BREAKING NEWS

कोरोना के नए वेरिएंट के बीच भारतीय एयरलाइन कंपनियों ने दोगुनी की कीमतें, जानिए कितना देना होगा किराया ◾IPL नीलामी से पहले कोहली, रोहित, धोनी रिटेन ; दिल्ली की कमान संभालेंगे ऋषभ पंत, पढ़ें रिटेंशन की पूरी लिस्ट ◾गृह मंत्री अमित शाह दो दिन के राजस्थान दौरे पर जाएंगे, BSF जवानों की करेंगे हौसला अफजाई◾पंजाबः AAP नेता चड्ढा ने सभी राजनीतिक दलों पर लगाया आरोप, कहा- विधानसभा चुनाव में केजरीवाल बनाम सभी पार्टी होगा◾'ओमिक्रॉन' के बढ़ते खतरे के बीच क्या भारत में लगेगी बूस्टर डोज! सरकार ने दिया ये जवाब ◾2021 में पेट्रोल-डीजल से मिलने वाला उत्पाद शुल्क कलेक्शन हुआ दोगुना, सरकार ने राज्यसभा में दी जानकारी ◾केंद्र सरकार ने MSP समेत दूसरे मुद्दों पर बातचीत के लिए SKM से मांगे प्रतिनिधियों के 5 नाम◾क्या कमर तोड़ महंगाई से अब मिलेगाी निजात? दूसरी तिमाही में 8.4% रही GDP ग्रोथ ◾उमर अब्दुल्ला का BJP पर आरोप, बोले- सरकार ने NC की कमजोरी का फायदा उठाकर J&K से धारा 370 हटाई◾LAC पर तैनात किए गए 4 इजरायली हेरॉन ड्रोन, अब चीन की हर हरकत पर होगी भारतीय सेना की नजर ◾Omicron वेरिएंट को लेकर दिल्ली सरकार हुई सतर्क, सीएम केजरीवाल ने बताई कितनी है तैयारी◾NIA की हिरासत मेरे जीवन का सबसे ‘दर्दनाक समय’, मैं अब भी सदमे में हूं : सचिन वाजे ◾भाजपा की चिंता बढ़ा सकता है ममता का मुंबई दौरा, शरद पवार संग बैठक के अलावा ये है दीदी का प्लान ◾ओमीक्रोन के बढ़ते खतरे पर गृह मंत्रालय का एक्शन - कोविड प्रोटोकॉल गाइडलाइन्स 31 दिसंबर तक बढा़ई ◾निलंबन वापसी पर केंद्र करेगी विपक्ष से बात, विधायी कामकाज कल तक टालने का रखा गया प्रस्ताव, जानें वजह ◾राहुल के ट्वीट पर पीयूष गोयल ने निशाना साधते हुए पूछा तीखा सवाल, खड़गे द्वारा लगाए गए आरोपों की कड़ी निंदा की ◾कश्मीर में सामान्य स्थिति लाने के लिए बहाल करनी होगी धारा 370 : फारूक अब्दुल्ला◾स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया ने बताया - भारत में अब तक ओमिक्रॉन वेरिएंट का कोई मामला नहीं मिला◾मप्र में शिवराज सरकार के लिए मुसीबत का सबब बने भाजपा के लिए नेताओं के विवादित बयान ◾UP: विधानसभा Election को सियासी धार देने के लिए BJP करेगी छह चुनावी यात्राएं, ये वरिष्ठ नेता होंगे सम्मिलित ◾

बिहार में कोरोना विस्फोट हो चुका है,सरकार सो रही है : मंजूबाला पाठक

पटना,  :  बिहार महिला कांग्रेस की पूर्व उपाधयक्ष मंजूबाला पाठक ने कहा कि बिहार में कोरोना बिस्फोट हो चुका है और सरकार सो रही है।उन्होंने कहा कि बिहार में  कोरोना वायरस ईनफेक्शन के लिए सकारात्मकता दर 5.7 प्रतिशत है - राष्ट्रीय औसत 7.6 प्रतिशत से कम;  हालांकि, कम परीक्षण आधार के लिए समायोजित, चित्र नाटकीय रूप से बदलता है।बिहार में परीक्षण की संख्या बेहद कम है।फिर भी कोरोना के मरीजो की संख्या बढ़ती जा रही है। बिहार ने अब तक केवल 3.3 लाख परीक्षण किए हैं - और इस निम्न आधार को ध्यान में रखते हुए, देश में सकारात्मकता दर सबसे अधिक है।

राज्य सरकार के बुलेटिन के आंकड़ों के अनुसार, केवल दिल्ली, महाराष्ट्र और गुजरात में बिहार की तुलना में सकारात्मकता दर 3.3 लाख से अधिक है।अधिकांश भारतीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की सकारात्मकता दर 4 प्रतिशत से कम थी, जब वे 3 लाख परीक्षण के निशान तक पहुंच गए थे ।असम, जम्मू और कश्मीर, पंजाब, एमपी, यूपी, आंध्र और राजस्थान वर्तमान में 4 प्रतिशत से कम सकारात्मकता वाले राज्यों में से हैं, लेकिन उन्होंने बिहार और हरियाणा की तुलना में अधिक नमूनों का परीक्षण किया है। 

पटना के आसपास के 14 जिलों में सकारात्मकता दर पिछले दो हफ्तों में 4 प्रतिशत से बढ़कर 15 प्रतिशत हो गई है।  यह चिंताजनक है, “डॉ एस के शाही, जो राज्य की राजधानी में इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (IGIMS) में कोविड -19 परीक्षण की देखरेख करते हैं, ने कहा, "पटना में सकारात्मकता दर सबसे खराब है - 8 से 10 फीसदी। बिहार में देश की सबसे कम परीक्षण दर है - सिर्फ 316 प्रति लाख जनसंख्या।  अन्य सभी राज्यों में प्रति लाख 550 से अधिक परीक्षण की दर है, और कुल मिलाकर देश का आंकड़ा 979 नमूने प्रति लाख है।  इस सप्ताह कोविड़ -19 के लिए बिहार भाजपा ऑफिस में सत्तर लोगों को कोविड पॉजिटिव पाया गया। 

 लगभग एक पखवाड़े पहले, राज्य में एक शादी एक सुपर-स्प्रेडर घटना बन गई जिसमें 100 से अधिक लोग वायरस के लिए सकारात्मक परीक्षण कर रहे थे।बिहार में कोविड़ -19 की केवल 23 प्रतिशत मौतें अपने शीर्ष तीन सबसे खराब जिलों में हुई हैं, जो एक व्यापक भौगोलिक प्रसार को दर्शाता है, जो लक्षित हस्तक्षेप को कठिन बनाता है।   बिहार के बारे में चिंता बढ़ रही है क्योंकि-गैर-हॉटस्पॉट ’राज्य जल्दी फैलने वाले राज्यों से आगे निकलने लगे हैं। ये तस्वीर साफ करती है कि कैसे आंकड़ो से खेल चल रहा है बिहार में।फिर भी चिंता की बात ये है कोविड अपने तीसरे स्टेप में जाते हुए दिख रहा है क्यों कि यहां मास ट्रांसमिशन देखने को मिला है।

अब जब परिस्थिति इतनी विषम हो गयी है तब सरकार सिर्फ लॉकडौन कर रही है।परीक्षण की संख्या बढ़ाना होगा और स्वास्थ्य विभाग को मजबूत करना होगा।लोगो को जानकारी देनी होगी कि कैसे कोरोना बिहार में थर्ड स्टेज में पहुच गया है और जनता को खुद ही इससे दूर रहना होगा।बिहार सरकार की लापरवाही न जाने कितने लोगों के लिए काल बनेगी ये तो वक़्त ही बताएगा पर कांग्रेस पार्टी और मेरी तरफ से आपसे यही गुज़ारिश है कि घर पर रहे।मास्क का इस्तेमाल करे।सोशल डिस्टेनसिंग मेन्टेन करें।खुद को सुरक्षित रखे।