BREAKING NEWS

लालू के घर बजेंगी शहनाई, तेजस्वी यादव की शादी हुई पक्की, दिल्ली में आज या कल होगी सगाई ◾सोनिया ने केंद्र को बताया 'असंवेदनशील', किसानों के साथ रवैये और महंगाई जैसे मुद्दों पर किया सरकार का घेराव ◾World Corona Update : अब तक 26.7 करोड़ से ज्यादा लोग हुए संक्रमित, मृतकों की संख्या 52.7 लाख से अधिक◾RBI ने रेट रेपो 4 प्रतिशत पर रखा बरकरार, लगातार 9वीं बार नहीं हुआ कोई बदलाव◾ओमीक्रॉन पर आंशिक रूप से असरदार है फाइजर वैक्सीन, स्टडी में दावा- बूस्टर डोज कम कर सकती है संक्रमण ◾UP चुनाव : आज योगी और राजभर जनसभा को करेंगे संबोधित, प्रियंका पहला महिला घोषणा पत्र जारी करेंगी ◾बिहार में PM मोदी, अमित शाह और प्रियंका चोपड़ा को लगी वैक्सीन! तेजस्वी यादव ने शेयर की लिस्ट◾मनी लॉन्ड्रिंग केस: ED के सामने आज पेश होंगी जैकलीन फर्नांडीज, गवाह के तौर पर दर्ज कराएंगी बयान ◾Today's Corona Update : भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 8,439 केस सामने आए, 195 लोगों की मौत◾जम्मू-कश्मीर के शोपियां में आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच एनकाउंटर शुरू, इलाके की गयी घेराबंदी ◾किसानों की होगी घर वापसी या जारी रहेगा आंदोलन? एसकेएम की बैठक में आज होगा फैसला ◾ओमिक्रॉन के खतरे के बीच ओडिशा के सरकारी स्कूल में 9 छात्र कोरोना से संक्रमित, किया गया क्वारंटीन ◾अनिल मेनन बनेंगे नासा एस्ट्रोनॉट, बन सकते हैं चांद पर पहुंचने वाले पहले भारतीय◾PM मोदी ने SP पर साधा निशाना , कहा - लाल टोपी वाले लोग खतरे की घंटी,आतंकवादियों को जेल से छुड़ाने के लिए चाहते हैं सत्ता◾ किसान आंदोलन को खत्म करने के लिए राकेश टिकैत ने कही ये बात◾DRDO ने जमीन से हवा में मार करने वाली VL-SRSAM मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾बिना कांग्रेस के विपक्ष का कोई भी फ्रंट बनना संभव नहीं, संजय राउत राहुल गांधी से मुलाकात के बाद बोले◾केंद्र की गलत नीतियों के कारण देश में महंगाई बढ़ रही, NDA सरकार के पतन की शुरूआत होगी जयपुर की रैली: गहलोत◾अमरिंदर ने कांग्रेस पर साधा निशाना, अजय माकन को स्क्रीनिंग कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त करने पर उठाए सवाल◾SKM की बैठक खत्म, क्या समाप्त होगा आंदोलन या रहेगा जारी? कल फाइनल मीटिंग◾

बिहार : जब गांव, घर, खेत पानी में डूबे, तो सड़क किनारे आशियाना बनाने को मजबूर हुए लोग

मुजफ्फरपुर के कांटी प्रखंड के मिठनसराय के रहने वाले लालबाबू साहनी मुजफ्फरपुर-दरभंगा मुख्य मार्ग के किनारे तंबू बना रहे हैं। बरसात के मौसम में तीन से चार महीने इनका ठिकाना यहीं रहेगा। इनके परिवार के सदस्यों की संख्या आठ है। इनके गांव का घर, खेत सबकुछ बाढ़ के पानी में डूब गया। जब इनके रहने का भी ठिकाना नहीं रहा, तो ये सड़क पर आ गए। 

वैसे, लालबाबू साहनी का एक मात्र ऐसा परिवार नहीं जिसका बाढ़ की वजह से ठिकाना बदल गया हो। ऐसे कई परिवार हैं जो अब सड़कों के किनारे तंबू लगाकर जीवन गुजार रहे हैं। लालबाबू कहते हैं कि गंडक नदी के जलस्तर में वृद्घि होने से परेशानी बढ़ जाती है। 

साहनी ने बताया, "मेरे परिवार में बच्चे और सभी मिलाकर 8 सदस्य हैं। किसी तरह ठेला गाड़ी चलाकर पेट भरते हैं। इस साल जुलाई महीने में ही घर में पानी घुस गया। घर में रखी अनाज पानी में बह गया। खेत में मक्का लगा रखा था वह भी डूब गया। अब सपरिवार सड़क पर तंबू बनाकर रहेंगे।"सड़क पर आसरा लिए आशा देवी बताती हैं कि ससुर हरि साह और पति राजेश साह एक मोटर गैरेज में हेल्पर का काम करते हैं, जिससे मेरा परिवार का भरण पोषण होता है। 

आषा के पास रहने को घर तो दूर जमीन भी नहीं है। सरकारी जमीन जो रेलवे के लाइन के पास है उसी में अपनी झोपड़ी बनाकर सपरिवार गुजारा करती है। जब बाढ़ का पानी झोपड़ी में घुस जाता है तो इनका ठिकाना सड़क के किनारे होता है।

आषा कहती हैं, "जब हमलोगों का सारा कुछ डूब जाता है और सड़कों पर आ जाते हैं तब दो-चार दिनों के बाद दो वक्त का खाने का उपाय अधिकारी कर देते हैं, लेकिन कोई ठोस बंदोवस्त। आखिर हम गरीब जाएं तो कहां जाएं?"

इधर, मुकुल साहनी की शिकायत है कि सड़क किनारे रहने वाले लोगों के लिए सरकारी स्तर से अब तक रहने के लिए प्लास्टिक तक उपलब्ध नहीं कराया गया है। उन्होंने कहा कि शौचालय और पीने का पानी भी नदारद है। रात में परिवार के सदस्य जागकर रहते हैं कि कहीं कुछ घटना दुर्घटना ना हो जाए। 

कांटी अंचल के अंचलाधिकारी शिव शंकर गुप्ता बताते हैं कि जिले के वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश के बाद सामुदायिक किचन संचालन के लिए तैयारी शुरू कर दी गई है। उन्होंने कहा कि 4 पंचायतों के कई गांव में बूढ़ी गंडक नदी के पानी से लोग बेघर हुए हैं। उन्होंने कहा कि बाढ़ से घिरे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए नाव का परिचालन प्रारंभ कर दिया गया है। 

इधर, मुजफ्फरपुर (पश्चिम) के अनुमंडल अधिकारी अनिल कुमार दास ने कहा कि स्थानीय अधिकारियों को यह निर्देश दिया गया है कि बाढ़ प्रभावित लोग का हरसंभव ख्याल रखें और जरूरी कदम उठाएं। उन्होंने दावा करते हुए कहा, "गुरुवार को सामुदायिक शौचालय और पीने के पानी की मुकम्मल व्यवस्था करा दी जाएगी। सााथ ही साथ लोगों की सुरक्षा को देखते हुए पुलिस की प्रतिनियुक्ति की जाएगी।"