पटना : कांग्रेस नेता गुलाम नवी आजाद ने कहा कि किसान, नवयुवक और महिला बिरोधी भाजपा को राजनीति न कर सोशल वर्क करना चाहिए। कांग्रेस जोडऩे और भाजपा तोडऩे की राजनीति करती है। सदाकत आश्रम में पत्रकारों से वार्तालाप कर उन्होनें कहा कि केन्द्र में एनडीए की सरकार नही बनने जा रही है। देश का आम आदमी जिनका पार्टी से कोई सबंध नहीं है वह भी भाजपा से खफा है। कांग्रेस गरीबों के हित के लिए सोचती है।

भाजपा पुंजीपतियों की पार्टी रही है। इनके पांच साल के शासन काल में किसान, नोजवान व महिला नाखुश रही। एनडीए सरकार के जीएसटी एवं नोटबंदी से देश के 50 -60 हजार छोटे-छोटे उद्योग बंद हुए जिससे 4 करोड़ 73 लााख नवयुवक बेरोजगार हुये हैं। गलत जीएसटी एवं नोटबंदी ने 24 करोड़ घरों का बर्बाद किया। जीएसटी नीम-हकीम के हाथों जाने से व्यापारियों को घाटा का सामना करना पड़ा है।

उन्होंने कहा कि एनडीए नेनारा दिया बेटी पढ़ाओं बेटी बचाओं वहीं बच्चियों के शिक्षा पर खर्च किये जाने वाले योजना का 20 प्रतिशत केन्द्रिय वजट का काम नहीं हो रहा है। बलत्कार,हत्या की घटनाएं बढ़ी है। एनडीए के शासन से किसान नाखुश हैं वही लोगों को 15 लाख देने का वादा पुरा नहीं किया गया।

उन्होने काह कि लोकसभा का चुनाव भाजपा के विचारधारा और एंटी विचारधारा की लड़ाई है। भाजपा का विचारधारा 5 सालों में और गहरी हो गयी है। बंगाल हिंसा के सबानल पर उन्होनं कहा कि राजनीति में सिद्दांत की लड़ाई होती है सिद्दांत की लड़ाई वोट से होनी चाहिए, तोड़ -फोड़ से नहीं भाजपा का जहां-जहा कदम पड़ा है तोड़ फोड की घटनाएं घटती है।

प्रधानमंत्री किसी काम को मैं का संबोधन करते हैं वही कांग्रेस हम कहती है, इसबार कांग्रेस केन्द्र में मै नहीं हम आयेगा । इस अवसर पर बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल, प्रदेश अध्यक्ष डा. मदन मोहन झा, पूर्व राज्यपाल निखील कुमार,तारिक अनवर, विधान पार्षद प्रेमचन्द मिश्रा, अशोक राम,प्रवक्ता राजेश राठौर, प्रवीण सिंह कुशवाहा,मीडीया प्रभारी एच के बर्मा,राजकुमार झा, अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रवक्ता रिजवान अहमद समेत अन्य उपस्थित थे।