BREAKING NEWS

UP विधानसभा चुनाव : निषाद पार्टी ने UP की 15 सीटों पर ठोंका दावा, BJP ने अभी नहीं की पुष्टि ◾PM मोदी आज करेंगे दावोस शिखर सम्मेलन को संबोधित, कोविड समेत कई वैश्विक मुद्दों पर कर सकते हैं बात◾राजधानी दिल्ली समेत कई राज्यों में शीतलहर का कहर जारी, जानें कब तक रहेगा ऐसा मौसम◾Covid-19 : विश्वभर में संक्रमण के आंकड़े 32.57 करोड़ से अधिक, अमेरिका सबसे ज्यादा प्रभावित देश◾किसी व्यक्ति की सहमति के बिना जबरन टीकाकरण नहीं कराया जा सकता : SC को केंद्र ने बताया ◾दिग्गज कथक नर्तक पंडित बिरजू महाराज का हुआ इंतकाल, 83 साल की उम्र में ली अंतिम सांस◾SP-RLD को नहीं दिया समर्थन, लोगों को समझने में हुई गलती: राकेश टिकैत◾हरक सिंह रावत को उत्तराखंड मंत्रिमंडल और पार्टी से किया बर्खास्त, कांग्रेस में हो सकते हैं शामिल ◾भाजपा की वरिष्ठ नेता उमा भारती ने पुरी शंकराचार्य से की मुलाकात ◾ नेपाल सरकार का दावा- लिंपियाधुरा, लिपुलेख और कालापानी उसके अभिन्न अंग, निर्माण रोके भारत◾दिल्ली में कोविड-19 के 18,286 मामले आए सामने , 28 रोगियों की मौत ◾भारत के टीकाकरण कार्यक्रम ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में काफी ताकत दी : PM मोदी ◾BJP ने उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री हरक सिंह को पार्टी से किया निष्कासित, कांग्रेस में हो सकते हैं शामिल◾Covid -19 को लेकर WHO ने किया बड़ा खुलासा - कोरोना वायरस पूरी तरह से समाप्त नहीं होगा◾महाराष्ट्र कोरोना : बीते 24 घंटों में आए 41 हजार से ज्यादा नए मामले, शहर में मिली थोड़ी रहत ◾PM मोदी के नेतृत्व की वजह से 157 करोड़ टीके लगाने वाला पहला देश बना भारत - पूनियां◾ जम्मू-कश्मीर : आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर किया ग्रेनेड से हमला, पुलिसकर्मी और आम नागरिक घायल ◾अमित शाह उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर एक बार फिर से करेंगे मैराथन दौरा◾ मुंबई 1993 ब्लास्ट के आरोपी सलीम गाजी की कराची में हुई मौत, डॉन छोटा शकील का रहा करीबी ◾राजस्थान सरकार का अलवर सामूहिक दुष्कर्म की जांच CBI को सौंपने का निर्णय, हाई लेवल मीटिंग में लिया गया फैसला◾

बिहार : क्या उपचुनाव परिणाम के बाद तेजस्वी कर पाएंगें 'खेला', मतगण्ना से चलेगा पता

बिहार उपचुनाव में शनिवार को तारापुर और कुशेश्वरस्थान विधानसभा क्षेत्र के मतदाताओं का फैसला ईवीएम में कैद हो गया। इन दोनों सीटों पर मतों की गिनती दो नवंबर को होनी है। मतदान संपन्न होने के बाद भले ही सभी राजनीतिक पार्टियां जीत का दावा कर रही हैं, लेकिन विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के चुनाव परिणाम के बाद 'खेला होबे' तथा राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के प्रमुख लालू प्रसाद का परिणाम के बाद सत्ता पक्ष में 'भगदड़ मचेगी' जैसे बयानों को लेकर चर्चा तेज है।

अगर दोनों सीटों पर राजद की जीत होती है तो सरकार मुश्किल में आ सकती है।

कहा जा रहा है कि चुनाव परिणाम का तत्काल असर तो बिहार की सियासत में नहीं पड़ने वाला लेकिन भविष्य को लेकर आशंका भी बनी हुई है। राजद के नेताओं के बयानों पर गौर करें तो लालू प्रसाद और तेजस्वी यादव के बयान का साफ मतलब निकाला जा रहा है कि अगर दोनों सीटों पर राजद की जीत होती है तो सरकार मुश्किल में आ सकती है। देखा भी जाए तो सत्ता और विपक्ष में बहुत ज्यादा सीटों का अंतर भी नहीं है। पिछले साल हुए बिहार विधनासभा चुनाव में राजद, कांग्रेस और वामपंथी दल महागठबंधन के तहत चुनाव मैदान में उतरी थी जबकि जदयू, भाजपा, विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) राजग में शामिल थी।

विधानसभा के गणित की बात करें तो 243 सदस्यीय बिहार विधानसभा में बहुमत के आंकडे के लिए 122 सीटों की जरूरत है। फिलहाल राजग के पास 126 विधायकों का समर्थन है जबकि विपक्षी दलों के महागठबंधन में 110 विधायक हैं। राजग के पास हम और वीआईपी के चार-चार विधायकों सहित एक निर्दलीय विधायक का समर्थन है।

इस उपचुनाव में कांग्रेस भले ही राजद से अलग होकर चुनाव लड रही हो...

माना जा रहा है कि इस उपचुनाव में कांग्रेस भले ही राजद से अलग होकर चुनाव लड रही हो, लेकिन जब सरकार बनाने की बात आएगी तो वह राजद के साथ होगी। लालू प्रसाद की पार्टी राजद अगर इन दोनों सीटों पर जीत हासिल कर जाती है तो महागठबंधन में विधायकों की संख्या 112 हो जाएगी। सरकार बनाने के लिए 122 विधायक चाहिए। एआईएमआईएम के पास 5 विधायक हैं, जबकि हम और वीआईपी के पास चार-चार विधायक हैं।

मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की पार्टी हम महागठबंधन में रह चुकी है

चारा घोटाले में जमानत मिलने के बाद लालू प्रसाद इस उपचुनाव को लेकर पटना पहुंचे हैें और लगातार लोगों से मिल भी रहे हैं। गौरतलब है कि मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की पार्टी हम महागठबंधन में रह चुकी है। इधर, जदयू के प्रवक्ता और पूर्व मंत्री नीरज कुमार कहते हैं कि "पिछले चुनाव में ये दोनों सीटें जदयू की थी और इस उपचुनाव में भी जनता का आशीर्वाद जदयू को मिलेगा। किसी को भी सपना देखने से नहीं रोका जा सकता। बिहार के लोग 15 साल पहले के बिहार में कभी नहीं लौटना चाहते।"

जदयू अगर दोनों सीटें जीत जाती हैं तो राजग की ताकत और बढ जाएगी

वैसे, इतना तय माना जा रहा है कि जदयू अगर दोनों सीटें जीत जाती हैं तो राजग की ताकत और बढ जाएगी। जदयू अगर दोनों सीटों पर चुनाव हार जाती है तो भले ही सरकार नहीं गिरे लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर मनोवैज्ञानिक दबाव तो बढ ही जाएगा। हालांकि राजद तब भी विधानसभा में सबसे बड़ी पार्टी बनी ही रहेगी।

सीओपी-26 सम्मेलन में शामिल होने के लिए आज ब्रिटेन पहुंचेंगे मोदी, जॉनसन के साथ होगी द्विपक्षीय वार्ता