BREAKING NEWS

Cyclone Burevi : 'निवार' के हफ्तेभर के अंदर चक्रवात बुरेवी मचाने आ रहा तबाही, PM मोदी ने पूरी मदद का दिलाया भरोसा दिलाया◾उप्र : बरेली में लव जिहाद के आरोप में पहली गिरफ्तारी, चार दिन पहले दर्ज हुआ था केस ◾केजरीवाल का खुलासा - स्टेडियमों को जेल बनाने के लिए डाला गया दबाव पर मैंने अपने जमीर की सुनी◾प्रदर्शनकारी किसानों ने केंद्र सरकार से कहा: कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाएं ◾ध्वनि प्रदूषण रोकने के लिये मस्जिदों में लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल पर रोक लगाए केन्द्र : शिवसेना◾किसान आंदोलन को लेकर केजरीवाल का निशाना - क्या ईडी के दबाव में हैं पंजाब के CM 'कैप्टन अमरिंदर' ◾कैनबरा वनडे : आखिरी मैच जीत भारत ने बचाई लाज, आस्ट्रेलिया को 13 रनों से दी शिकस्त◾एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती के भाई शोविक को मिली जमानत, सुशांत केस में ड्रग्स लेन-देन का आरोप◾फिल्म उद्योग को मुंबई से बाहर ले जाने का कोई इरादा नहीं, ये खुली प्रतिस्पर्धा है : योगी आदित्यनाथ ◾राहुल ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- सरकार ‘बातचीत का ढकोसला’ बंद करे ◾किसान आंदोलन : राजस्थान में कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध की सुदबुदाहट, सीमा पर जुटने लगे किसान◾ सब्जियों के दामों पर दिखा किसान आंदोलन का असर, बाजारों में रेट बढ़ने के आसार ◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾योगी के मुंबई दौरे पर घमासान, मोहसिन रजा बोले - अंडरवर्ल्ड के जरिए बॉलीवुड को धमकाया जा रहा है ◾टकराव के बीच भी इंसानियत की मिसाल, प्रदर्शनकारियों के साथ - साथ पुलिसकर्मियों के लिए भी लंगर सेवा ◾ब्रिटेन ने फाइजर-बायोएनटेक की कोविड वैक्सीन को दी मंजूरी, अगले हफ्ते से शुरू होगा टीकाकरण◾किसान आंदोलन : आगे की रणनीति पर चल रही संगठनों की बैठक, गृह मंत्री के घर पर हाई लेवल मीटिंग ◾किसान आंदोलन को लेकर राहुल का केंद्र पर वार- यह ‘झूठ और सूट-बूट की सरकार’ है◾किसान आंदोलन : टिकरी, झारोदा और चिल्ला बॉर्डर बंद, दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने जारी की रूट एडवाइजरी ◾TOP 5 NEWS 02 DECEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

बिहार को स्पेशल राज्य दर्जा देते हुए स्पेशल पैकेज की घोषण करें केंद्र सरकार : मंजुबाला पाठक

मपटना : बिहार प्रदेश महिला कांग्रेस के पूर्व उपाध्यक्ष मंजुबाला पाठक ने कहा कि जैसा की सर्वविदित है, विगत सालों में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने और स्पेशल पैकेज देने की घोषणा की थी। परन्तु यह अभी तक पुरा नहीं हुआ। बिहार में मजदूरों की संख्या अच्छी-खासी हैं और उसमें भी अकुशल मजदूर ज्यादा हैं। जो देश के अलग-अलग प्रदेशों में मजदूरी करते हैं। वैसे ही बिहार की जनसंख्या का एक बड़ा भाग गरीबी रेखा के नीचे हैं। 

बिहार की आर्थिक स्थिति सही नहीं है। सूबे में उद्योग धंधे का विकास नहीं हुआ, रोजगार की कमी है। बेरोजगारी बहुत अधिक है। मजदूरों का पलायन यहां से ज्यादा होता है। केंद्र सरकार का सौतेला व्यवहार बिहार के साथ जारी है। अभी मजदूरों के पास ना तो रोजगार है ना ही सरकार के पास कोई कार्ययोजना। बिहार की आर्थिक स्थिति खराब है तो रोजगार से संबंधित कोई योजना धरातल पर कार्यरत नहीं है। शिक्षा की स्थिति भी सही नहीं है। रोजगारोन्मुख शिक्षा ना के बराबर है। चूंकि बिहार कृषि प्रधान राज्य है फिर भी कृषि उत्पादकता यहां औसतन कम है। सरकार के तरफ से किसानों को मदद उचित नहीं मिल रही हैं। 

चूंकि मजदूर अकुशल हैं और उनका पलायन दूसरे प्रदेशों में हुआ है तो भी उनका शोषण होता है। ठेकेदारी प्रथा ज्यादा है फिर इसलिए मजदूरों को उचित मेहनताना नहीं मिलता हैं। चूंकि बिहार में रोजगार नहीं है और बिहार की आर्थिक स्थिति सही नहीं है इसलिए बिहार सरकार इस महामारी में भी अपने पूरे मजदूरों को दूसरे प्रदेशों से वापस नहीं बुला रहीं है। क्योंकि यहां मजदूरों के पुनर्वास की कोई सुविधा या कार्ययोजना सरकार के पास नहीं है। 

सरकार मजदूरों के सामने इस लॉकडाउन में सरकार निरीह बनके खड़ी है। कोई भी सरकार का ये राजधर्म होता है कि आपदा या महामारी में कोई उचित कार्य योजना लाए और अपने जनता को उससे उबारे परन्तु सरकार भगवान भरोसे हाथ पर हाथ रखकर खड़ी है। एक ऐसी योजना जिसमें सभी का कल्याण हो, सभी का पेट भरे और सभी का चतुर्दिक विकास हों। बिहार सरकार अपने समस्याओं का ढिंढोरा पीट कर अपने प्रवासी मजदूरों को नहीं ला रही है। बिहार सरकार केवल दिखावा कर रही है। ये समय है तत्परता से काम करने का ना ही केवल झुठा दिलासा देने का। मैं केंद्र सरकार से ये मांग करती हूं कि वो बिहार को स्पेशल राज्य का दर्जा देते हुए स्पेशल पैकेज को देने का अविलंब प्रयास करें ताकि बिहार का विकास हो और मजदूरों को रोजगार मिले।