BREAKING NEWS

सोमवार से दिल्ली में फिर खुलेंगे स्कूल, उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने दी जानकारी◾UP: प्रतिज्ञा रैली में BJP पर जमकर गरजी प्रियंका, बोली- 'इनका काम केवल झूठा प्रचार करना'◾राजनाथ ने मायावती और अखिलेश पर तंज कसते हुए कहा- उप्र को न बुआ और न बबुआ चाहिए, सिर्फ बाबा चाहिए◾कांग्रेस नेता आजाद ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- केंद्र शासित प्रदेश बनने से DGP को थानेदार और सीएम को MLA... ◾ट्रेक्टर मार्च रद्द करने के बाद इन मुद्दों पर अड़ा संयुक्त किसान मोर्चा, कहा - विरोध जारी रहेगा ◾ओमिक्रोन कोरोना का डर! PM मोदी बोले- अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने के फैसले की फिर हो समीक्षा◾अक्षर और अश्विन की फिरकी के जाल में फंसा न्यूजीलैंड, पहली पारी में 296 रनों पर सिमटी कीवी टीम ◾'जिहाद यूनिवर्सिटी': पाकिस्तान का वो मदरसा जिसके पास है अफगानिस्तान में काबिज तालिबान की डोर◾अखिलेश यादव ने किए कई चुनावी ऐलान, बोले- अब जनता BJP का कर देगी सफाया ◾संसद में बिल पेश होने से पहले किसानों का बड़ा फैसला, स्थगित किया गया ट्रैक्टर मार्च◾दक्षिण अफ्रीका में बढ़ते नए कोरोना वेरिएंट के मामलों के बीच पीएम मोदी ने की बैठक, ये अधिकारी हुए शमिल ◾कोरोना के नए वैरिएंट को राहुल ने बताया 'गंभीर' खतरा, कहा-टीकाकरण के लिए गंभीर हो सरकार◾बेंगलुरू से पटना जा रहे विमान की नागपुर एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैंडिंग, 139 यात्री और क्रू मेंबर थे सवार ◾कृषि कानूनों को रद्द करने की घोषणा के बाद आंदोलन का कोई औचित्य नहीं : नरेंद्र सिंह तोमर ◾NEET PG काउंसलिंग में देरी को लेकर रेजिडेंट डॉक्टर्स की हड़ताल, दिल्ली में ठप पड़ी 3 अस्पतालों की OPD सेवांए◾नवाब मलिक ने किया दावा, बोले- अनिल देशमुख की तरह मुझे भी फंसाना चाहते हैं कुछ लोग◾वृन्दावन के बांके बिहारी मंदिर में श्रद्धालुओं को जबरन चंदन-टीका लगाकर मांगते थे दक्षिणा, प्रशासन ने लगाई रोक ◾दिल्ली : MCD कर्मियों को मुर्गा बनाने वाले पूर्व MLA आसिफ मोहम्मद खान गिरफ्तार◾छत्तीसगढ़ : दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने उखाड़ा रेलवे ट्रैक, पटरी से उतरे 3 इंजन और 20 डिब्बे ◾भाजपा भी समाजवादी पार्टी के नक्शे कदम पर चल रही है, प्रयागराज हत्या के मामले को लेकर मायावती ने किया ट्वीट ◾

सावन के मौसम में भी बिहार की सियासत गर्म, NDA में खेला शुरू, 2025 में BJP से होगा CM

बिहार में सत्ताधारी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। इस गठबंधन में शामिल घटक दलों में जिस तरह की बयानबाजी हो रही है, उससे सावन के इस मौसम में भी राज्य की सियासत गर्म है। हाल के दिनों में सरकार के मंत्री और भाजपा नेता सम्राट चौधरी के बयान और विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) की नाराजगी ने गर्म सियासत पर घी का काम किया।

भाजपा के नेता और पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने दो दिन पूर्व इस गठबंधन को मजबूरी का गठबंधन करार दे दिया। चौधरी ने कहा, "वर्तमान सरकार और कुछ नहीं बल्कि भाजपा और जदयू दोनों की राजनीतिक मजबूरी है। नीतीश कुमार दोनों पार्टियों की राजनीतिक मजबूरियों के कारण बिहार के मुख्यमंत्री बने। वर्ष 2025 में बिहार का मुख्यमंत्री भाजपा से होगा।"

चौधरी के इस बयान के बाद जदयू ने भी पलटवार करने में देर नहीं की। जदयू के विधान पार्षद संजय सिंह ने कहा, "भाजपा 2015 में अकेले चुनाव लड कर उसका परिणाम देख चुकी है।" उन्होंने कहा कि भाजपा का शीर्ष नेतृत्व भी नीतीश कुमार बिहार राजग का नेता मान चुका है। ऐसे में अगर बिहार भााजपा के किसी नेता को इससे कष्ट हैं तो उसे अपने वरिष्ठ नेताओं से पूछना चाहिए।

अभी राजग के दो बडे घटक दलों भाजपा और जदयू के नेताओं में बयानबाजी चल ही रही थी कि एक अन्य घटक दल विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) ने राजग के वरिष्ठ नेताओं पर ही सवाल दठा दिए। वीआईपी के प्रमुख मुकेश सहनी ने सोमवार को बिहार विधानमंडल के मानसून सत्र को लेकर राजग विधायकों की बैठक का ही वहिष्कार करते हुए कहा, "हमारे विधायकों की बात राजग की बैठक में नहीं सुनी जाती है। ऐसे में राजग की बैठक में जाने का क्या मतलब है।"

मुकेश सहनी ने हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के प्रमुख जीतनराम मांझी के अपमान का भी आरोप लगाया। उन्होंने हालांकि यह भी कहा, "हम नीतीश कुमार के साथ हैं और सरकार को पूरा सहयोग है।" सहनी के राजग से नाराजगी जताए जाने के बाद भाजपा ने भी उन्हें गंभीरता से नहीं लिया। भाजपा के नेताओं ने कहा कि उनके जाने से भी राजग को कोई फर्क नहीं पडेगा।

भाजपा के सांसद अजय निषाद ने कहा, "वीआईपी नेता मुकेश सहनी के चले जाने से राजग पर कोई असर नहीं पडेगा। वे विधनसभा चुनाव हार गए थे और फिर उन्हें विधान पार्षद का सदस्य बनाकर मंत्री तक बनाया गया।" इधर, राजग में मचे घमासान ने विपक्षी दलों को सत्ता पक्ष पर निशाना साधने का एक बडा मौका दे दिया। विपक्ष अब सीधे नीतीश कुमार पर निशाना साध रही है।

विपक्ष के एक नेता कहते हैं कि नीतीश कुमार मजबूरी के मुख्यमंत्री हैं। वे पद नहीं छोड़ना चाहते। राजग घटक दल के नेता लगातार मुख्यमंत्री पर ही प्रश्न उठा रहे है लेकिन 'कुर्सी मोह' के कारण नीतीश कुमार पद नहीं छोड रहे हैं। बहरहाल, राजग में चल रहे बयानों की तीर ने बिहार में इस बारिश के मौसम में भी गर्मी बढा दी है, जिससे विपक्ष भी खुश है। इस बयानबाजी का परिणाम क्या होगा यह तो आने वाला समय ही बताएगा।

बिहार: साहनी ने किया राजग की बैठक से किनारा, अपने ही विधायकों ने घेरते हुए कहा- यह उनका व्यक्तिगत निर्णय