BREAKING NEWS

दवाओं की कोई कमी नहीं, फोन पर पाबंदी से जिंदगियां बचीं : सत्यपाल मलिक◾निगमबोध घाट पर पूरे राजकीय सम्मान के साथ अरुण जेटली का अंतिम संस्कार किया गया◾मन की बात: PM मोदी ने दो अक्टूबर से प्लास्टिक कचरे के खिलाफ जन आंदोलन का किया आह्वान ◾लोकतांत्रिक अधिकारों को समाप्त करने से अधिक राजनीतिक और राष्ट्र-विरोधी कुछ नहीं : प्रियंका गांधी◾जी-7 शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए PM मोदी फ्रांस रवाना◾सोनिया गांधी ने कहा- सीट बंटवारे को जल्द अंतिम रूप दें महाराष्ट्र के नेता◾व्यक्तिगत संबंधों के कारण से सभी राजनीतिक दलों में अरुण जेटली ने बनाये थे अपने मित्र◾अनंत सिंह को लेकर पटना पहुंची बिहार पुलिस, एयरपोर्ट से बाढ़ तक कड़ी सुरक्षा◾पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी बोले- कश्मीर में आग से खेल रहा है भारत◾निगमबोध घाट पर होगा पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का अंतिम संस्कार◾भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए मुख्य संकटमोचक थे अरुण जेटली◾PM मोदी को बहरीन ने 'द किंग हमाद ऑर्डर ऑफ द रेनेसां' से नवाजा, खलीफा के साथ हुई द्विपक्षीय वार्ता◾मोदी ने जेटली को दी श्रद्धांजलि, बोले- सत्ता में आने के बाद गरीबों का कल्याण किया◾जेटली के आवास पर तीन घंटे से अधिक समय तक रुके रहे अमित शाह ◾भाजपा को हर कठिनाई से उबारने वाले शख्स थे अरुण जेटली◾राहुल और अन्य विपक्षी नेता श्रीनगर हवाईअड्डे पर रोके गये, सभी को भेजा वापिस ◾अरूण जेटली का पार्थिव शरीर उनके आवास पर लाया गया, भाजपा और विपक्षी नेताओं ने दी श्रद्धांजलि ◾वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के निधन पर प्रधानमंत्री ने कहा : मैंने मूल्यवान मित्र खो दिया ◾क्रिेकेटरों ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरूण जेटली के निधन पर शोक व्यक्त किया ◾पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली का निधन : राजनीतिक खेमे में दुख की लहर◾

बिहार

राज्यपाल ने न रोको परिन्दों को पुस्तक का लोकार्पण किया

पटना : साहित्य समाज के आगे-आगे मशाल लेकर चलता है और सही रास्ते पर इंसान को चलने की प्रेरणा देता है। कविताएं मनुष्यता की पहचान और प्रतिष्ठा बढ़ाती हैं। गजल भी एक सशक्त काव्य-शैली है, जिसमें सिर्फ इश्क और माशूकी की बातें ही नहीं होतीं बल्कि जीवन की तल्ख सच्चाइयां भी होती हैं और इंकलाबी सपने और संकल्प भी होते हैं।’’ उक्त बातें राज्यपाल लाल जी टंडन ने राजभवन के सभागार में दिनेश कुमार शर्मा (पूर्व जिला जज) रचित गजल-संग्रह ‘‘न रोको परिन्दों को’’ को लोकार्पित करते हुए व्यक्त किये। 

राज्यपाल श्री टंडन ने कहा कि जिन्दगी से लेकर खुदाई तक, दर्द से लेकर हौसलों तक, हकीकतों से लेकर नसीहतों तक -हर तरह की बातों को पूरी गहराई और शिद्दत के साथ रखनेवाली काव्यविधा गजल कवियों, गायकों और आमजन में भी काफी लोकप्रिय है। राज्यपाल ने कहा कि गजल एक ऐसी काव्य-शैली है, जिसमें व्यवस्था और विसंगतियों के प्रति विद्रोह के भाव भी समाहित मिलते हैं। उन्होंने कहा कि कविताएं मनुष्यता की आवाज होती हैं। उनसे मनुष्य को शांति, सदभावना, प्रेम और भाईचारा के साथ जीवन-बसर करने की प्रेरणा मिलती है। राज्यपाल ने कहा कि एक न्यायिक सेवा के अधिकारी में इतनी उत्कृष्ट संवेदनशीलता एवं सुन्दर अभिव्यक्ति-क्षमता वस्तुत: प्रशंसनीय है। उन्होंने कहा कि ‘न रोको परिन्दों को’ नामक पुस्तक का शीर्षक भी काफी सार्थक और प्रेरणादायी है।

लोकार्पण समारोह में बोलते हुए डा. शंकर प्रसाद ने कहा कि ‘रोको न परिन्दों को संग्रह की गजलें काफी उम्दा और अदब की दुनियां में विशेष पहचान बनानेवाली हैं। साहित्यकार डा. श्रीमती भूपेन्द्र कलसी ने कहा कि इस संग्रह की गजलों में जिन्दगी की हकीकतों का बयान है। शायर नाशाद औरंगाबादी ने संग्रह की गजलों में जिन्दगी और जमाने की धडक़नों के जज्ब होने की बात कही। कार्यक्रम में पुस्तक के रचयिता कवि दिनेश कुमार शर्मा ने अपनी रचना-प्रक्रिया पर प्रकाश डालते हुए संग्रह की एक गजल पढक़र भी सुनायी।

कार्यक्रम का संचालन राज्यपाल के जनसम्पर्क पदाधिकारी डा. सुनील कुमार पाठक ने किया, जबकि धन्यवाद-ज्ञापन श्रीकांत सत्यदर्शी ने किया। लोकार्पण-समारोह में बिहार राज्य के मुख्य लोकायुक्त एस. के.  शर्मा, पटना उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश सीएम प्रसाद, राज्यपाल के प्रधान सचिव विवेक कुमार सिंह, अपर सचिव विजय कुमार, विशेष कार्य पदाधिकारी (न्यायिक) फूलचंद चौधरी, ओएसडी संजय कुमार, ओएसडी अहमद महमूद, राज्यपाल के आप्त सचिव संजय चौधरी, विधि पदाधिकारी राघवेन्द्र विक्रम सिंह परमार, श्यामजी सहाय, बिहार हिन्दी साहित्य सम्मेलन के अध्यक्ष अनिल सुलभ, उपाध्यक्ष नृपेन्द्र नाथ गुप्त, डा. शिववंश पाण्डेय, डा. लक्ष्मी सिंह, राजेश शुक्ला आदि भी उपस्थित थे।