पहुंच गई। एएसपी सैय्यद इमरान मसूद के नेतृत्व में पुलिस की टीम ने दोनों पक्षों को आपसी समन्वय बनाकर वृद्धा का अंतिम संस्कार कराने की सलाह दी। हालांकि बात न बनने की स्थिति में पुलिस ने जांच-पड़ताल शुरू कर दी। पुलिस ने दस्तावेजों को खंगाला तो शादी के बाद वृद्धा रेखा खातून को रेखा देवी के नाम से पाया।

हिन्दू रीति रिवाज से ही उनका अंतिम संस्कार उचित 

इस हिसाब से पुलिस ने वृद्धा को हिन्दू रीति रिवाज के अनुसार ही अंतिम संस्कार कराने का आदेश दिया। इसके साथ ही दोनों भाइयों को आपस में समन्वय बनाकर रहने की सलाह दी गई। इस बीच मौजूद ग्रामीणों ने भी समझाने-बुझाने का कार्य किया। एएसपी सैय्यद इमरान मसूद ने बताया कि दोनों भाइयों को समझा दिया गया है।

दस्तावेजों के आधार पर वृद्धा हिन्दू है। इसलिए हिन्दू रीति रिवाज से ही उनका अंतिम संस्कार होना उचित है। गांव में ही उनका दाह संस्कार कराया जा रहा है। मो. मोखिल ने बताया कि मुझे शव नहीं मिला है, फिर भी अपनी तरीके से क्रिया-कर्म करेंगे। बबलू के द्वारा किए जा रहे क्रिया-कर्म में शामिल नहीं होंगे।