BREAKING NEWS

राष्ट्रपति कोविंद और PM मोदी ने गुरु नानक जयंती की दी शुभकामनाएं◾भारत को गुजरात में बदलने के प्रयास : तृणमूल कांग्रेस सांसद ◾विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने डच समकक्ष के साथ विभिन्न विषयों पर चर्चा की ◾महाराष्ट्र गतिरोध : राकांपा नेता अजित पवार राज्यपाल से मिलेंगे ◾महाराष्ट्र : शिवसेना का समर्थन करना है या नहीं, इस पर राकांपा से और बात करेगी कांग्रेस ◾महाराष्ट्र : राज्यपाल ने दिया शिवसेना को झटका, और वक्त देने से किया इनकार◾CM गहलोत, CM बघेल ने रिसॉर्ट पहुंचकर महाराष्ट्र के नवनिर्वाचित विधायकों से मुलाकात की ◾दोडामार्ग जमीन सौदे को लेकर आरोपों पर स्थिति स्पष्ट करें गोवा CM : दिग्विजय सिंह ◾सरकार गठन फैसले से पहले शिवसेना सांसद संजय राउत की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती◾महाराष्ट्र: सरकार गठन में उद्धव ठाकरे को सबसे बड़ी परीक्षा का करना पड़ेगा सामना !◾महाराष्ट्र गतिरोध: उद्धव ठाकरे ने शरद पवार से की मुलाकात, सरकार गठन के लिए NCP का मांगा समर्थन ◾अरविंद सावंत ने दिया इस्तीफा, बोले- महाराष्ट्र में नई सरकार और नया गठबंधन बनेगा◾महाराष्ट्र में सरकार गठन पर बोले नवाब मलिक- कांग्रेस के साथ सहमति बना कर ही NCP लेगी फैसला◾CWC की बैठक खत्म, महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन देने पर शाम 4 बजे होगा फैसला◾कांग्रेस का महाराष्ट्र पर मंथन, संजय निरुपम ने जल्द चुनाव की जताई आशंका◾महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन देने पर कांग्रेस-NCP ने नहीं खोले पत्ते, प्रफुल्ल पटेल ने दिया ये बयान◾BJP अगर वादा पूरा करने को तैयार नहीं, तो गठबंधन में बने रहने का कोई मतलब नहीं : संजय राउत◾महाराष्ट्र सरकार गठन: NCP ने बुलाई कोर कमेटी की बैठक, शरद पवार ने अरविंद के इस्तीफे पर दिया ये बयान ◾संजय राउत का ट्वीट- रास्ते की परवाह करूँगा तो मंजिल बुरा मान जाएगी◾शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने मंत्री पद से इस्तीफे की घोषणा की◾

बिहार

बिहार में बाढ़ का कहर जारी, 79 प्रखंडों की 26 लाख से अधिक आबादी प्रभावित

बिहार के उत्तरी हिस्सों के करीब सभी जिलों में बाढ़ का कहर जारी है। वहीं, नेपाल से आने वाली नदियां बुधवार को भी उफान पर हैं, जिससे अब अन्य क्षेत्रों में भी बाढ़ का पानी चढ़ने लगा है। लोग अपने घर छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर शरण लिए हुए हैं। गौरतलब है कि राज्य के कुल 12 जिलों के 79 प्रखंडों में स्थित 575 पंचायतों तक बाढ़ का असर है। 

बाढ़ से करीब 26 लाख से ज्यादा आबादी प्रभावित है। इस दौरान बाढ़ के पानी में डूबने से 33 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि हजारों घर तबाह हो चुके हैं। राज्य में शिवहर, सीतामढ़ी, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, अररिया, किशनगंज, सुपौल, दरभंगा, मुजफ्फरपुर , सहरसा, कटिहार आर पूर्णिया जिले बाढ़ से प्रभावित हैं। 

कई इलाकों में तो बाढ़ की स्थिति गंभीर बनी हुई है, जबकि कुछ जिलों में बाढ़ का खतरा उत्पन्न होना शुरू हो गया है। इधर, नेपाल से आने वाली नदियों के जलस्तर में बढ़ोतरी देखी जा रही है। बिहार जल संसाधन विभाग के प्रवक्ता अरविंद कुमार सिंह ने बुधवार को बताया कि अधिकतर नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही है, वहीं कमला बलान नदी जयनगर, झंझारपुर में तथा महानंदा ढेंगराघाट में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। 

बिहार :एक नाबालिग छात्र ने पारिवारिक कलह के चलते राष्ट्रपति और पीएम से मांगी इच्छा मृत्यु

कोसी के जलस्तर में हालांकि बुधवार को कमी देखी गई। कोसी का जलस्तर वीरपुर बैराज के पास बुधवार सुबह छह बजे 1.59 लाख क्यूसेक था जो आठ बजे 1.47 लाख क्यूसेक हो गया। इस बीच आपदा प्रबंधन विभाग का दावा है कि बाढ़ प्रभावित इलाकों में राहत एवं बचाव कार्य जारी है। 

राहत और बचाव के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की 26 टीमें लगाई गई हैं। आपदा प्रबंधन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि बाढ़ प्रभावित इलाकों में 185 राहत शिविर स्थापित किए गए हैं, जिनमें 1.12 लाख से ज्यादा लोग शरण लिए हुए हैं। इसके अलावा 812 सामुदायिक रसोइयां स्थापित की गई हैं।

 इस बीच, मुजफ्फरपुर जिले में बागमती नदी के उफान से कटरा व औराई में बाढ़ की स्थिति और भी नाजुक हो गई है। पूर्वी चंपारण के अन्य इलाकों में भी पानी तेजी से रिहायशी इलाकों की ओर बढ़ रहा है। दरभंगा और मधुबनी में लोग सड़कों पर शरण लिए हुए हैं। इस बीच, सुपौल, किशनगंज, मधेपुरा और सहरसा में पानी का दबाव कम हुआ है, मगर कटिहार व अररिया के ग्रामीण क्षेत्रों में बाढ़ का पानी नए क्षेत्रों में भी प्रवेश कर गया है।