BREAKING NEWS

नए कोविड दिशा-निर्देश: सभी जरूरी इंतजाम समय पर किए जाएंगे: दिल्ली हवाई अड्डा◾भारत में‘ओमीक्रोन’ का एक भी मामला नहीं, दक्षिण अफ्रीका से आये एक व्यक्ति में डेल्टा से अलग वायरस प्रतीत ◾किसानों को फसल बुवाई के लिए पर्याप्त बिजली आपूर्ति सुनिश्चित की जाए : मुख्यमंत्री ◾केजरीवाल जी दिल्लीवासियों तक आयुष्मान भारत योजना नहीं पहुंचने दे रहे हैंः BJP राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा◾1 दिसंबर को सिंघु बॉर्डर पर किसान संगठनों की बैठक, क्या आंदोलन खत्म करने पर होगी चर्चा ?◾कोविड अनुकंपा राशि के कम दावों पर SC ने जताई चिंता, कहा- मुआवजे के लिए प्रक्रिया को सरल बनाया जाए◾जिनके घर शीशे के होते हैं, वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते.....सिद्धू का केजरीवाल पर तंज ◾उमर अब्दुल्ला ने कांग्रेस की चुप्पी पर उठाए सवाल, बोले- अनुच्छेद 370 की बहाली के लिए NC अपने दम पर लड़ेगी◾चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा- भविष्य में युद्ध जीतने के लिए नई प्रतिभाओं की भर्ती की जरूरत◾शशि थरूर की महिला सांसदों सग सेल्फी हुई वायरल, कैप्शन लिखा- कौन कहता है लोकसभा आकर्षक जगह नहीं?◾ओवैसी बोले- CAA को भी रद्द करे मोदी सरकार..पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा- इनको कोई गंभीरता से नहीं लेता◾ 'ओमीक्रोन' के बढ़ते खतरे के चलते जापान ने विदेशी यात्रियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की◾IND VS NZ के बीच पहला टेस्ट मैच हुआ ड्रा, आखिरी विकेट नहीं ले पाई टीम इंडिया ◾विपक्ष को दिया बड़ा झटका, एक साथ किया इतने सारे सांसदों को राज्यसभा से निलंबित◾तीन कृषि कानून: सदन में बिल पास कराने से लेकर वापसी तक, जानिये कैसा रहा सरकार और किसानों का गतिरोध◾कृषि कानूनों की वापसी पर राहुल का केंद्र पर हमला, बोले- चर्चा से डरती है सरकार, जानती है कि उनसे गलती हुई ◾नरेंद्र तोमर ने कांग्रेस पर लगाया दोहरा रुख अपनाने का आरोप, कहा- किसानों की भलाई के लिए थे कृषि कानून ◾ तेलंगाना में कोविड़-19 ने फिर दी दस्तक, एक स्कूल में 42 छात्राएं और एक शिक्षक पाए गए कोरोना संक्रमित ◾शीतकालीन सत्र में सरकार के पास बिटक्वाइन को करेंसी के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं: निर्मला सीतारमण◾विपक्ष के हंगामे के बीच केंद्र सरकार ने राज्यसभा से भी पारित करवाया कृषि विधि निरसन विधेयक ◾

भारत रत्न पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन पर राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री समेत नेताओ ने गहरी शोक संवेदना व्यक्त की

पटना : राज्यपाल फागू चौहान एवं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भारत के पूर्व राष्ट्रपति भारतरत्न प्रणब मुखर्जी के निधन पर गहरी शोक-संवेदना व्यक्त की है। राज्यपाल ने अपने शोक संदेश में कहा है कि पूर्व राष्ट्रपति भारतरत्न स्व. मुखर्जी भारतमाता के सच्चे सपूत, एक विद्वान एवं लोकप्रिय राजनेता, सुविख्यात अर्थशास्त्री तथा भारतीय राजनीति के एक ऐसे जाज्वल्यमान नक्षत्र थे, जिनके निधन से भारतवर्ष को एक अपूरणीय क्षति हुई है। वे राजनीति की दुनिया में आजीवन ‘अजातशत्रु’ बने रहे, जिन्हें सभी राजनीतिक दलों के नेता अभिभावकवत पूरे सम्मान के साथ देखते थे। राज्यपाल ने कहा है कि बिहार के सतत विकास हेतु भी वे बराबर अपना मार्ग-दर्शन प्रदान करते रहते थे।

 राज्यपाल ने पूर्व राष्ट्रपति स्व. मुखर्जी की दिवंगत आत्मा को चिरशांति तथा उनके शोक-संतप्त परिजनों और सभी प्रशंसकों को धैर्य-धारण की क्षमता प्रदान करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है।  मुख्यमंत्री ने अपने शोक संदेश में कहा है कि प्रणव मुखर्जी प्रख्यात राजनेता, कुशल प्रशासक, प्रखर वक्ता एवं राजनीति के ऐसे अजातशत्रु थे, जिन्हें पक्ष और विपक्ष समान रूप से आदर और सम्मान देते थे। उन्होंने भारतीय राजनीति में शुचिता और नैतिक मूल्यों की लंबी लकीर खींची है। भारत के 13वें राष्ट्रपति के रूप में प्रणव मुखर्जी जी ने वर्ष 2012 से  2017 तक देश की सेवा की। वर्ष 2019 में उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया। पाॅच दशक के अपने शानदार राजनीतिक जीवन में उन्हें रक्षा, वित्त, विदेश, राजस्व, नौवहन, परिवहन, संचार, आर्थिक मामले, वाणिज्य और उद्योग समेत विभिन्न महत्वपूर्ण मंत्रालयों के मंत्री होने का गौरव हासिल है। उनका जाना एक युग का अंत है।

 अपने सौम्य और मिलनसार स्वभाव के कारण वे सर्वप्रिय थे। प्रणव मुखर्जी जी से मेरा आत्मीय संबंध रहा है और उन्होंने कई मौकों पर मेरा मार्गदर्शन भी किया है। उनके निधन से देश की राजनीति में शून्यता की स्थिति उत्पन्न हो गयी है। उनका निधन मेरे लिये व्यक्तिगत क्षति भी है। मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की चिर शान्ति तथा उनके परिजनों एवं प्रशंसकों को दुःख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है। उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन को अपनी व्यक्तिगत क्षति बताते हुए गहरा शोक व्यक्त किया है।  मोदी ने कहा कि मुझे प्रणव मुखर्जी के वित्तमंत्रित्व काल में उनके सान्निध्य में काम करने का मौका मिला था। 

उनकी वजह से ही मुझे वित्तमंत्रियों की प्राधिकृत समिति के अध्यक्ष के तौर पर जिम्मेवारी दी गई थी। मोदी ने उन्हें राजनीति का अजातशत्रु बताते हुए कहा कि उनकी स्मरण शक्ति अद्भुत थी। 50 वर्ष पूर्व की घटनाएं और उससे जुड़े व्यक्ति के बारे में भी उन्हें सबकुछ स्मरण रहता था। उनकी प्रतिभा की सराहना उनके राजनीतिक विरोधी भी खुले मन से करते थे।  उनके निधन से भारतीय राजनीति की बड़ी क्षति हुई है, जिसकी भरपाई निकट भविष्य में संभव नहीं है। दिवगंत आत्मा की शांति व उनके परिजनों, शुभचिंतकों को इस आघात  को सहने की शक्ति देने की ईश्वर से कामना करता हूं। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने देश के पूर्व राष्ट्रपति भारत रत्न प्रणव मुखर्जी के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है। 

उन्होंने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति मुखर्जी का निधन एक युग का अंत है। उन्होंने अपनी मेहनत से राजनीतिक जीवन में कई महत्वपूर्ण मुकाम हासिल किए। अपने निर्णय एवं कार्यों से देश को नई दिशा दी। वे संसदीय मामलों के विशेषज्ञ थे। विभिन्न पदों पर रहते हुए उन्होंने देश की सेवा की। उन्हें देशवासी हमेशा याद रखेंगे। ईश्वर से उनकी आत्मा को शांति व परिजनों को संबल प्रदान करने की कामना करता हूं। भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री पद्मश्री डॉ.सी०पी०ठाकुर ने भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है। डॉ.ठाकुर ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि दिवंगत प्रणव मुखर्जी एक कुशल राजनेता थे। वे सरल स्वभाव के और काफी मिलनसार थे। 

वे देश के सबसे दिग्गज नेताओं में एक थे। उनके निधन से न केवल सामाजिक बल्कि राजनीतिक क्षेत्र में अपूरणीय क्षति हुई है। डॉ.ठाकुर ने दिवंगत आत्मा की शान्ति तथा उनके परिजनों एवं प्रशंसकों को दुःख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है। देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी जी के निधन पर संवेदना व्यक्त करते हुए भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ.संजय जयसवाल ने कहा कि देश एक महान नेता को खो दिया कुशल वक्ता विद्वान राजनेता सफल राजनीतिक व्यक्ति के रूप में उन्होंने अपनी अलग पहचान बनाई देश में लंबे समय तक राजनीतिक पकड़ बनाए रखने वाले बहुत कम ऐसे नेता थे जिनमें से वह एक थे l उनके जाने से देश को अपूरणीय क्षति हुई है 

 पूर्व राष्ट्रपति  प्रणब मुखर्जी के निधन पर भाजपा के प्रदेश महामंत्री देवेश कुमार  सुशील चौधरी . प्रदेश मुख्यालय प्रभारी सुरेश रुंगटा प्रदेश मंत्री प्रवीण दास ताती, प्रदेश प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल, निखिल आनंद, अरविंद सिंह, डॉक्टर राम सागर सिंह प्रदेश मीडिया प्रभारी राकेश कुमार सिंह, अशोक भट्ट, राजेश झा राजू ने शोक संवेदना व्यक्त की है।  पूर्व मुख्यमंत्री श्रीमती राबड़ी देवी ने देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन के समाचार को पाते ही उन्हें गहरी शोक संवेदना व्यक्त किया  और कहा कि प्रणव दा के निधन का समाचार पा कर पूरा देश शोक मे डूबा गया है। प्रणव दा का निधन पूरे राष्ट्र के लिये अपुर्णीय छती है।उनका व्यक्तित्व शानदार था ,उनके अन्दर अदभुत प्रतिभा थी।

उन्हें इतिहास की गहरी जानकारी थी उनकी याद्दास्त  बहुत मजबूत थी।उन्होंने देश के विभिन्न महत्वपूर्ण पदों पर लंबी समय तक रहकर देश की सेवा की और पदों की गरिमा को बढ़ाई ।ऐसे बिरले राज्य नेता बहुत कम पैदा होते है।उन्हें देश सदा याद रखे गा।ईस्वर उनकी आत्मा को चिर शांति दे , देश को इस शोक को सहन करने की शक्ति दे। पूर्वमंत्री एवम विधायक  तेजप्रताप यादव, राज्यसभा सांसद श्रीमती मीसा भारती ने भी पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी को श्रदांजलि  अर्पित करते हुए कहा कि उनका निधन राजनीतिक एवम सामाजिक जगत के लिये अपुर्णीय क्षती  है। विधायक  भोला यादव ने भी प्रणव दा को श्रधांजलि अर्पित की और कहा कि प्रणव दा के निधन का समाचार जब राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को दी गई तो उन्होंने कहा कि प्रणव मुखर्जी के निधन के समाचार से मैं व्यक्तिगत रूप से मर्माहत एवम दुखी हूं।देश ने अपने एक होनेहार पुत्र को खो दिया है। ईस्वर उनकी आत्मा को चिर शांति दें।