BREAKING NEWS

ज्ञानवापी विवाद : मौलाना तौकीर रजा का आह्वान, हर जिले में 2 लाख मुसलमान दें गिरफ्तारी ◾ज्ञानवापी शिवलिंग विवाद : DU प्रोफेसर की गिरफ्तारी को लेकर छात्रों का हंगामा◾NSE Co-Location Case : मुंबई-दिल्ली समेत 10 ठिकानों पर CBI का एक्शन◾नफरत की राजनीति कर रही है BJP, राहुल गांधी के बयान को AAP का समर्थन◾नवनीत राणा को BMC का नोटिस, 7 दिन में जवाब नहीं दिया तो होगी कार्रवाई◾शर्मनाक! JNU कैंपस में MCA की छात्रा से रेप, आरोपी छात्र गिरफ्तार◾उत्तराखंड : सड़क धंसने से यमुनोत्री हाईवे बंद, फंसे 3 हजार यात्री, सख्त हुए पंजीकरण के नियम ◾MP : मुस्लिम समझकर बुजुर्ग की पीट-पीटकर हत्या, Video जारी कर जीतू पटवारी ने गृहमंत्री से पूछा सवाल◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,323 नए केस, 25 मरीजों की हुई मौत ◾रूस ने मारियुपोल पर पूरी तरह से कब्जे का किया दावा, मलबे के ढेर में तब्दील हो चुका है पूरा शहर ◾यूरोप में Monkeypox का कहर, जानें क्या है ये बला, और कैसे फैलता है संक्रमण◾कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में राहुल ने BJP पर जमकर बोला हमला, कहा-भारत में आज अच्छे हालात नहीं◾दिल्ली पुलिस ने DU प्रोफेसर रतन लाल को किया गिरफ्तार, शिवलिंग पर की थी आपत्तिजनक टिप्पणी ◾पिता की पुण्यतिथि पर भावुक हुए राहुल, बोले-मुझे उनकी बहुत याद आती है◾कोविड-19 : विश्व में कोरोना के मामले 52.66 करोड़ के पार, 11 बिलियन से अधिक का हुआ टीकाकरण ◾छह दिन में दूसरी बार बढ़े CNG के दाम, जानिए राजधानी सहित कई शहरों के रेट ◾ शीना बोरा मर्डर केस में इंद्राणी मुखर्जी हुई जेल से रिहा, जानें कैसे और क्यों कराई थी अपनी ही बेटी की हत्या ?◾गुजरात में चुनाव जीतने के लिए नरेश पटेल को उतार सकती है कांग्रेस, सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद होगा एलान ◾कांग्रेस का मोदी सरकार पर तीखा वार, कहा- चीन मसले पर देश को अंधेरे में न रखे केंद्र◾Maharashtra News: राज ठाकरे का ऐलान- नहीं करेंगे 5 जून को अयोध्या का दौरा, जानें- इसके पीछे की वजह◾

आजादी के वर्षों बाद भी मजदूरों की हालत दयनीय : डॉ साहनी

पटना : राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. अनिल कुमार साहनी ने मजदूर रेल हादसे पर कहा कि देश की रेल पटरियों पर आज देश के अपने हाथों से विकास एवं निर्माण करने वाले असंगठित दिहाड़ी मजदूर जो इस लॉकडाउन में लाचार मजबूर एवं भूखमरी का शिकार हो रहे हैं आखिर इसका जिम्मेदार कौन है देश के आज 73 वर्ष आजाद हुए हो गये परन्तु देश के मज़दूर आज एक रोटी के लिए मुहताज है। इन मजदूरों को अपने ही गृह राज्यों में ऐसी व्यवस्था क्यों नहीं की गई जिससे इन गरीबों को घर पर ही रोजगार मिल जाते। 

डॉ.साहनी ने कहा कि आज लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूर रेल पटरी एवं सड़क मार्ग से अपने घर की ओर पैदल और भूखे प्यासे निकल पड़े हैं। ये मजदूर वर्ग को कोरोना वायरस से प्रभावित हो या न हो लेकिन इस प्रस्थिति में भूखे या रेल पटरी या सड़क पर दुर्घटना के शिकार हो कर काल के गाल में समा जायेगा इसकी चिंता नहीं है। इसी का परिणाम महाराष्ट्र से मध्यप्रदेश जा रहे 16 मजदूरों की मृत्यु रेल पटरी पर हो गई।

 

उन्होंने कहा कि भीर भी संवेदनहीन प्रशासन एवं सरकारों को यह समझ नहीं आ रही हैं कि मजदूर हरहाल में अपने घर जाने के लिए आतुर हैं ये असंगठित मजदूरों अक्षित मजदूरों को घर जाने के लिए सरकार ने जो फार्म जारी किया है ये फार्म अंग्रेजी में हैं अब आप सोचिए कि हिंदी भाषी मजदूरों का यह अंग्रेजी में फार्म कौन भरेगा। केन्द्र की भाजपा सरकार हिन्दी के चलन को बढ़ावा देने वाली मानी जाती है मगर मजदूरों के गंभीर समय में अंग्रेजी में घर जाने वाला फार्म जारी करना भाजपा सरकार के संवेदनहीनता को ही दर्शाता है।

डॉ.साहनी ने कहा कि समय रहते मजदूरों को घर जाने के लिए सभी व्यवस्था सरकारों को करनी चाहिए जिससे ये असंगठित मजदूर बिना किसी प्रकार के परेशानी से अपने-अपने घर पहुंच सके। आज देश के व्यवस्था को गरीब वर्ग देख रहा कि व्यवस्था चलाने वाले क्या कर रहा है यदि यह वर्ग समझ गया कि यह व्यवस्था मजदूरों एवं गरीबों के विरोधी है तो ये देश के नव निर्माण कर्ता देश के व्यवस्था को ही बदल देंगे।